Sunday, January 24, 2021
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
मोहल्ला सभाओं में आकर जनता खुद कर रही BJP के भ्रष्टाचार का खुलासा, जनता में भाजपा के प्रति जबरदस्त गुस्सा‘आप’ ने स्थानीय चुनाव में कांग्रेस द्वारा सरकारी तंत्र के दुरुपयोग की आशंका जताईबिहार में हजारों स्टूडेंट्स का भविष्य खतरे में, ‘आप’ सांसद संजय सिंह ने सीएम नीतीश को लिखा पत्रविधायक चड्ढा ने मिड-डे मील के 3200 राशन किट का वितरण किया, किट में चावल, दाल और रिफाइंड तेल मौजूदमोहल्ला सभाओं में जनता ने कहा- “भाजपा ने एमसीडी को भ्रष्टाचार का कारखाना बना दिया है…”जीएनएम छात्राओं ने ‘आप’ सांसद संजय सिंह से लगाई गुहार, प्रवक्ता बबलू प्रकाश को सौंपा ज्ञापनदिल्ली की साफ-सफाई और भ्रष्टाचार की समस्या के समाधान के लिए MCD में AAP की सरकार बनाना बेहद जरूरी- आतिशीहरियाणा सरकार किसानों के शांतिपूर्ण आंदोलन को असफल करने का षडयंत्र रच रही है: डॉ सुशील गुप्ता
National

पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम कैप्टन अमरिंदर के बीच सांठगांठ, देश का किसान ठगा जा रहा है- राघव चड्ढा

November 29, 2020 09:44 PM

नई दिल्ली: आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता एवं प्रवक्ता राघव चड्ढा ने कहा कि कांग्रेस शासित पंजाब के सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह वास्तविकता में भाजपा के मुख्यमंत्री हैं। देश के किसानों के आंदोलन को कुचलने में भाजपा के बराबर ही सीएम कैप्टन अमरिंदर सिंह भी जिम्मेदार हैं। पीएम नरेंद्र मोदी और कैप्टन अमरिंदर सिंह के बीच सांठगांठ और दोस्ती है, जिसके चलते देश के किसानों को ठगा जा रहा है। कांग्रेस ने 2019 के चुनावी घोषणा पत्र में केंद्र की सत्ता में आने पर एपीएमसी मार्केट को खत्म करने और मोदी सरकार के लाए गए तीनों काले कानून की सभी बातें में कही थी। मोदी सरकार ने काले कानूनों को लाने से पहले हाई पाॅवर कमेटी बनाकर चर्चा की थी, इस कमेटी में कैप्टन अमरिंदर सिंह ने तीनों काले कानूनों को पास की अपनी सहमति दी थी। राघव चड्ढा ने कहा कि आज देश में दो तश्वीरें हैं, एक तरफ पंजाब के फौजी सुखबीर सिंह दो दिन पहले देश के लिए शहीद हो गए और दूसरी तरफ उनके किसान पिता दिल्ली- हरियाणा बाॅर्डर पर अपने हक की लड़ाई लड़ रहे हैं। किसान दिल्ली में जहां भी आंदोलन करना चाहें, उन्हें अनुमति दी जाए। आम आदमी पार्टी लंगर से लेकर लाठी तक देश के किसानों के साथ है, ‘आप’ किसानों की सेवादार की तरह पूरी सेवा करेगी और उनके खाने, रहने व पानी आदि की सभी व्यवस्था करेगी।

