Saturday, January 16, 2021
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
मोहल्ला सभाओं में जनता ने कहा- “भाजपा ने एमसीडी को भ्रष्टाचार का कारखाना बना दिया है…”जीएनएम छात्राओं ने ‘आप’ सांसद संजय सिंह से लगाई गुहार, प्रवक्ता बबलू प्रकाश को सौंपा ज्ञापनदिल्ली की साफ-सफाई और भ्रष्टाचार की समस्या के समाधान के लिए MCD में AAP की सरकार बनाना बेहद जरूरी- आतिशीहरियाणा सरकार किसानों के शांतिपूर्ण आंदोलन को असफल करने का षडयंत्र रच रही है: डॉ सुशील गुप्ताकिसानों पर लाठीचार्ज व आंसू गैस के गोलों का प्रयोग, सरकार का किसान विरोधी चेहरा बेनकाब‘केजरीवाल मॉडल’ से प्रभावित होकर धर्मपुर में किसान-युवाओं ने थामा ‘आप’ का दामन: प्रवक्ता भट्टसांसद संजय सिंह और भगवंत मान ने प्रधानमंत्री मोदी से काले कानूनों को वापस लेने की मांग की, ‘आप’ ने कहा- ‘किसानों को पूंजीपतियों के हाथों बेचने की बजाय एमएसपी की गारंटी दी जाए’कोविड वैक्सीन देने के लिए दिल्ली की तैयारी पूरी, पहले चरण में 51 लाख लोगों को दी जाएगी वैक्सीन
National

दिल्ली सरकार ने श्रमिकों की न्यूनतम मजदूरी बढ़ाई, कोरोना संकट में संशोधित मजदूरी का भुगतान के हुए निर्देश

December 04, 2020 11:57 PM

नई दिल्ली: उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने आज शुक्रवार को दिल्ली के अकुशल, अर्द्धकुशल और अन्य श्रमिकों का महंगाई भत्ता बढ़ाने का आदेश जारी किया है। उन्होंने कहा है कि अरविंद केजरीवाल के नेतृत्व वाली दिल्ली सरकार ने अपनी मजदूर-परस्त नीतियों के तहत यह कदम उठाया है। श्री सिसोदिया के अनुसार गरीब और मजदूर वर्ग के हितों को ध्यान में रखते हुए कोरोना महामारी के दौर में यह बड़ा कदम उठाया गया है। इसका लाभ लिपिक और सुपरवाइजर किस्म के कर्मचारियों की भी मिलेगा। उल्लेखनीय है कि भारत सरकार के वित्त मंत्रालय ने अर्थव्यवस्था पर कोविड-19 के प्रभाव के कारण नियमित सरकारी कर्मचारियों के लिए जनवरी से जून 2020 तक महंगाई भत्ते के अंक जोड़ने पर रोक लगा रखी है।

श्री सिसोदिया ने कहा असंगठित क्षेत्र के ऐसे श्रमिकों के महंगाई भत्ते पर रोक नहीं लगाई जा सकती, जिन्हें सामान्यतः केवल न्यूनतम मजदूरी मिलती है। खासकर कोरोना संकट के दौरान ऐसा करना मजदूरों के हित में नहीं है। इसीलिए दिल्ली सरकार ने महंगाई भत्ते जोड़कर नया न्यूनतम वेतन की घोषणा की है। यह दरें 01.10.2020 से लागू होंगी। श्री सिसोदिया ने बढ़ी हुई दर से सभी श्रमिकों और कर्मचारियों को भुगतान सुनिश्चित करने का निर्देश दिया है। अकुशल मजदूरों के लिए मासिक 15,492 रुपये(दैनिक 596 रु.), अर्द्धकुशल श्रमिकों के लिए मासिक 17,069 रुपये(दैनिक 657 रु.) तथा कुशल श्रमिकों के लिए मासिक 18,797 रुपये(दैनिक 723 रु.) तय की गई है। इसके अलावा, लिपिक और सुपरवाइजर किस्म के कर्मचारियों की भी न्यूनतम मजदूरी की दरें बढ़ाई गई हैं। इनमें गैर मैट्रिक को मासिक 17,069 रुपये(दैनिक 657 रु.), मैट्रिक से गैर-स्नातक तक को मासिक 18,797 रुपये(दैनिक 723 रु.) तथा स्नातक और उससे अधिक शैक्षणिक योग्यता वाले को मासिक 20,430 रूपये(दैनिक 786 रु.) मिलेंगे।

श्री सिसोदिया ने कहा कि औसत अखिल भारतीय उपभोक्ता मूल्य सूचकांक संख्या के समायोजन के बाद श्रम विभाग द्वारा महंगाई भत्ता का निर्धारण किया जाता है। इसे हर दो बार अप्रैल और अक्टूबर में संशोधित किया जाता है। श्री सिसोदिया ने कहा कि कोरोना से उत्पन्न आर्थिक मंदी के कारण इस साल अप्रैल में महंगाई भत्ते को संशोधित नहीं किया जा सका, लेकिन उसके बाद महंगाई बढ़ने के कारण दिल्ली सरकार ने गरीबों, मजदूरों और कर्मचारिओं के हित में यह कदम उठाया है।

Have something to say? Post your comment
More National News
मोहल्ला सभाओं में जनता ने कहा- “भाजपा ने एमसीडी को भ्रष्टाचार का कारखाना बना दिया है…”
जीएनएम छात्राओं ने ‘आप’ सांसद संजय सिंह से लगाई गुहार, प्रवक्ता बबलू प्रकाश को सौंपा ज्ञापन
दिल्ली की साफ-सफाई और भ्रष्टाचार की समस्या के समाधान के लिए MCD में AAP की सरकार बनाना बेहद जरूरी- आतिशी
हरियाणा सरकार किसानों के शांतिपूर्ण आंदोलन को असफल करने का षडयंत्र रच रही है: डॉ सुशील गुप्ता
किसानों पर लाठीचार्ज व आंसू गैस के गोलों का प्रयोग, सरकार का किसान विरोधी चेहरा बेनकाब बिहार में अपराधियों का बोलबाला, जनता को बलात्कारियों व हत्यारों के हवाले कर रही है सरकार: बबलू प्रकाश
‘केजरीवाल मॉडल’ से प्रभावित होकर धर्मपुर में किसान-युवाओं ने थामा ‘आप’ का दामन: प्रवक्ता भट्ट
जंगपुरा विधायक प्रवीण हरिद्वार में पीड़ित परिवार से मिले, कहा- सीबीआई जांच हो, जल्द पकडे जांए आरोपी
सांसद संजय सिंह और भगवंत मान ने प्रधानमंत्री मोदी से काले कानूनों को वापस लेने की मांग की, ‘आप’ ने कहा- ‘किसानों को पूंजीपतियों के हाथों बेचने की बजाय एमएसपी की गारंटी दी जाए’
दिल्ली की केजरीवाल सरकार बिजनेस करने के इच्छुक युवाओं की मदद के लिए स्टार्टअप पॉलिसी लाएगी