Friday, June 18, 2021
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने की दिल्ली स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी के प्रगति की समीक्षा बैठकविकास मंत्री गोपाल राय ने कर्दमपुरी में राशन वितरण केंद्र का लिया जायजाजुलाई के अंत तक जारी की जाए 12 वी के छात्रों की मार्कशीट - सिसोदियादिल्ली सरकार कोरोना की संभावित तीसरी लहर के मद्देनजर पांच हजार हेल्थ असिस्टेंट तैयार करेगी- अरविंद केजरीवालशिक्षा को जन आंदोलन बनाना मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का है सपना - मनीष सिसोदियादिल्ली सरकार की अनूठी पहल, विदेश यात्राओं पर जाने वाले नागरिकों के लिए शुरू किया स्पेशल वैक्सीनेशन सेंटरवैक्सीनेशन केंद्रों का निरीक्षण किया जा रहा है, सभी जगहों से सकारात्मक रूझान मिल रहे है- गोपाल रायसंयोजक केजरीवाल ने अहमदाबाद में किया प्रदेश स्तरीय कार्यालय का उद्घाटन, वरिष्ठ पत्रकार इसूदान AAP में शामिल
National

बच्चों की जान जोखिम में डालकर परीक्षाएं करवाना सही नहीं है - मनीष सिसोदिया

रविंद्र कुमार | May 24, 2021 12:32 AM

नई दिल्ली। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने भारत सरकार के शिक्षा मंत्रालय द्वारा रविवार को 12वीं बोर्ड परीक्षाओं के आयोजन को लेकर की गई मीटिंग में कुछ महत्वपूर्ण सुझाव दिए हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना की दूसरी लहर में प्रत्येक परिवार आर्थिक, शारीरिक या मानसिक तौर पर प्रभावित हुआ है। साथ ही परीक्षाओं को लेकर बनी अनिश्चित्ताओं से विद्यार्थियों के साथ-साथ उनके शिक्षकों और अध्यापकों में भी तनाव बढ़ा है।

केंद्र सरकार फाइजर से बात करे जिसने 12 साल से ऊपर के बच्चों की वैक्सीन बनाई है। वो वैक्सीन भारत के 12वीं में पढ़ने वाले 1.4 करोड़ बच्चों के लिए उपलब्ध हो सकती है। इसी के साथ सभी शिक्षकों को भी प्राथमिकता के आधार पर वैक्सीन उपलब्ध करवाए। इसके बाद ही परीक्षा आयोजित करवाने की सोचे।

अब सबका मानना है कि बोर्ड परीक्षाओं को लेकर जल्द निर्णय लिया जाए। मीटिंग के दौरान उपमुख्यमंत्री ने कहा की इस संकट के समय बच्चों की सुरक्षा से खिलवाड़ कर बोर्ड परीक्षाओं का आयोजन करवाना बहुत बड़ी नासमझी होगी। उन्होंने कहा कि देश में कोरोना की तीसरी लहर से लड़ने की तैयारी की जा रही है और अभी भी प्रतिदिन लगभग 2.5 लाख कोरोना केस आ रहे है। ऐसे हालात में परीक्षा के लिए न तो बच्चे तैयार हैं न ही उनके पेरेंट्स और टीचर्स ।

उपमुख्यमंत्री ने कहा की पहले बच्चों को वैक्सीन उपलब्ध करवाई जाए उसके बाद परीक्षा ली जाए। अगर वैक्सीन नहीं उपलब्ध होती है तो परीक्षा रद्द कर दी जाए और 10 वीं की तर्ज पर मूल्यांकन कर रिजल्ट घोषित किया जाए। ये मूल्यांकन पूरे साल के यूनिट टेस्ट, प्री-बोर्ड परीक्षाओं, प्रैक्टिकल, पूर्व की कक्षाओं में बच्चे के प्रदर्शन के आधार पर हो सकता है । साथ ही विद्यार्थियों को ये सुविधा भी दी जाए कि यदि कोई अपने रिजल्ट से संतुष्ट नहीं हों तो सिर्फ उनके लिए भविष्य में परीक्षा आयोजित की जाए।