पार्टी मुख्यालय में आयोजित संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए आम आदमी पार्टी प्रवक्ता राघव चड्ढा ने कहा कि आम आदमी पार्टी आज मीडिया के जरिए देश के लोगों के सामने कुछ ऐसे तथ्य रखने जा रही है, जिससे यह स्पष्ट हो जाता है कि, पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह वास्तव में भाजपा के मुख्यमंत्री हैं। किस प्रकार से कैप्टन अमरिंदर सिंह और नरेंद्र मोदी जी के बीच एक सांठगांठ, रिश्ता और दोस्ती है, जिसके चलते देश के किसानों को ठगा जा रहा है। देश के किसान और उसकी किसानी को बर्बाद किया जा रहा है। बीते कुछ दिनों से हम देख रहे हैं कि कैसे सड़कों पर उतर कर देश का किसान अपना विरोध दर्ज कराना चाह रहा है। केंद्र सरकार तक अपनी बात पहुंचाने की कोशिश कर रहा है। इस पूरी क्रांति, इंकलाब, विरोध, प्रदर्शन को रोकने में जितनी भागीदारी भारतीय जनता पार्टी और उनकी सरकारों की है, उतनी ही भागीदारी कैप्टन अमरिंदर सिंह की भी है। कैप्टन अमरिंदर सिंह और नरेंद्र मोदी जी मिलकर किसानों के प्रदर्शन को खत्म करना चाहते हैं। उनके इस इंकलाब पर फुलस्टॉप लगाना चाहते हैं।

राघव चड्ढा ने सिसिलेवार तरीके से पूरे घटना क्रम को मीडिया के सामने रखते हुए कहा कि पहला बिंदु यह जग जाहिर है कि कैप्टन अमरिंदर सिंह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की जो दोस्ती, रिश्ता, घनिष्टता है, उनके कितने निजी संबंध हैं, यह हम सब जानते हैं। यह सब जानते हैं कि दोनों के बीच लंबे समय से रोजाना फोन पर बात करने और हर महीने मुलाकात करने का रिश्ता चलता आ रहा है। दूसरा बिंदु यह कि तीन काले कानून मोदी जी ने पास किए हैं। इन तीनों काले कानूनों के बारे में कांग्रेस पार्टी ने अपने 2019 के घोषणा पत्र में शामिल किया था। कांग्रेस पार्टी ने 2019 के चुनावी घोषणा पत्र के सेक्शन 7 में लिखा था कि हम अगर सत्ता में आते हैं तो एपीएमसी बाजारों को खत्म कर देंगे। मोदी सरकार के तीनों काले कानून जो-जो कहते हैं, वह सारी बातें कांग्रेस पार्टी ने अपने घोषणा पत्र में कहीं। तीसरा बिंदु काले कानून लाने से पहले केंद्र सरकार ने एक हाई पाॅवर कमेटी का गठन किया, ताकि कानून का प्रस्ताव लाने से पहले इन पर व्यापक चर्चा हो जाए। जिसमें देश के कई मुख्यमंत्रियों, कई सरकारों को बुलाया गया। उसमें पंजाब सरकार और पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर को भी बुलाया गया। आपको जानकर अचंभा होगा कि कैप्टन अमरिंदर सरकार ने इस हाई पाॅवर कमेटी के सामने जाकर इन तीनों कानूनों को पास करने के लिए अपनी सहमति दे डाली। पंजाब सरकार ने कहा कि यह कानून मोदी जी लाएं, कैप्टन अमरिंदर को कोई एतराज नहीं है। हम इन तीन काले कानूनों के साथ खड़े हैं।

राघव चड्ढा ने कहा कि चैथा बिंदु यह है कि फरवरी 2020 में जब किसानों तक यह बात पहुंची कि इस प्रकार के काले कानून आ रहे हैं, तो चंडीगढ़ स्थित किसान भवन में एक ऑल पार्टी मीटिंग बुलाई गई। जिसमें पंजाब के तमाम किसान संगठनों और पंजाब के तमाम राजनीतिक दलों ने हिस्सा लिया। उस बैठक में कांग्रेस पार्टी के प्रदेश के अध्यक्ष जाखड़ साहब ने बयान दिया कि हम इसी समय जल्द से जल्द पंजाब विधानसभा का सत्र बुलाकर मोदी सरकार के काले कानूनों पर विशेष सत्र बुलाकर चर्चा करेंगे। लेकिन कैप्टन अमरिंदर ने वह विशेष सत्र भी नहीं बुलाया। पांचवा बिंदु यह है कि सबको पता था कि जब तमाम किसान संगठनों ने आज से कई सप्ताह पहले घोषणा कर दी कि 26 नवंबर को हम दिल्ली जाकर अपनी बात रखेंगे, तमाम किसान संगठनों और किसान भाई-बहन तैयार हो जाइए। लेकिन कैप्टन अमरिंदर उस प्रदर्शन, विरोध का नेतृत्व करने के लिए भी आगे नहीं आए। कई लोगों ने उन्हें कहा कि आ जाइए और हमारे साथ चलिए। आप साथ चलेंगे तो जंग आसान होगी। कोई मुख्यमंत्री पर शायद वाटर कैनन, आंसू गैस के गोले न चलाए, लेकिन कैप्टन अमरिंदर ने किसानों और किसान संगठनों के साथ खड़े होने से भी मना कर दिया। क्योंकि उनकी दोस्ती, निष्ठा, वफादारी नरेंद्र मोदी जी के साथ है।

