Monday, September 21, 2020
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
‘आप’ प्रदेश उपाध्यक्ष भानुप्रकाश ने स्वास्थ्य कर्मियों की हड़ताल को लेकर मंत्री टीएस पर किया पलटवारपटना में ‘आप’ ने आयोजित की मोहल्ला सभा, 2 सूत्री मांग पर कॉलोनी वासियों ने CM को भेजा प्रस्तावलोगों के सामूहिक प्रयासों से पिछले साल की तरह इस बार भी डेंगू को हराने में मदद मिलेगी: केजरीवाल‘आप’ ने तीन अहम नियुक्तियों का किया ऐलान, बरसट, नीना मित्तल और सुखी को मिली नई जिम्मेवारियांमोदी सरकार के हाथ में हैं शाही परिवार और बादलों की दुखती रग - हरपाल सिंह चीमाकिसानों के साथ कृषि बिल के नाम पर छलावा : ‘आप’दिल्ली सरकार ने ‘हर रविवार डेंगू पर वार’ अभियान में दिल्लीवासियों से सहयोग की अपील कीकृषि बिल के विरुद्ध वोट डालने के बारे में कोरा झूठ बोल रहे हैं सुखबीर सिंह बादल - भगवंत मान
National

कैप्टन अमरिंदर की नाकामी का नतीजा GST चोरी घोटाला, विजिलेंस ब्यूरो की जांच पर नहीं AAP को भरोसा

September 08, 2020 10:14 PM

चण्डीगढ़: आम आदमी पार्टी पंजाब के सीनियर नेता और नेता प्रतिपक्ष ने टैक्स व एक्साइज विभाग में हुए ₹100करोड़ के चोरी घोटाले के लिए मुख्यमंत्री अमरिन्दर सिंह की निकम्मी कार्यप्रणाली को जिम्मेदार ठहराया, जिस कारण चारों तरफ भ्रष्टाचार और माफिया राज का बोल-बाला है।

पार्टी हेडक्वार्टर से जारी बयान के द्वारा हरपाल सिंह चीमा ने कहा कि टैक्स व एक्साइज विभाग मुख्यमंत्री के पास है। इसी तरह विजिलेंस ब्यूरो भी बतौर गृहमंत्री अमरिन्दर सिंह के अधीन है। विजिलेंस ब्यूरो की जांच और मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक टैक्स व एक्साइज विभाग के अफसर-कर्मचारी ट्रांसपोर्टरों/व्यापारियों से प्रति महीना ₹30000 से लेकर ₹2.5 लाख तक की रिश्वत लेकर GST चोरी में प्रदेश के खजाने को वार्षिक ₹100करोड़ का चूना लगा रहे हैं। सवाल यह है कि इतने बड़े स्तर पर सक्रिय ऐसा GST माफिया सम्बन्धित मंत्री(जो मुख्यमंत्री ही है) की प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष सहमति या भागीदारी के बना कैसे संभव है? यह माननीय हाईकोर्ट के मौजूदा जजों की निगरानी में उच्च स्तरीय और समयबद्ध न्यायिक जांच का मामला है।

हरपाल सिंह चीमा ने पंजाब विजीलैंस ब्यूरो की तरफ से इस मामले की की जा रही जांच पर असंतुष्टी प्रकट करते हुए कहा कि पिछले लम्बे अरसे से पंजाब विजिलेंस ब्यूरो खुद माफिया की तर्ज पर काम कर रहा है। पीएसआईईसी में हुए ₹1500 करोड़ रुपए से अधिक के औद्योगिक प्लाट घोटाले को जिस तरीके से दबाया गया है, उच्च प्रशासनिक अधिकारियों और विजिलेंस ब्यूरो की मिलीभुगत की यह ताजा मिसाल है। पंजाब विजिलेंस ब्यूरो के नाम इस तरह की अनगिणत मिसालें इतिहास के पन्नों में दर्ज हैं।

Have something to say? Post your comment
More National News
सांसद संजय सिंह पर राजद्रोह का मुकदमा दर्ज किए जाने पर cyss ने खोला यूपी योगी के खिलाफ मोर्चा
‘आप’ प्रदेश उपाध्यक्ष भानुप्रकाश ने स्वास्थ्य कर्मियों की हड़ताल को लेकर मंत्री टीएस पर किया पलटवार
पटना में ‘आप’ ने आयोजित की मोहल्ला सभा, 2 सूत्री मांग पर कॉलोनी वासियों ने CM को भेजा प्रस्ताव
लोगों के सामूहिक प्रयासों से पिछले साल की तरह इस बार भी डेंगू को हराने में मदद मिलेगी: केजरीवाल
‘आप’ ने तीन अहम नियुक्तियों का किया ऐलान, बरसट, नीना मित्तल और सुखी को मिली नई जिम्मेवारियां
मोदी सरकार के हाथ में हैं शाही परिवार और बादलों की दुखती रग - हरपाल सिंह चीमा
किसानों के साथ कृषि बिल के नाम पर छलावा : ‘आप’
दिल्ली सरकार ने ‘हर रविवार डेंगू पर वार’ अभियान में दिल्लीवासियों से सहयोग की अपील की
कृषि बिल के विरुद्ध वोट डालने के बारे में कोरा झूठ बोल रहे हैं सुखबीर सिंह बादल - भगवंत मान
कृषि अध्यादेशों को लेकर राज्यपाल वीपी सिंह से मिलेगा ‘आप’ का शिष्टमंडल