संकट की इस घड़ी में भारत सरकार की पहली प्राथमिकता बच्चों को वैक्सीनेट करने की होनी चाहिए। केंद्र सरकार फाइजर से बात करे जिसने 12 साल से ऊपर के बच्चों की वैक्सीन बनाई है। वो वैक्सीन भारत के 12वीं में पढ़ने वाले 1.4 करोड़ बच्चों के लिए उपलब्ध हो सकती है। इसी के साथ सभी शिक्षकों को भी प्राथमिकता के आधार पर वैक्सीन उपलब्ध करवाए। इसके बाद ही परीक्षा आयोजित करवाने की सोचे।

साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि केंद्र सरकार हेल्थ एक्सपर्ट्स से बात करे कि भारत में बनी 18 वर्ष के लोगों की दी जाने वाले वैक्सीन क्या 17.5 वर्ष के बच्चों को दी जा सकती है। अगर एक्सपर्ट सहमत हों तो 12वीं में पढ़ने वाले लगभग 95% विद्यार्थी को भारत में उपलब्ध वैक्सीन दी जा सकती है क्योंकि वो 17.5 साल की उम्र से उपर हैं। उन्होंने कहा की यदि दिल्ली को 12वीं के विद्यार्थियों के लिए वैक्सीन मिलती है तो सरकार 2 दिन के भीतर सभी विद्यार्थियों को वैक्सीन लगाने में सक्षम है।

उपमुख्यमंत्री ने कहा कि शिक्षा तंत्र, बोर्ड सबका यही मानना है कि परीक्षा हो लेकिन ये केवल आदर्श समय में ही संभव है प्रैक्टिकल वर्ल्ड में बच्चों की जान जोखिम में रखकर परीक्षा लेना संभव नहीं है। इसलिए आज हमें एक अभिभावक के रूप में निर्णय लेने की ज़रूरत है कि हमारे बच्चों की सुरक्षा के लिए क्या बेहतर होगा। समय की मांग है कि जब तक वैक्सीनेशन न हो जाए तब तक 12वीं की परीक्षा न हो ।

Have something to say? Post your comment
More National News
उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने की दिल्ली स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी के प्रगति की समीक्षा बैठक
विकास मंत्री गोपाल राय ने कर्दमपुरी में राशन वितरण केंद्र का लिया जायजा
जुलाई के अंत तक जारी की जाए 12 वी के छात्रों की मार्कशीट - सिसोदिया
दिल्ली: मंत्री गौतम ने नंदनगरी में वैक्सीनेशन सेंटरों का निरीक्षण किया, लोगों को मिल रही सुविधाओं का जायजा लिया
दिल्ली सरकार कोरोना की संभावित तीसरी लहर के मद्देनजर पांच हजार हेल्थ असिस्टेंट तैयार करेगी- अरविंद केजरीवाल
शिक्षा को जन आंदोलन बनाना मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का है सपना - मनीष सिसोदिया
दिल्ली सरकार की अनूठी पहल, विदेश यात्राओं पर जाने वाले नागरिकों के लिए शुरू किया स्पेशल वैक्सीनेशन सेंटर
वैक्सीनेशन केंद्रों का निरीक्षण किया जा रहा है, सभी जगहों से सकारात्मक रूझान मिल रहे है- गोपाल राय
संयोजक केजरीवाल ने अहमदाबाद में किया प्रदेश स्तरीय कार्यालय का उद्घाटन, वरिष्ठ पत्रकार इसूदान AAP में शामिल
कोविड काल का बिजली बिल माफ़ और दिल्ली की तर्ज पर 200 यूनिट तक फ़्री बिजली की मांग को लेकर सड़कों पर AAP