Sunday, November 29, 2020
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
लाठी खाया अन्नदाता ही सरकार को चलता करेगा, किसान की हर मांग का समर्थन करती है ‘आप’: योगेश्वर शर्माएमसीडी में प्राॅपर्टी टैक्स से संबंधित खातों का ब्यौरा नहीं होने से लूट का पता लगना मुश्किल कामभाजपा की भ्रष्टाचार स्कीमों का खुलासा करेगी AAP, शुरू किया ‘BJP - 181’ अभियान: सौरभ भरद्वाजयूरिया खाद सहकारी सभाओं द्वारा किसानों तक पहुंचाने का प्रबंध करे पंजाब सरकार - कुलतार संधवांहरियाणा-पंजाब सरकारों की आपराधिक लापरवाही की वजह से जलती है पराली, साफ हवा में सांस नहीं ले पा रहे: आतिशीनिकम्मी सरकार के कारण किसानों की खराब हुई फसल, की भरपाई करे कैप्टन सरकार: प्रिंसीपल बुद्ध रामखरीद केन्द्रों में तुरंत धान की खरीद बंद करने से कैप्टन अमरिन्दर का किसान विरोधी चेहरा सामने आयादिल्ली में शादियों में 50 से ज्यादा लोग शामिल नहीं हो सकेंगे, लाॅकडाउन पर भी विचार करेगी सरकार
National

विधायक राघव चड्ढा ने उपराज्यपाल बैजल से मुलाकात कर पूर्व-सैनिकों के परिवारों की मदद की अपील की

October 23, 2020 04:24 PM

नई दिल्ली: राजेन्द्र नगर के माननीय विधायक राघव चड्ढा ने आज दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल से मुलाकात की और नारायणा विहार के H-ब्लॉक के सैनिक सदन में रह रहे पूर्व सैनिकों, शहीदों की विधवाओं और उनके परिवारों को घर खाली करने के लिए सितंबर 2019 में उनके घर पर चिपकाए हुए नोटिस के मामले से अवगत कराया और उन्हें इसके लिए आवेदन और जरूरी दस्तावेज भी सौंपे। विधायक राघव चड्ढा ने माननीय उपराज्यपाल से अपील की कि राज्य सैनिक बोर्ड द्वारा जारी किए गए इस नोटिस पर वो खुद संज्ञान लेकर शहीदों और पूर्व सैनिकों के परिवारों की परेशानी को दूर करें। उपराज्यपाल अनिल बैजल ने इस मामले पर तुरंत संज्ञान लिया और जल्द से जल्द इस मामले में तुरंत कार्रवाई का भरोसा दिलाया।

विधायक चड्ढा ने कहा कि "सैनिक सदन में रह रहे परिवारों के त्याग और बलिदान की कोई तुलना नहीं की जा सकती। अगर हम उनका ख्याल नहीं रखेंगे तो कौन रखेगा? ये परिवार सभी तरह के कानूनों का पालन करने वाले और देश के सभ्य नागरिक हैं और ये कानूनी तौर पर दिए गए इन घरों में 5 दशकों से ज्यादा समय से रह रहे हैं। राज्य सैनिक बोर्ड का इन परिवारों के प्रति रवैया काफी दुख पहुंचाने वाला है। मुझे भरोसा है कि माननीय उपराज्यपाल का ये भरोसा दिलाना कि वो स्वंय इस मामले को देखेंगे सैनिक सदन में रह रहे इन परिवारों के लिए राहत पहुंचाने वाली खबर होगी।" 

राघव चड्ढा ने की भारत-पाकिस्तान और भारत-चीन युद्ध के वीरों के साथ हो रहे अन्याय को रोकने की पहल

क्या है पूरा मामला?
सेना के पूर्व सैनिकों, शहीद हुए सैनिकों की विधवाओं, जंग में घायल हुए सैनिकों और सम्मानित सैनिकों और उनके परिवारों को दिल्ली के नारायणा विहार के H-ब्लॉक में स्थित सैनिक सदन में 1968 में 24 फ्लैट आवंटित किए गए थे। इन सभी सैनिकों ने 1962 के भारत-चीन युद्ध और 1965 के भारत-पाकिस्तान युद्ध में हिस्सा लिया था। 1968 में सरकार ने युद्ध में शामिल हुए पूर्व सैनिकों, शहीद हुए सैनिकों और उनके परिवारों के लिए कई तरह की हाउसिंग स्कीम और नौकरियां लॉन्च की। उसी वक्त दिल्ली सरकार और रक्षा मंत्रालय ने नारायणा विहार में सैनिक सदन में सैनिक परिवारों को ये घर दिए। पूर्व सैनिकों और शहीदों का परिवार इन घरों में करीब 50 साल से रह रहे हैं।

