Saturday, December 05, 2020
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
लाठी खाया अन्नदाता ही सरकार को चलता करेगा, किसान की हर मांग का समर्थन करती है ‘आप’: योगेश्वर शर्माकृषि मंत्री तोमर शीघ्र किसानों से संवाद करें, MSP अध्यादेश लाकर किसानों को विश्वास दिलाएं: सुशील गुप्ताकेजरीवाल सरकार ने स्टेडियमों को जेलों में तब्दील करने से इंकार कर दिल्ली पुलिस को दिया झटका: आपएमसीडी में प्राॅपर्टी टैक्स से संबंधित खातों का ब्यौरा नहीं होने से लूट का पता लगना मुश्किल कामभाजपा की भ्रष्टाचार स्कीमों का खुलासा करेगी AAP, शुरू किया ‘BJP - 181’ अभियान: सौरभ भरद्वाजयूरिया खाद सहकारी सभाओं द्वारा किसानों तक पहुंचाने का प्रबंध करे पंजाब सरकार - कुलतार संधवांहरियाणा-पंजाब सरकारों की आपराधिक लापरवाही की वजह से जलती है पराली, साफ हवा में सांस नहीं ले पा रहे: आतिशीनिकम्मी सरकार के कारण किसानों की खराब हुई फसल, की भरपाई करे कैप्टन सरकार: प्रिंसीपल बुद्ध राम
National

दिल्ली के पांच कॉलेजों की ऑडिट रिपोर्ट में गंभीर वित्तीय अनियमितता सामने आई: डिप्टी सीएम सिसोदिया

November 06, 2020 10:31 PM

नई दिल्ली: उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा है कि दिल्ली विश्वविद्यालय के सात कॉलेजों में गंभीर वित्तीय अनियमितता हुई है। इनके पास करोड़ों रुपए सरप्लस राशि होने के बावजूद एफडी में रखकर शिक्षकों की सैलरी रोकी गई ताकि राज्य सरकार को बदनाम कर सके। श्री सिसोदिया ने कहा कि ऑडिट रिपोर्ट के आधार पर समुचित कानूनी कार्यवाही की तैयारी की जा रही है।

कॉलेजों ने करोड़ों रुपए एफडी में रखकर शिक्षकों की सैलरी रोकी और दिल्ली सरकार को बदनाम किया : उपमुख्यमंत्री सिसोदिया

उपमुख्यमंत्री ने आज दिल्ली सचिवालय में संवाददाता सम्मेलन में कहा कि इन कॉलेजों ने वित्तीय नियमों का उल्लंघन करके अनियमित तरीके से करोड़ों रुपयों का अवैध खर्च किया। सरकार से अनुमति लिए बगैर टीचिंग और नॉन टीचिंग स्टाफ के नाम पर मनमाने पोस्ट क्रिएट करके अवैध नियुक्तियां की। यहां तक कि ऐसे लोगों की अटेंडेंस का रिकॉर्ड तक नहीं दिखाया गया। श्री सिसोदिया ने पांच कॉलेजों में अनियमित भुगतान का विवरण पेश किया, जो इस प्रकार है- 

कॉलेज का नाम - अनियमित व्यय
दीनदयाल उपाध्याय कॉलेज - 49.88 करोड़
केशव महाविद्यालय - 29.84 करोड़
शहीद सुखदेव कॉलेज - 16.52 करोड़ 
भगिनी निवेदिता कॉलेज - 17.23 करोड़
महर्षि वाल्मिकी कॉलेज - 10.64 करोड़

श्री सिसोदिया ने कहा कि लैपटॉप, कंप्यूटर, विभिन्न उपकरण तथा गाड़ियों की खरीद के नाम पर वित्तीय नियमों का उल्लंघन करते हुए काफी व्यय किया गया। यहां तक कि सुरक्षा कर्मियों को 40,000 रुपए मासिक भुगतान के भी मामले सामने आए, जबकि सामान्यतया यह वेतन 14 से 20 हजार तक है।

श्री सिसोदिया ने कहा कि जिन कॉलेजों को दिल्ली सरकार अनुदान देती है, वैसे सात कॉलेजों के ऑडिट की प्रक्रिया शुरू की गई थी। कॉलेजों ने सहयोग करने के बजाए ऑडिटर्स के काम में बाधा डाली तथा खाता बही दिखाने से इंकार कर दिया। अंतत: अदालत के आदेश पर कॉलेजों का ऑडिट हुआ है। लेकिन कोर्ट के आदेश बावजूद अदिती महाविद्यालय और लक्ष्मीबाई कॉलेज ने ऑडिट कराने से इंकार कर दिया। इससे पता चलता है कि इनकी दाल में कितना काला है।

श्री सिसोदिया ने कहा कि पांच कॉलेजों की ऑडिट रिपोर्ट से पता चलता है कि इन कॉलेजों के पास पर्याप्त राशि होने के बावजूद अवैध तरीके से खर्च करके शिक्षकों और कर्मचारियों का वेतन रोका गया तथा राज्य सरकार पर अनावश्यक आरोप लगाए गए।

बिना अनुमति मनमाने पोस्ट सेंक्शन करके अवैध बहाली की, अटेंडेस रजिस्टर भी नहीं दिखाए : उपमुख्यमंत्री सिसोदिया

