Tuesday, September 21, 2021
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
केजरीवाल सरकार छात्रों में विकसित करेगी उद्यमी बनने के गुण, सरकारी स्कूलों में मंगलवार को लॉन्च किया जाएगा बिजनेस ब्लास्टर्स प्रोग्रामदिल्ली और गोवा के ऊर्जा मंत्री में बिजली पर बेहतरीन बहस, भाजपा ने स्वीकार किया कि AAP की पॉलिसी सही है‘आप’ ने पर्यावरणविद स्व. सुंदरलाल बहुगुणा पर हुई ओंछी टिप्पणी के विरोध में भाजपा कार्यालय का किया घेराव प्रदर्शन दिल्ली के सिर पर मंडरा रहे जल संकट के लिए हरियाणा की खट्टर सरकार पूरी तरह से जिम्मेदार- राघव चड्ढाभाजपा शासित हरियाणा सरकार ने 24 घंटे में यदि दिल्ली के हक का पूरा पानी नहीं दिया तो भाजपा के दिल्ली अध्यक्ष आदेश गुप्ता के पानी कनेक्शन को काट दिया जाएगा- सौरभ भारद्वाज दिल्ली महिला आयोग बेहतरीन काम कर रहा है, वर्तमान आयोग के एक और कार्यकाल को मंजूरी दी गई है- अरविंद केजरीवालजिम्मेदार और संवेदनशील सरकार होने के नाते हमारा फर्ज है, हम कोरोना से जान गंवाने वाले लोगों के परिवारों की मदद करें - अरविंद केजरीवालडीएसईयू के 13 कैम्पसों में 15 डिप्लोमा,18 स्नातक और 2 पोस्ट-ग्रेजुएशन कोर्स के लिए किया जा सकेगा आवेदन
National

आनासागर झील के स्वरूप को सीमित करने का षड्यंत्र सुनियोजित व प्रायोजित है - कीर्ति पाठक

July 22, 2021 04:37 PM

आज दिनांक 22-7-21 को आम आदमी पार्टी अजमेर के पदाधिकारियों ने महिला शक्ति प्रदेश अध्यक्ष कीर्ति पाठक के नेतृत्व में आनासागर के इर्द गिर्द स्मार्ट सिटी अजमेर के तत्वावधान में किए जा रहे निर्माण कार्यों का जायज़ा लिया और विरोध स्वरूप एक घंटे का सांकेतिक धरना दिया। 

कीर्ति पाठक ने आरोप लगाया कि स्मार्ट सिटी की आड़ में ज़िला प्रशासन द्वारा आनासागर के साथ खिलवाड़ कर इस के मूल स्वरूप को ख़त्म करने का षड्यंत्र चल रहा है। 

उन्होंने प्रशासन को निशाने पर लेते हुए कहा कि जब बाड़ ही खेत को खाने लगे तो बचाएगा कौन ? 

जब ज़िला प्रशासन ही न्यायपालिका के निर्णय की अवमानना करने लगे तो हम नागरिकों का कर्तव्य बनता है कि अपने अजमेर को बचाने आगे आएँ। 

उन्होंने अजमेर व आनासागर के स्वरूप को बिगाड़ने के लिए बीसियों साल के अजमेर के जनप्रतिनिधि और जन सेवक रहे व्यक्तियों को ज़िम्मेदार ठहराया। 

कीर्ति पाठक ने कहा कि आम आदमी पार्टी ये माँग करती है कि तुरंत प्रभाव से आनासागर से पानी की निकासी पर रोक लगाई जाए , आनासागर की भराव क्षमता पूरी हो , गहराई नापी जाए , no construction zone को मानने के लिए सभी बाध्य हों और अब तक आनासागर के साथ खेलने और गांधारी की भूमिका निभाने वाले सभी जनसेवकों और जनप्रतिनिधियों को जवाबदेह ठहराया जाए। 

उन्होंने 2015 के माननीय उच्च न्यायालय के DB Civil Writ Petition (PIL ) No. 883/2015 पर दिए गए एक निर्णय का हवाला देते हुए कहा कि माननीय उच्च न्यायालय ने 2015 में अजमेर नगर निगम को आनासागर झील के अधिसूचित क्षेत्र सहित उस के 250 मीटर की परिधि में किसी भी प्रकार के निर्माण व भवन योजना को मंज़ूरी देने से मनाही के साथ ही अवैध निर्माणों को ध्वस्त करने हेतु निर्देशित किया था जिस की पालना निगम प्रशासन द्वारा नहीं की गयी। 

उन्होंने माँग की कि आनासागर के मूल स्वरूप सहित इस के भराव क्षेत्र के 250 मीटर की परिधि में हुए समस्त constructions हटाए जाएँ और इधर घर बना कर बसे हुए आम नागरिकों को सरकार अन्यत्र मकान उपलब्ध करवाए और इस का समस्त खर्चा जनप्रतिनिधि रहे व्यक्तियों व जनसेवकों से वसूला जाए। 

साथ ही आनासागर के feeders और निकास के समस्त नाले भी अतिक्रमण मुक्त करवाए जाएँ। 

आज जल भराव की जो समस्या होती है उस का मूल कारण आनासागर के भराव क्षेत्र सहित नालों में बनी हुई अवैध बस्तियाँ ही हैं। 

कीर्ति पाठक का कहना था कि माननीय उच्च न्यायालय के सभी निर्णयों की अनदेखी के मद्देनज़र उच्च न्यायालय के retired judges की एक समिति को एक समय सीमा के साथ जाँच सौंपी जाए और जाँच की रिपोर्ट आने तक आनासागर के भराव क्षेत्र सहित इस के 250 मीटर की परिधि में होने वाले स्मार्ट सिटी अजमेर सहित अन्य सभी चल रहे contructions पर तुरंत प्रभाव से रोक लगाई जाए।

आज के विरोध प्रदर्शन में अल्पसंख्यक प्रकोष्ठ जिला अध्यक्ष अफाक अली, साउथ विधानसभा अध्यक्ष हेमंत गहरवार, मीडिया प्रभारी पृथ्वी सिंह नरूका, जिला प्रवक्ता कल्पित हरित जिला सह कोषाध्यक्ष राजेश नायक, टैक्सी, टेंपो चालक जिला उपाध्यक्ष दीपक कुमार, हेमनंदनी चौहान, ऋषिदत्त शर्मा, ललिता, तनवीर अली, जहीर अली आदि कार्यकर्ताओं का सक्रिय योगदान रहा है।

Have something to say? Post your comment
More National News