Thursday, September 24, 2020
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
किसान विरोधी बिल के खिलाफ 25 सितम्बर को ‘भारत बंद’ में शामिल रहेगी ‘सीवाईएसएस’मोदी सरकार जनता की गाढ़ी कमाई से अखबारों में अंग्रेजी में विज्ञापन देकर अपना चेहरा चमका रही: राघव चड्ढाकिसानों के साथ भद्दा मजाक व फरेबी शरारत है गेहूं के दाम में मामूली वृद्धि - हरपाल सिंह चीमाकिसान बिल के विरोध में आम आदमी पार्टी के सदस्यों ने पटना में किया विरोध प्रदर्शनकिसान विरोधी बिल पास कर भाजपा का किसान हितैषी चेहरा हुआ नंगा : काका बराड़कृषि बिल पर केंद्र की मनमानी, किसानों के अस्तित्व को खतरा - ‘आप’लगातार बढ़ रहा AAP का कुनबा, विकासनगर के लक्ष्मीपुर क्षेत्र में ‘आप’ कार्यालय का शुभारम्भAAP की मजबूती और 2022 में सरकार बनाने के लिए दिन-रात एक कर देंगे - हरचन्द सिंह बरसट
Delhi Election

विधानसभा में मनाया स्वर्गीय चौधरी ब्रह्मप्रकाश का जन्मदिन!

June 16, 2015 09:05 PM

नई दिल्ली:- 16 जून 2015

दिल्ली के प्रथम मुख्यमंत्री चौधरी ब्रह्मप्रकाश के 97वें जन्म दिवस के अवसर पर विधानसभा में आयोजित समारोह में आज दिल्ली के मुख्यमंत्री श्री अरविन्द केजरीवाल की अगुवाई में उन्हें पुष्पांजलि अर्पित की गयी| विधानसभा अध्यक्ष श्री राम निवास गोयल, उपाध्यक्ष श्रीमती बन्दना कुमारी, दिल्ली सरकार के उर्जा एवं स्वास्थ्य मंत्री श्री सत्येन्द्र जैन, चौधरी ब्रह्मप्रकाश के ज्येष्ठ पुत्र श्री सुरेश चौधरी, उनके परिजनों, अनेक स्वतंत्रता सैनानियों और समाजसेवियों ने भी चौधरी ब्रह्मप्रकाश को पुष्प अर्पित किये|    

श्री केजरीवाल ने इस अवसर पर चौधरी ब्रह्मप्रकाश को श्रधांजलि अर्पित करते हुए कहा की चौधरी साहब ने आजीवन गरीबो, पिछड़ों, और वंचितों की आवाज़ बुलंद की है और सत्याग्रह व् आंदोलनों के माध्यम से उनके हक की लड़ाई लड़ी है| उन्होंने दिल्ली को महा दिल्ली बनाने का सपना देखा था| दिल्ली की सीमा से लगे राज्यों के कुछ हिस्सों को मिलाकर महादिल्ली बनाने और उसे एक सशक्त और मजबूत राज्य बनाने के लिए वे संघर्ष करते रहे| लेकिन स्टेटस रीआर्गेनाइजेशन कमीशन की उलट रिपोर्ट के चलते उनका यह सपना साकार न हो सका|

श्री केर्जिवल ने कहा कि दिल्ली को एक विकसित एवं सशक्त राज्य बनाने के लिए उनके सपने को साकार करने के लिए दिल्ली सरकार प्रतिबद्ध और इस दिशा में तेजी से कार्यरत है|

श्री केज्रिवला ने कहा कि 16 जून १९१८ को कीनिया की राजधानी नैरोबी में जन्मे दिल्ली के प्रथम मुख्यमंत्री श्री चौधरी ब्रह्मप्रकाश ने आजादी के आन्दोलनों में अपनी अग्रणी भूमिका निभाते हुए दिल्ली के किसानो, पिछड़ों, दलितों, अल्पसंख्यक समुदाय व् वंचित लोगो की आवाज़ को बुलानी दी| उनकी समस्याहों को गाँव और खेत खलिहानों से उठाकर सत्याग्रह और आन्दोलनों के माध्यम से सरकार के समक्ष पहुँचाने के लिए उन्होंने संघर्ष किया|

उन्होंने कहा कि काहुदाह्री ब्रह्मप्रकाश पंचायती राज प्रथा के प्रबल समर्थक थे और अखिल भारतीय पंचायत परिषद् के कई वर्षों तक सदस्य रहे| सहकारिता आन्दोलन के प्रवर्तक के रूप में चौदह्री साहब पूरे देश में चर्चित माने जाने वाले नेता थे| सहकारिता उनका विश्वास, चिंतन, संकल्प और कर्मक्षेत्र था| सहकारिता के मुख्य सिद्धांत को उन्होंने कार्यरूप कर दिया और राष्ट्रिय स्तर पर अनेक सहकारी समितियों और संघ आदि संगठनों के वे प्रेरणा स्रोत रहे|

श्री केजरीवाल ने घोषणा की कि खेडा डावर में बने चौधरी ब्रह्मप्रकाश आयुर्वेदिक संसथान में चौधरी ब्रह्मप्रकाश की आदमकद प्रतिमा लगायी आएगी| इसके लिए श्री केज्रिवला ने मौके पर ही स्वास्थ्य मंत्री श्री सत्येन्द्र जैन को निर्देश जारी कर दिए|

इस अवसर पर दिल्ली विधानसभा सबह के अध्यक्ष श्री राम निवास गोयल ने चौधरी ब्रह्म प्रकाश  को श्रधांजलि अर्पित करते हुए कहा की वे एक जुझारू राजनेता थे और दिल्ली के विकास के लिए निरंतर प्रयत्नशील रहे| उन्होंने कहा कि २०१८ को चौधरी ब्रह्मप्रकाश की जन्मशती के रूप में मनाया जायेगा|

 

Have something to say? Post your comment
More Delhi Election News