राघव चड्ढा ने कहा कि आज हम देख रहे हैं कि जब देश का किसान केंद्र में बैठी भाजपा सरकार से अपना विरोध दर्ज कराने के अधिकार की लड़ाई लड़ रहा है। किसान कह रहा है कि दिल्ली में अपने मन मुताबिक स्थान पर जाकर अपनी बात रखना चाहते हैं और आपसे मिलना चाहते हैं। लेकिन देश के किसान को अमित शाह, मोदी जी और भारतीय जनता पार्टी अनुमति नहीं दे रही है। वह उन्हें एक पिंजरे में कैद करना चाहती हैं। गृहमंत्री अमित शाह के कल बयान के बाद कैप्टन अमरिंदर ने एक बयान दिया। जिससे कैप्टन साहब और मोदी जी की दोस्ती और मोदी जी के प्रति उनकी वफादारी पूरी तरह से साफ हो जाती है। कैप्टन अमरिंदर ने कल बयान दिया कि देश के गृहमंत्री अमित शाह जो कह रहे हैं, वह ठीक कह रहे हैं। देश के गृहमंत्री अमित शाह की बात किसान भाई-बहन मानें, जो गृहमंत्री अमित शाह कह रहे हैं कि आप बुराडी ग्राउंड जाइए। आप उनकी बात मान लीजिए और उनका प्रस्ताव स्वीकार करिए। अमित शाह जी जो-जो शर्तें रख रहे हैं, किसान भाई-बहन वो सारी शर्तें मान लें। ऐसी हिदायत कैप्टन अमरिंदर ने कल देश के किसान को पंजाब के किसान को दे डाली है।

राघव चड्ढा ने कहा कि इन छह बिंदुओं से स्पष्ट हो जाता है कि किस प्रकार से कैप्टन अमरिंदर आज भारतीय जनता पार्टी की धुन पर नाच रहे हैं। किस प्रकार से कैप्टन अमरिंदर भारतीय जनता पार्टी के मुख्यमंत्री बन गए हैं। कैप्टन अमरिंदर किसी पार्टी, पंजाब की जनता के मुख्यमंत्री नहीं, बल्कि भारतीय जनता पार्टी के मुख्यमंत्री बन गए हैं। केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह जी तमाम शर्तों को मानने की हिदायत पंजाब के किसान को कैप्टन अमरिंदर दे रहे हैं। मैं उनसे पूछना चाहता हूं कि आप जिस भारतीय जनता पार्टी की बांसुरी बजा रहे हैं, उनके कहने पर आगे बढ़ रहे हैं। आप जिस भाजपा के नेताओं के बयानों को ठीक ठहरा रहे हैं, यह वो भाजपा है जिसने देश के अन्नदाताओं पर आंसू गैस छोड़ी है और वाटर कैनन चलाई है। यह वो भाजपा है जिसने जब देश का किसान दिल्ली आना चाह रहा था, तो सड़कें खोद दी, ताकि देश का किसान दिल्ली न पहुंच पाए। यह वह भाजपा है, जिनका उत्तर प्रदेश का वरिष्ठ मंत्री अनिल शर्मा बयान देते हैं कि जो किसान क्रांतिकारी आंदोलन कर रहे हैं, वह किसान अपराधी, गुंडे और आतंकवादी हैं। कैप्टन अमरिंदर सिहं, अनिल शर्मा, अमित शाह, पीएम नरेंद्र मोदी की जुबान बोल रहे हैं।

