Monday, September 21, 2020
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
‘आप’ प्रदेश उपाध्यक्ष भानुप्रकाश ने स्वास्थ्य कर्मियों की हड़ताल को लेकर मंत्री टीएस पर किया पलटवारपटना में ‘आप’ ने आयोजित की मोहल्ला सभा, 2 सूत्री मांग पर कॉलोनी वासियों ने CM को भेजा प्रस्तावलोगों के सामूहिक प्रयासों से पिछले साल की तरह इस बार भी डेंगू को हराने में मदद मिलेगी: केजरीवाल‘आप’ ने तीन अहम नियुक्तियों का किया ऐलान, बरसट, नीना मित्तल और सुखी को मिली नई जिम्मेवारियांमोदी सरकार के हाथ में हैं शाही परिवार और बादलों की दुखती रग - हरपाल सिंह चीमाकिसानों के साथ कृषि बिल के नाम पर छलावा : ‘आप’दिल्ली सरकार ने ‘हर रविवार डेंगू पर वार’ अभियान में दिल्लीवासियों से सहयोग की अपील कीकृषि बिल के विरुद्ध वोट डालने के बारे में कोरा झूठ बोल रहे हैं सुखबीर सिंह बादल - भगवंत मान
National

एमसीडी एक सप्ताह में कर्मचारियों को सैलरी दे, अन्यथा इस्तीफा दे, सत्ता में रहने का अधिकार नहीं- दुर्गेश पाठक

August 31, 2020 10:06 PM

नई दिल्ली: भाजपा शासित एमसीडी एक सप्ताह के अंदर अपने सभी कर्मचारियों की सैलरी जारी करे, अन्यथा भाजपा एमसीडी से इस्तीफा दे, उसे एमसीडी की सत्ता में बने रहने का नैतिक अधिकार नहीं है। आम आदमी पार्टी को सिर्फ एक साल के लिए एमसीडी सौंप कर देंखे, हम इतने ही बजट और व्यवस्था में एक साल के अंदर दिल्ली को देश का सबसे स्वच्छ शहर बना कर दिखाएंगे और निगम के सभी कर्मचारियों का वेतन भी देंगे। एमसीडी का 18 हजार करोड़ रुपये का सालाना बजट होता है, इसका 20 प्रतिशत बजट भी इमानदारी से खर्च किया होता, तो आज किसी भी कर्मचारी की सैलरी नहीं रूकी होती। इतने बजट के बावजूद भाजपा शासित एमसीडी अपने कर्मचारियों को सैलरी नहीं दे पाती है और यह सारा बजट भाजपा के पार्षद और उसके नेता खा जाते हैं। आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता दुर्गेश पाठक ने यह बातें आज पार्टी मुख्यालय में आयोजित एक प्रेस वार्ता के दौरान कहीं।

आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता दुर्गेश पाठक ने कहा कि पिछले कुछ महीनों के अखबार या न्यूज चैनल की खबरें देखें, तो प्रतिदिन भाजपा शासित नगर निगम के किसी न किसी विभाग का कोई न कोई ऐसा कर्मचारी मिल जाएगा, जो अपने वेतन को लेकर या तो धरना कर रहा होता है या धरने पर बैठने की चेतावनी दे रहा होता है या फिर आमरण अनशन की चेतावनी दे रहा होता है।आज के कुछ खबरों का हवाला देते हुए दुर्गेश पाठक ने कहा कि बाड़ा हिंदूराव अस्पताल की एक नर्स ने आज भाजपा शासित नगर निगम के मेयर साहब को अपने वेतन को लेकर एक बेहद ही मार्मिक एवं दर्द भरा पत्र लिखा। इसी प्रकार कस्तूरबा गांधी अस्पताल के डॉक्टरों ने पत्र लिखकर भाजपा शासित नगर निगम को बड़े स्तर पर त्यागपत्र देने की चेतावनी दी है। पत्र में डॉक्टर ने लिखा है कि यदि जल्द ही उनका वेतन नहीं दिया गया, तो पूरा का पूरा विभाग एक साथ त्यागपत्र दे देगा। 2दिन पहले समाचार पत्रों में छपी खबर का हवाला देते हुए उन्होंने बताया कि नगर निगम बुजुर्गों को जो पेंशन दिया करती थी, वह पिछले 6महीने से दिल्ली के रहने वाले बुजुर्गों को नहीं मिल रही है। यूनिवर्सिटी के लगभग 1500शिक्षकों एवं कर्मचारियों को कई महीने से वेतन नहीं मिला है। भाजपा शासित नगर निगम के अधीन काम करने वाले इंजीनियरों ने कहा कि यदि जल्द से जल्द उनका वेतन नहीं दिया गया, तो वे सभी हड़ताल करेंगे। निगम के अधीन आने वाले स्कूलों के लगभग 8000 अध्यापक 16 अगस्त से भाजपा शासित नगर निगम को हड़ताल पर जाने की चेतावनी दे रहे हैं और यदि जल्द ही उनका वेतन नहीं दिया गया, तो वह सभी लोग हड़ताल पर चले जाएंगे। इसी प्रकार से कोरोना महामारी के इस समय में अपनी जान को दांव पर लगाकर लोगों का इलाज करने वाले डॉक्टर्स को पिछले 3 महीने से भाजपा शासित नगर निगम में वेतन नहीं दिया है, जिसको लेकर डॉक्टर्स ने न केवल निगम को, बल्कि देश के गृह मंत्री और भाजपा के बड़े नेता अमित शाह जी तक को पत्र लिखकर अपनी परेशानियां उनके समक्ष रखी हैं। भाजपा शासित नगर निगम के अधीन आने वाले बेलदारों व सफाई कर्मचारियों को वेतन नहीं मिल रहा है और सबसे बड़ी बात कि भाजपा शासित नगर निगम का सदन सिविक सेंटर के अंदर काम करने वाले सिक्युरिटी गार्ड तक को पिछले कई महीनों से भाजपा वेतन नहीं दे पाई है।