श्री सिसोदिया ने कहा कि कॉलेजों को अनुदान देने के प्रावधान के अनुसार कोई भी पोस्ट क्रिएट करने तथा उन पर बहाली के लिए राज्य सरकार से पूर्व अनुमति लेना अनिवार्य है, लेकिन इन कॉलेजों ने अनुमति लिए बगैर मनमाने तरीके से पोस्ट क्रिएट करके बहाली भी कर ली। आश्चर्य की बात ये है कि ऑडिटर्स ने जब इनके अटेंडेस रजिस्टर मांगे तो कॉलेजों के पास इनका अटेंडेस रजिस्टर भी नहीं था। ऐसे में इस संभावना से भी इन्कार नहीं किया जा सकता कि ऐसे घोष्ट इंप्लाई हों जिनकी सैलरी का फर्जी तरीके से भुगतान किया जा रहा हो।

श्री सिसोदिया ने कहा कि कॉलेजों के पास एफडी में सरप्लस फंड होने के बावजूद शिक्षकों को वेतन नहीं देना हैरानी की बात है-

कॉलेज का नाम - सरप्लस एफडी राशि
दीनदयाल उपाध्याय कॉलेज - 22.44 करोड़ 
शहीद सुखदेव कॉलेज - 31.58 करोड़ 
केशव महाविद्यालय - 9.38 करोड़
भगिनी निवेदिता कॉलेज - 2.38 करोड़ 
महर्षि वाल्मिकी कॉलेज - 0.29 करोड़ रुपए 

“The ‘Pattern of Assistance” by which the Delhi Govt makes payment to all the Higher Education Institutions funded by it - including Ambedkar University, DTU, IP University, and 12 Delhi University colleges - is based on the principle of deficit funding.” The govt, pays these higher education institutions the net deficit between their total expenditure, and their total income.

श्री सिसोदिया ने कहा कि राज्य सरकार द्वारा कॉलेजों को अनुदान देने संबधी प्रावधान के अनुसार फीस तथा अन्य सभी स्रोतों से होने वाली आय से खर्च के बाद शेष कमी का भुगतान किया जाना है। लेकिन इन कॉलेजों ने फीस तथा अन्य सोर्स से मिली राशि अवैध तरीके से इधर उधर खर्च करके शेष फंड को एफडी कर दिया। 

श्री सिसोदिया ने कहा कि कोरोना के संकट में सभी सरकारों को अपने खर्चों में कटौती करके किसी तरह काम चलाना पड़ रहा है। ऐसे में इन कॉलेजों को अवैध खर्चों और एफडी के बजाए विद्यार्थियों के कल्याण और शिक्षकों- कर्मचारियों के वेतन पर खर्च करना चाहिए था। ऐसा नहीं होने से ऐसा लगता है कि मंशा खराब है।

“Any source of earning, and the total income received by the college from fees has to be declared to Delhi Government. However, these colleges violated this pattern of assistance as large, undeclared incomes in their accounts have been found by the auditors, which were never declared to the Delhi Government,” said Sisodia. 

श्री सिसोदिया ने कहा कि हम ऐसी अनियमितता को रोकेंगे। वित्तीय नियमों की अनदेखी करके तथा अनुमति के बगैर किए गए किसी भी अनियमित कार्य को राज्य सरकार बर्दाश्त नहीं करेगी। श्री सिसोदिया ने कहा कि डीटीयू, अंबेडकर यूनिवर्सिटी, आईपीयू, एनएसटीयू को भी सरकार के अनुदान नियमों के तहत सहायता दी जाती है। वहां ऐसी कोई जटिलता उत्पन्न नहीं होती। लेकिन इन कॉलेजों द्वारा अनियमितता के कारण शिक्षकों और कर्मचारियों का वेतन भुगतान करने में अनावश्यक विवाद उत्पन्न होता है।

Have something to say? Post your comment
More National News
भारी मुश्किलों में है आंदोलनकारी किसान, जल्द से जल्द मांगें माने केंद्र सरकार-भगवंत मान
आईपी विश्वविद्यालय में फायर एंड लाइफ सेफ्टी ऑडिट कोर्स शुरू, उपमुख्यमंत्री ने उद्घाटन किया हेपेटाइटिस दिवस पर ई-समारोह में उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा- "रोग से हर इंसान की सुरक्षा के लिए दिल्ली सरकार कृतसंकल्प" दिल्ली सरकार ने श्रमिकों की न्यूनतम मजदूरी बढ़ाई, कोरोना संकट में संशोधित मजदूरी का भुगतान के हुए निर्देश
मंत्री सत्येंद्र जैन ने सिंघु बॉर्डर पर किसानों से की मुलाकात, बोले- 'हम आपके किसानों के साथ है'
किसानों के लिए केजरीवाल की सेवा से प्रभावित होकर ‘आप’ में वापस आए विधायक जगतार सिंह जग्गा
सरकार की नीयत साफ हो तो संसद का विशेष सत्र बुलाकर मिनटों में हल हो सकता है किसानों का मसला - भगवंत मान
दिल्ली में भाजपा पार्षद रिश्वत में ₹10लाख लेते रंगे हाथ पकड़े गए - सौरभ भारद्वाज
बीजेपी राज में महिलाओं के लिए महफूज़ नहीं है उत्तराखंड - रजिया बेग ‘आप’ की महिला विंग ने कृषि कानून के विरोध में प्रदर्शन कर रहे किसानों के समर्थन में आईटीओ चौराहे पर ह्यूमन चेन बनाकर विरोध दर्ज कराया