Monday, September 21, 2020
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
‘आप’ प्रदेश उपाध्यक्ष भानुप्रकाश ने स्वास्थ्य कर्मियों की हड़ताल को लेकर मंत्री टीएस पर किया पलटवारपटना में ‘आप’ ने आयोजित की मोहल्ला सभा, 2 सूत्री मांग पर कॉलोनी वासियों ने CM को भेजा प्रस्तावलोगों के सामूहिक प्रयासों से पिछले साल की तरह इस बार भी डेंगू को हराने में मदद मिलेगी: केजरीवाल‘आप’ ने तीन अहम नियुक्तियों का किया ऐलान, बरसट, नीना मित्तल और सुखी को मिली नई जिम्मेवारियांमोदी सरकार के हाथ में हैं शाही परिवार और बादलों की दुखती रग - हरपाल सिंह चीमाकिसानों के साथ कृषि बिल के नाम पर छलावा : ‘आप’दिल्ली सरकार ने ‘हर रविवार डेंगू पर वार’ अभियान में दिल्लीवासियों से सहयोग की अपील कीकृषि बिल के विरुद्ध वोट डालने के बारे में कोरा झूठ बोल रहे हैं सुखबीर सिंह बादल - भगवंत मान
National

शिक्षामंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा - उच्चतर शिक्षा के रूपांतरण में नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति को लागू करने की कार्ययोजना का अभाव

September 08, 2020 10:01 PM

नई दिल्ली: उच्चतर शिक्षा के रूपांतरण में राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 की भूमिका पर कल सोमवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग सम्मेलन हुआ। इसमें महामहिम राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत विभिन्न राज्यों के राज्यपाल, उपराज्यपाल और शिक्षामंत्री शामिल हुए। दिल्ली के उपमुख्यमंत्री श्री मनीष सिसोदिया ने कॉन्फ्रेंस में राष्ट्रीय शिक्षा नीति के कार्यान्वयन पर गंभीर सवाल उठाए, कहा कि नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में इसे लागू करने की योजना का अभाव है। श्री सिसोदिया ने कहा कि इस नीति को लागू करने पर अच्छी तरह चिंतन करके ठोस कार्ययोजना बनानी चाहिए, ताकि यह महज एक अच्छे विचार तक सीमित न रह जाए।

श्री सिसोदिया ने कहा कि आजादी के 73 साल बाद भी हम लॉर्ड मैकाले का नाम लेकर अपनी सरकारों की कमियां छुपाते हैं। श्री सिसोदिया ने कहा कि वर्ष 1968 और 1986 में नई शिक्षा नीति बनाई गई। उन नीतियों का कार्यान्वयन नहीं करने की नाकामियों को छुपाने के लिए मैकाले को बहाना बनाया जाता है। आजादी के इतने साल बाद तक हमें अपनी शिक्षा नीति लागू करने से मैकाले ने नहीं रोका है। श्री सिसोदिया ने कहा कि आज हम संकल्प लें कि अपनी कमियों को छुपाने के लिए मैकाले का नाम अब कोई नहीं लेगा।

श्री सिसोदिया ने कहा कि आज ही एक अखबार में प्रकाशित खबर के अनुसार हर एक घंटे, देश में एक स्टूडेंट आत्महत्या कर रहा है। हमें सोचना होगा कि शिक्षा नीति में कहाँ कमी रह गई जिसके कारण बच्चों पर इतना तनाव और दबाव है जो उन्हें आत्महत्या को मजबूर करे।

श्री सिसोदिया ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति में वोकेशनल शिक्षा की बात कही गई है। अभी लगभग 80 फीसदी डिग्रीधारी युवाओं को रोजगार के योग्य नहीं समझा जाता है। हमें सोचना होगा कि 20 साल की पढ़ाई के बाद भी हमारे बच्चे अगर रोजगार नहीं हो सके तो कमी कहाँ रह गई। श्री सिसोदिया ने कहा कि बैचलर इन वोकेशनल की डिग्री को दोयम दर्जे पर रखा जाना उचित नहीं। अन्य विषयों के स्नातक की तरह इसे भी समान समझा जाये, तभी वोकेशनल कोर्सेस का लाभ मिलेगा।

उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति को विशफुल थिंकिंग तक सीमित रखने के बजाय व्यवहार में लाना जरूरी है। इसमें जीडीपी का 6 प्रतिशत शिक्षा पर खर्च करने की बात कही गई है। ऐसा पहले भी कहा जाता रहा है। अब इस पर कानून बनाना चाहिए ताकि इसे लागू करना सबकी बाध्यता हो।

श्री सिसोदिया ने कहा कि तोतारटंत शिक्षा और बोर्ड परीक्षाओं की गुलामी से बाहर निकलना बेहद जरूरी है। श्री सिसोदिया ने नई शिक्षा नीति में छोटे बच्चों की शिक्षा को शामिल करने का स्वागत करते हुए कहा कि हमें शिक्षा के जरिये विकसित देशों का मुकाबला करना है। लेकिन अगर अमेरिका के छोटे बच्चों को प्रशिक्षित शिक्षक पढ़ा रहे हों, तो हमारे देश के बच्चों के लिए आंगनबाड़ी सेविका की शिक्षा पर्याप्त नहीं। श्री सिसोदिया ने इसे घातक बताते हुए कहा कि नई शिक्षा नीति को बेहतर तरीके से लागू करके हमें एक विकसित राष्ट्र बनने का सपना साकार करना है।

Have something to say? Post your comment
More National News
सांसद संजय सिंह पर राजद्रोह का मुकदमा दर्ज किए जाने पर cyss ने खोला यूपी योगी के खिलाफ मोर्चा
‘आप’ प्रदेश उपाध्यक्ष भानुप्रकाश ने स्वास्थ्य कर्मियों की हड़ताल को लेकर मंत्री टीएस पर किया पलटवार
पटना में ‘आप’ ने आयोजित की मोहल्ला सभा, 2 सूत्री मांग पर कॉलोनी वासियों ने CM को भेजा प्रस्ताव
लोगों के सामूहिक प्रयासों से पिछले साल की तरह इस बार भी डेंगू को हराने में मदद मिलेगी: केजरीवाल
‘आप’ ने तीन अहम नियुक्तियों का किया ऐलान, बरसट, नीना मित्तल और सुखी को मिली नई जिम्मेवारियां
मोदी सरकार के हाथ में हैं शाही परिवार और बादलों की दुखती रग - हरपाल सिंह चीमा
किसानों के साथ कृषि बिल के नाम पर छलावा : ‘आप’
दिल्ली सरकार ने ‘हर रविवार डेंगू पर वार’ अभियान में दिल्लीवासियों से सहयोग की अपील की
कृषि बिल के विरुद्ध वोट डालने के बारे में कोरा झूठ बोल रहे हैं सुखबीर सिंह बादल - भगवंत मान
कृषि अध्यादेशों को लेकर राज्यपाल वीपी सिंह से मिलेगा ‘आप’ का शिष्टमंडल