दुर्गेश पाठक ने कहा कि लिखित आधार पर यह बात जग जाहिर है कि भाजपा शासित नगर निगम का साल का बजट 18000 करोड रुपए है। यदि उसका मात्र 20 पतिशत भी भाजपा सही तरीके से ईमानदारी के साथ इस्तेमाल कर ले, तो भाजपा शासित नगर निगम के अधीन आने वाले किसी भी विभाग का एक भी कर्मचारी वेतन के बिना नहीं रहेगा, कोई भी कर्मचारी ऐसा नहीं होगा, जिसे वेतन न मिले। उन्होंने कहा कि भाजपा के पिछले 14-15 साल के निगम के शासन काल में केवल और केवल एक व्यक्ति ऐसा है, जो फल फूल रहा है और वो हैं भारतीय जनता पार्टी के नेता। आप भाजपा के निगम पार्षदों के घर देख लीजिए, उनकी गाड़ियां देख लीजिए, उनका रहन-सहन देख लीजिए, उनकी जमीन जायदाद का ब्यौरा देख लीजिए, केवल और केवल भाजपा के नेता है, जो फल फूल रहे। उन्होंने कहा कि 18000 करोड़ का जो बजट है, वह सारा का सारा भाजपा के निगम पार्षदों तथा अन्य नेताओं में बंट जाता है। 18000 करोड रुपए बहुत बड़ी राशि होती है और उसके बावजूद भाजपा शासित नगर निगम अपने कर्मचारियों का वेतन तक नहीं दे पा रही है। इसका मतलब यही है कि यह सारा का सारा पैसा भाजपा के नेताओं में, निगम पार्षदों में बांट लिया जाता है।

मीडिया के माध्यम से प्रश्न पूछते हुए दुर्गेश पाठक ने कहा कि इस देश की और दिल्ली की जनता यह जानना चाहती है, और आम आदमी पार्टी की भी यह मांग है कि भाजपा के नेता बताएं कि आखिर यह 18000 करोड रुपए जाते कहां है? जबकि भाजपा शासित नगर निगम के अधीन आने वाले तमाम विभाग के लोग आज धरने पर बैठ रहे हैं, प्रदर्शन कर रहे हैं, किसी को सैलरी नहीं मिल रही है, तो यह पैसा जाता कहां है? दुर्गेश पाठक ने कहा कि अगले 1सप्ताह के भीतर भाजपा शासित नगर निगम सभी विभाग के कर्मचारियों का वेतन उनको दे, नहीं तो भाजपा को निगम की सत्ता में बने रहने का कोई मौलिक एवं नैतिक अधिकार नहीं है। दुर्गेश पाठक ने चुनौती देते हुए भाजपा को कहा कि मात्र 1 साल के लिए नगर निगम का कार्यभार आम आदमी पार्टी को सौंप दें, हम इतने ही बजट में इसी व्यवस्था के साथ 1साल के भीतर दिल्ली को देश का सबसे स्वच्छ शहर भी बना कर दिखाएंगे और निगम के अधीन आने वाले हर एक कर्मचारी का वेतन भी देंगे।

Have something to say? Post your comment
More National News
सांसद संजय सिंह पर राजद्रोह का मुकदमा दर्ज किए जाने पर cyss ने खोला यूपी योगी के खिलाफ मोर्चा
‘आप’ प्रदेश उपाध्यक्ष भानुप्रकाश ने स्वास्थ्य कर्मियों की हड़ताल को लेकर मंत्री टीएस पर किया पलटवार
पटना में ‘आप’ ने आयोजित की मोहल्ला सभा, 2 सूत्री मांग पर कॉलोनी वासियों ने CM को भेजा प्रस्ताव
लोगों के सामूहिक प्रयासों से पिछले साल की तरह इस बार भी डेंगू को हराने में मदद मिलेगी: केजरीवाल
‘आप’ ने तीन अहम नियुक्तियों का किया ऐलान, बरसट, नीना मित्तल और सुखी को मिली नई जिम्मेवारियां
मोदी सरकार के हाथ में हैं शाही परिवार और बादलों की दुखती रग - हरपाल सिंह चीमा
किसानों के साथ कृषि बिल के नाम पर छलावा : ‘आप’
दिल्ली सरकार ने ‘हर रविवार डेंगू पर वार’ अभियान में दिल्लीवासियों से सहयोग की अपील की
कृषि बिल के विरुद्ध वोट डालने के बारे में कोरा झूठ बोल रहे हैं सुखबीर सिंह बादल - भगवंत मान
कृषि अध्यादेशों को लेकर राज्यपाल वीपी सिंह से मिलेगा ‘आप’ का शिष्टमंडल