राघव चड्ढा ने कहा कि भाजपा आज इस देश में शहीद-ए-आजम भगत सिंह के वंशजों को जो आंदोलन कर रहे हैं, उन्हें गुंडा, अपराधी कह रही है। दूसरी तरफ कैप्टन अमरिंदर उसी भाजपा की बांसुरी बजा रहे हैं और कह रहे हैं कि जो अमित शाह कह रहे हैं वह ठीक कह रहे हैं। अमित शाह जी की बात, शर्ते मान लीजिए। अपने फार्म हाउस में बैठ कर कैप्टन अमरिंदर किसानों से अपील कर रहे हैं कि आप अमित शाह जी की तमाम शर्तों को कुबूल लीजिए। इतनी बड़ी क्रांति और संघर्ष का अपने एयर कंडीशंड फार्म हाउस- महल में बैठकर लुत्फ उठा रहे कैप्टन अमरिंदर साहब से पूछना चाहता हूं कि अगर इतनी ही किसानों की परवाह थी तो आप इस प्रदर्शन में क्यों नहीं आए? इस आंदोलन का आपने नेतृत्व क्यों नहीं किया? अगर किसी राज्य का मुख्यमंत्री देश के किसान को लेकर चलता तो, क्या किसी सरकार की मजाल थी कि उसपर आंसू गैस बरसाती। अगर कैप्टन अमरिंदर खुद पंजाब के किसानों और टोलियो को लेकर दिल्ली की ओर आते तो क्या भाजपा सरकार की मजाल थी कि उन पर वाटर कैनन चलाती? क्या चुने हुए मुख्यमंत्री पर आंसू गैस चलाती? लेकिन कैप्टन अमरिंदर ने आना गंवारा नहीं समझा, क्योंकि कैप्टन अमरिंदर भारतीय जनता पार्टी के मुख्यमंत्री हैं। पंजाब के किसान के मुख्यमंत्री नहीं है। वह आराम से अपने महल के एयर कंडीशन युक्त कक्ष में बैठकर मौज कर रहे हैं।

राघव चड्ढा ने कहा कि देश का किसान अपने हकों के लिए आज दिल्ली-हरियाणा सीमा पर लड़ाई लड़ रहा है और देश का जवान अंतर्राष्ट्रीय सरहद पर देश की रक्षा कर रहा है और दुश्मनों से लड़ रहा है। यह जय जवान, जय किसान वाला देश आज दो विचित्र तस्वीरें देख रहा है। जहां देश का जवान तो दुश्मन से बॉर्डर पर लड़ाई लड़ रहा है और देश का किसान आज दिल्ली-हरियाणा सीमा पर खड़े होकर अपने हकों की लड़ाई लड़ रहा है। देश के 22 साल के हमारे फौजी जवान सुखबीर सिंह को शहादत मिली है, जो 18 जेएंडके राइफल से आते थे। उन्होंने देश के लिए सर्वोच्च बलिदान देते हुए अपने प्राणों की आहुति दे दी। दूसरी तरफ उनके पंजाब के किसान पिता दिल्ली-हरियाणा सीमा पर आज अपने अधिकार की लड़ाई लड़ रहे हैं। यह आज के देश की दो तस्वीरें है। उनके पुत्र की शहादत आज से 2 दिन पहले हुई थी और आज वह पिता हरियाणा-दिल्ली सीमा पर खड़ा होकर अपने हकों, किसानी के हित और किसानों के अधिकार की लड़ाई लड़ रहा है। यह इस देश की विडंबना है और यह इस देश की तस्वीर दिखाता है। हम बचपन में अक्सर सुना करते थे, इतिहास की किताब में पढ़ा करते थे कि जब दुश्मन देश हम पर आक्रमण करता था, तो दुश्मन की फौज को रोकने के लिए ब्रिज तोड़ देते थे, सड़कें खोद देते थे और बड़े-बड़े पत्थर सामने रख देते थे, ताकि फौज और दुश्मन हमारे देश में न घुस सके। उसी तरह आज हम देख रहे हैं कि देश के किसानों को दिल्ली आने से रोकने के लिए भारतीय जनता पार्टी सड़कें खोद रही है, पत्थर रख रही है, ब्रिज तोड़ रही है।

उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी का कोई छोटा-मोटा कार्यकर्ता, पन्ना प्रमुख नहीं, बल्कि भाजपा उत्तर प्रदेश का मंत्री कहता है कि देश का किसान जो आंदोलन कर रहा है, वह गुंडा, अपराधी है। इनका दूसरा नेता कहता है कि यह सब लोग आतंकवादी हैं। आज मैं पूछना चाहता हूं कि जिसने अंतर्राष्ट्रीय सरहद पर दुश्मनों को मजा चखाते चखाते अपनी जान दे दी, उस 22 वर्षीय शहीद सुखबीर सिंह जी के पिता जो दिल्ली हरियाणा सीमा पर खड़े होकर अधिकारेों की लड़ाई लड़ रहे हैं, क्या वह आतंकवादी, गुंडे, अपराधी हैं। राघव चड्ढा ने कहा कि कैप्टन अमरिंदर से पूछना चाहता हूं कि आप एक ऐसी भाजपा के साथ खड़े हैं, उनकी बांसुरी बजा रहे हैं और भाजपा के मुख्यमंत्री बने हुए हैं जो सुखबीर सिंह के पिता को आतंकवादी कहती है। हमारे शहीद सुखबीर सिंह के पिता को गुंडा, अपराधी कहती है। श्री चड्ढा ने कहा कि हम साफ तौर पर कहना चाहेंगे कि आम आदमी पार्टी देश के किसान के साथ खड़ी है। दिल्ली में जिस भी जगह पर हमारे देश का किसान आकर अपना विरोध दर्ज कराना चाहता है, वहां उन्हें अनुमति मिलनी चाहिए। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल जी के दिशा निर्देश के अनुसार आम आदमी पार्टी की सरकार, सेवादार की भूमिका निभाएगी। लंगर से लेकर खानपान, रहने, पानी, बिजली की हर व्यवस्था उनके लिए करेगी। जहां पर भी वह आना चाहते हैं, वहां अरविंद केजरीवाल जी की सरकार देश के किसानों की पूरी सेवा व मेजबानी करेगी। हम देश के किसान के साथ खड़े हैं और उसकी इस इंकलाब की आवाज को और बुलंद करेंगे।

Have something to say? Post your comment
More National News
विधायक राघव चड्ढा ने सर गंगाराम अस्पताल का दौरा किया, कोविड-19 टीकाकरण अभियान की जानकारी ली
झुग्गीवासियों के पूर्ववास के लिए 9315 फ्लैट्स बनकर तैयार, सीएम केजरीवाल ने आवंटन दिए निर्देश
चुनाव से पहले एमसीडी को पूरी तरह से लूटने के इरादे से भाजपा शासित दक्षिणी नगर निगम ने पार्षद निधि 50 लाख से बढ़ाकर 1 करोड़ रुपए करने की घोषणा की है- सौरभ भारद्वाज
देवभूमि उत्तराखंड की पीड़ा को उजागर करता है यह कवि सम्मेलन : उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया
दिल्ली और पंजाब के बाहर महाराष्ट्र में ‘आप’ ने 96 सीटें जीती, सोशल मीडिया पर विजेताओं को दी बधाईयां
मोहल्ला सभाओं में आकर जनता खुद कर रही BJP के भ्रष्टाचार का खुलासा, जनता में भाजपा के प्रति जबरदस्त गुस्सा आम आदमी पार्टी ने अपने हक की लड़ाई लड़ रहे बेरोजगार शिक्षकों का किया समर्थन ‘आप’ ने स्थानीय चुनाव में कांग्रेस द्वारा सरकारी तंत्र के दुरुपयोग की आशंका जताई
बिहार में हजारों स्टूडेंट्स का भविष्य खतरे में, ‘आप’ सांसद संजय सिंह ने सीएम नीतीश को लिखा पत्र
जनता ने एमसीडी में आम आदमी पार्टी की सरकार बनाकर राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली को विश्व स्तरीय बनाने का मन बना लिया है- दुर्गेश पाठक