इस सदन में फ्लैट्स का निर्माण सैनिकों के पुनर्वास के लिए बनाए गए एक स्पेशल फंड से किया गया था जो फंड आम जनता से मिले डोनेशन से बनता है। 1968 से लेकर 2015 तक पूर्व सैनिक और उनके परिवारों ने नियमित तौर पर इन 24 घरों के लिए मेंटेनेंस फीस जमा की और राज्य सैनिक बोर्ड ने इसे स्वीकार भी किया लेकिन 2015 के लिए राज्य सैनिक बोर्ड ने मेंटेनेंस लेने से इनकार कर दिया और इन सभी फ्लैट्स को खाली करने का नोटिस भी जारी कर दिया।

पहले कब-क्या हुआ?
घर खाली करने का नोटिस मिलने के बाद इन परिवारों ने हाई कोर्ट में अपील की और हायर-परचेज स्कीम को लागू करने की मांग की। राज्य सैनिक बोर्ड के द्वारा 1986 में फैसला किया गया था कि इन फ्लैट्स के लिए हायर-परचेज स्कीम को लागू किया जाएगा और पूर्व-सैनिकों और कानूनी तौर पर उनके उत्तराधिकारी को ये घर इस स्कीम के तहत दिए जाएंगे।

हमारे युद्ध के नायकों के परिवार को उचित सम्मान मिलना ही चाहिए, राज्य सैनिक बोर्ड उनके अधिकार और उनका घर नहीं छीन सकता: राघव चड्ढा

राज्य सैनिक बोर्ड ने जब इस सुझाए गए हायर-परचेज स्कीम को लागू करने के लिए भी कोई कदम नहीं उठाया तो सैनिक परिवारों ने कोर्ट में आवेदन दिया और इस स्कीम को लागू करने की अपील की। 8 साल की लंबी सुनवाई के बाद मई 2013 में डिवीजन बेंच ने अपना फैसला सुनाया और कहा कि 'राज्य सैनिक बोर्ड इन सैनिक परिवारों को घर खाली करने का आदेश नहीं दे सकता'। कोर्ट के इस आदेश के बावजूद राज्य सैनिक बोर्ड ने घरों को खाली करने का नोटिस जारी किया और ये परवाह भी नहीं की कि पूर्व सैनिक या पूर्व सैनिकों के परिवार में ऐसे बीमार या दिव्यांग लोग भी हैं जिनके पास इस उम्र में रहने के लिए कोई और जगह नहीं है।

Have something to say? Post your comment
More National News
अड़ियल रवैया छोड़ किसानों की इच्छा अनुसार प्रदर्शन करने का स्थान दे मोदी सरकार: आप
धरना स्थान पर सभी जरूरी वस्तुओं का प्रबंध करके किसानों की हर संभव मदद करेगी केजरीवाल सरकार
दिल्लीवालों को कोरोना वैक्सीन लगाने के लिए हमारे पास पर्याप्त साधन मौजूद: सत्येंद्र जैन
उपमुख्यमंत्री सिसोदिया ने सरकारी स्कूल में विश्वस्तरीय एस्ट्रोटर्फ हॉकी मैदान का उद्घाटन किया, ओलंपिक पदक विजेता सुशील कुमार भी शामिल
लाठी खाया अन्नदाता ही सरकार को चलता करेगा, किसान की हर मांग का समर्थन करती है ‘आप’: योगेश्वर शर्मा
कृषि मंत्री तोमर शीघ्र किसानों से संवाद करें, MSP अध्यादेश लाकर किसानों को विश्वास दिलाएं: सुशील गुप्ता
दिल्ली में सीएम केजरीवाल ने किसान हित में स्टेडियम को जेलों में तब्दील करने से इंकार कर दिल्ली पुलिस को दिया झटका Patna mein aap स्थापना दिवस किसान विरोधी भाजपा सरकार ने किया वाटर अटैक