Wednesday, October 28, 2020
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
गाजीपुर मंडी से निकलने वाले कचरे का इस्तेमाल वेस्ट टू पावर प्लांट में बिजली बनाने के लिए किया जाएगारोजगार दे नहीं पा रहे, होटल में काम करने वालों का उड़ा रहे है मजाक मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र: हिमांशु पुंडीरBJP हेडक्वार्टर घेरने गए ‘आप’ पर जल-तोपों व लाठीचार्ज से किया अत्याचार, दर्जनों नेता पुलिस हिरासत मेंNEET-JEE में सफल दिल्ली की सरकारी स्कूलों के बच्चों और अभिभावकों से मिले सीएम केजरीवाल, बच्चों ने साझा किया अनुभवयोगी सरकार की गलत नीतियों से दुखी होकर गाजियाबाद में वाल्मीकि समाज के लोग हिन्दू धर्म छोड़ने को मजबूरसीएम केजरीवाल ने दिल्ली के LNJP अस्पताल में अत्याधुनिक मल्टी स्पेशियलिटी ब्लॉक की आधारशिला रखीविधायक राघव चड्ढा ने उपराज्यपाल बैजल से मुलाकात कर पूर्व-सैनिकों के परिवारों की मदद की अपील कीगंगा-यमुना के उद्गम प्रदेश में पीने के पानी को आंदोलन, त्रिवेंद्र सरकार की बड़ी नाकामी: पिरसाली
National

किसानों के साथ कृषि बिल के नाम पर छलावा : ‘आप’

September 19, 2020 11:02 PM

देहरादून: कृषि विधेयक बिल के विरोध में आज शनिवार को देहरादून में आम आदमी पार्टी ने एक प्रेस वार्ता का आयोजन किया, जिसमें उन्होंने इस कृषि बिल को पूरी तरह किसानों की कमर तोड़ने वाला बिल बताया और कहा कि ये बिल पूरी तरह किसान विरोधी और उनके आस्तित्व को कमजोर करने वाला बिल है। जिसका आम आदमी पार्टी पूरी तरह विरोध करती है। केंद्र सरकार द्वारा इन विधेयकों को पारित कर कानून की शक्ल देने का जो प्रयास किया जा रहा है, उससे सीधे तौर पर किसान के आस्तित्व को खतरा पैदा होगा। उनके ज़मीन और अधिकारों पर केंद्र द्वारा अप्रत्यक्ष हमला है।

किसानों की बर्बादी और अनदेखी का प्लान है कृषि बिल: आप

इस दौरान ‘आप’ प्रवक्ता रवींद्र आनंद ने कहा- यह तीनों ही विधेयक पूरी तरह किसान विरोधी है। अगर मंडियां खत्म हो गई, तो किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य नहीं मिल पाएगा, इसीलिए एक राष्ट्र और एक एमएसपी होनी बेहद आवश्यक है। विधेयक के अंतर्गत कीमतों को तय नहीं किया जा सकता, जिस वजह से निजी कंपनियां किसानों का शोषण कर सकती हैं, यही नहीं, जमाखोरी बढ़ने की भी आशंका को बल मिलेगा, जिससे बाजार में अस्थिरता उत्पन्न होगी और महंगाई बढ़ेगी।

वहीं ‘आप’ प्रवक्ता विशाल चौधरी ने इस दौरान कहा- इस विधेयक के आने से किसान अपनी ही जमीन पर मजदूर बन जाएगा। इसलिए ‘आप’ इन बिलों को लागू नहीं होने के लिए हरसंभव प्रयास करेगी और किसान भाइयों के साथ ज्यादती नहीं होने देगी, चाहे उसके लिए उनको सड़कों पर उतर कर किसानों की आवाज़ को बुलंद करना पड़े। यही नहीं आप, केंद्र सरकार से मांग करती है, कि इन किसान विरोधी विधेयकों पर जल्द से जल्द संशोधन या कोई निर्णय लिया जाये, ताकि किसान खुद के आस्तित्व को सुरक्षित महसूस कर सके। अगर केंद्र सरकार ऐसा नहीं करती है तो आम आदमी पार्टी पूरे प्रदेश के किसानों के साथ सड़क से लेकर सदन तक किसानों की आवाज को बुलंद करने के तैयार है।

Have something to say? Post your comment
More National News
गाजीपुर मंडी से निकलने वाले कचरे का इस्तेमाल वेस्ट टू पावर प्लांट में बिजली बनाने के लिए किया जाएगा
उत्तराखंड के गांवों से बहेगी 2022 में बदलाव की बयार - कलेर
अब भाजपा गुंडागर्दी पर उतर आई है, डाॅक्टरों को वेतन देने की बजाय प्रताड़ित कर रही- दुर्गेश पाठक
त्रिवेंद्र भी हरीश की तरह ‘एकला चलो’ की राह पर: आप
रोजगार दे नहीं पा रहे, होटल में काम करने वालों का उड़ा रहे है मजाक मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र: हिमांशु पुंडीर
BJP हेडक्वार्टर घेरने गए ‘आप’ पर जल-तोपों व लाठीचार्ज से किया अत्याचार, दर्जनों नेता पुलिस हिरासत में
एक तरफ देश त्योहार मना लूंगा दूसरी तरफ एमसीडी के कर्मचारी सैलरी का इंतजार कर रहे हैं
दलित दिव्यांग को पुलिस द्वारा प्रताड़ित करने के मामले में कोर्ट का रुख करेंगे आप सांसद संजय सिंह सांसद ने राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग में लिखित शिकायत कार्यवाही की मांग
CM केजरीवाल ने सीलमपुर शास्त्री पार्क फ्लाईओवर का उद्घाटन किया, ईमानदारी से काम कर जनता के 53करोड़ रुपए बचाए
NEET-JEE में सफल दिल्ली की सरकारी स्कूलों के बच्चों और अभिभावकों से मिले सीएम केजरीवाल, बच्चों ने साझा किया अनुभव