Monday, May 10, 2021
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
दिल्ली में कांग्रेस की पूर्व विधायक अंजली राय और वरिष्ठ नेता रविंद्र सिंह ने थामा AAP का दामनAAP के जगदीप काका ने ‘बिजली बिल जलाओ’ अभियान के तहत गांवों में नुक्कड़ बैठकें कीखाद्य मंत्री इमरान हुसैन ने भू-माफियाओं के कब्जे से गवर्नमेंट गर्ल्स स्कूल की जमीन कराई मुक्तवर्ल्ड सिटीज कल्चर फोरम पर दिल्ली और भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे सीएम अरविंद केजरीवालस्विट्जरलैंड के राजदूत ने कोरोनावायरस से निपटने के केजरीवाल सरकार के प्रयासों को सराहा‘दिल्ली हिंसा’ में जान गंवाने वाले आईबी ऑफिसर अंकित शर्मा के भाई को नौकरी देगी केजरीवाल सरकारउपनलकर्मियों के मुख्यमंत्री आवास कूच को ‘आप’ का समर्थन, धरनास्थल पहुंचे कार्यकर्ताओं ने दिया समर्थन‘आप’ की सरकार बनने पर दिल्ली की तरह पंजाब में भी 24घंटे मुफ्त बिजली देंगे: अरविंद केजरीवाल
National

खरीद केन्द्रों में तुरंत धान की खरीद बंद करने से कैप्टन अमरिन्दर का किसान विरोधी चेहरा सामने आया

November 17, 2020 10:29 PM

चंडीगढ़: पंजाब सरकार द्वारा सैंकड़ों खरीद केन्द्रों में धान की खरीद बंद करके किसानों के लिए अचानक बड़ा संकट पैदा करने के लिए सरकार की निंदा करते हुए आम आदमी पार्टी ने इसको किसान विरोधी फैसला करार दिया है। आम आदमी पार्टी पंजाब के प्रदेश हेडक्वार्टर से जारी एक बयान में बरनाला से विधायक और यूथ विंग के प्रदेश अध्यक्ष मीत हेयर ने कहा कि केंद्र और पंजाब सरकार की किसान विरोधी नीतियों से अपने आप को बचाने के लिए सडक़ों पर संघर्ष कर रहे किसानों पर पंजाब सरकार ने संघर्ष को खत्म करवाने के लिए दबाव बनाने के इरादे से यह कदम उठाया है।

‘धान माफीए’ के लिए काम कर रहे हैं कैप्टन अमरिन्दर: मीत हेयर

यूथ अध्यक्ष हेयर ने कहा कि दिन रात एक कर अपनी औलाद की तरह पाली धान की फसल को पहले सरकारी अधिकारियों ने खरीद के मापदंड पर उतरती फसल को भी समय पर नहीं खरीदा, अब जब बड़े स्तर पर किसानों की फसल मंडियों में आ गई है तो अचानक सरकार ने यह तुगलकी फरमान जारी कर दिया। नेता ने कहा कि जब केंद्र की सरकार ने धान की खरीद के लिए 30 नवंबर तय किए होने के बावजूद पंजाब सरकार की ओर से जारी किए, इस आदेश के साथ कैप्टन अमरिन्दर सिंह का किसान विरोधी चेहरा लोगों के सामने आ गया है। कैप्टन अमरिन्दर सिंह जो अपने आप को किसान हितैषी बताते हैं, परन्तु जब भी इनकी सरकार की ओर से हुक्म जारी होते हैं तो लोक विरोधी होने की वास्तविकता सामने आ जाती है।

यूथ अध्यक्ष हेयर ने कहा कि वास्तव में कैप्टन अमरिन्दर सिंह की सरकार लोगों की बजाए हर तरह के माफिया के लिए काम करती है, यह कदम भी सरकार की तरफ से खरीददारी करने वाले ‘धान माफीए’ के लिए उठाया गया कदम है। उन्होंने कहा कि सरकार ने लॉकडाउन की आड़ में बाहरी प्रदेशों से आई धान की फसल तो पहल के आधार पर खरीद ली, परंतु पंजाब का किसान धान की फसल लेकर मंडियों में भारी दिक्कतों का सामना कर रहा है।

‘आप’ नेता ने कहा कि सरकार ने एक साजिश के अंतर्गत पहले तो बहानेबाजी करके किसानों की फसल नहीं उठाई, अब जब किसान मंडियों में अपनी फसल की चौकीदारी पर बैठे हुए हैं तो अचानक यह हुक्म जारी कर दिए। नेता ने कहा कि प्रजातांत्रिक ढंग के साथ चुनी हुई कैप्टन की सरकार अक्सर अभी भी राजाशाही की तरह ही हुक्म जारी कर रही है, जब कि लोगों की सुविधा के मुताबिक काम करना चाहिए। नेता ने कहा कि कैप्टन अमरिन्दर सिंह और उनके आधिकारी बंद दफ्तरों में बैठे पत्र जारी कर रहे हैं, जिन्होंने कभी चारदीवारी से बाहर जा कर लोगों का हाल नहीं जाना।

पार्टी नेता ने कहा कि आर्थिक तंगी से रोजाना की लड़ाई लड़ रहे किसानों पर सरकार के इन हुक्मों के साथ ओर बोझ पड़ेगा। गरीब किसानों जिनके पास दूर-दराज मंडियों में फसल लेकर जाने के लिए अपने साधन उनको अब किराए पर साधन लेने पड़ेंगे। नेता ने कहा कि इस फरमान के साथ किसानों की आर्थिक हालत ओर खराब होगी। उन्होंने पंजाब मंडी बोर्ड के सचिव रवि भक्त से मांग की है कि तुरंत वह यह हुक्म वापस लेकर तुरंत अपने जिलों के मुख्य अफसरों समेत मार्केट समितियों के आधिकारियों को फिर से सभी खरीद केन्द्रों में खरीद सम्बन्धित हुक्म जारी करें। उन्होंने कहा कि पंजाब मंडी बोर्ड किसानों के बुरे समय में बाजू पकड़ें न कि उन पर ओर बोझ डालेें।

Have something to say? Post your comment
More National News