Monday, September 21, 2020
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
‘आप’ प्रदेश उपाध्यक्ष भानुप्रकाश ने स्वास्थ्य कर्मियों की हड़ताल को लेकर मंत्री टीएस पर किया पलटवारपटना में ‘आप’ ने आयोजित की मोहल्ला सभा, 2 सूत्री मांग पर कॉलोनी वासियों ने CM को भेजा प्रस्तावलोगों के सामूहिक प्रयासों से पिछले साल की तरह इस बार भी डेंगू को हराने में मदद मिलेगी: केजरीवाल‘आप’ ने तीन अहम नियुक्तियों का किया ऐलान, बरसट, नीना मित्तल और सुखी को मिली नई जिम्मेवारियांमोदी सरकार के हाथ में हैं शाही परिवार और बादलों की दुखती रग - हरपाल सिंह चीमाकिसानों के साथ कृषि बिल के नाम पर छलावा : ‘आप’दिल्ली सरकार ने ‘हर रविवार डेंगू पर वार’ अभियान में दिल्लीवासियों से सहयोग की अपील कीकृषि बिल के विरुद्ध वोट डालने के बारे में कोरा झूठ बोल रहे हैं सुखबीर सिंह बादल - भगवंत मान
Punjabi News

बिहार के खेती बाजार पर PAU की सनसनीखेज रिपोर्ट के बारे में स्पष्टीकरण दें कैप्टन व बादल: भगवंत मान

August 02, 2020 11:08 PM

चंडीगढ़: आम आदमी पार्टी पंजाब के प्रदेश अध्यक्ष व सांसद भगवंत मान ने केंद्र के कृषि अध्यादेशों के मद्देनजर पंजाब मंडी बोर्ड की ओर से पीएयू(पंजाब कृषि यूनिवर्सिटी लुधियाना) के द्वारा बिहार के खेती बाजार सुधार(मार्किटिंग रिफार्मज) के करवाए अध्ययन की सनसनीखेज रिपोर्ट पर मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह समेत भाजपा के हिस्सेदार सांसद सुखबीर सिंह बादल और केंद्रीय फूड प्रोसेसिंग मंत्री बीबी हरसिमरत कौर बादल से स्पष्टीकरण मांगा है।

कृषि अध्यादेश लागू होने के बाद पंजाब की बर्बादी का शीशा दिखाती है रिपोर्ट...

शुक्रवार को पार्टी हैडक्वाटर से जारी बयान के द्वारा भगवंत मान ने कहा कि अध्ययन(स्टडी) में सामने आए तथ्य पंजाब की कृषि की बर्बादी वाली तस्वीर साफ दिखाई दे रही हैं। भगवंत मान ने कहा कि केंद्र के कृषि विरोधी अध्यादेशों के लागू होने के उपरांत पंजाब की मंडियों में अनाज किस कद्र बर्बाद होगा व किसान किस तरह ताकतवर कॉर्पोरेट घरानों और निजी व्यापारियों हाथों लूटा जाएगा? ‘बिहार मॉडल’ उसकी मिसाल है। जिसने 2006 एग्रीकल्चर प्रोड्यूसर मार्केट समिति एक्ट(एपीएमसीए) भंग करके बिहार की कृषि मंडियों को निजी सैक्टर के सुपुर्द करने की गलती की थी। हालांकि तत्कालीन सरकार ने तब कृषि सैक्टर में निजी निवेश बडा कर कृषि की काया-कल्प किए जाने के बारे में ठीक उसी तरह सब्जबाग दिखाऐ थे, जैसे कृषि संशोधन के नाम पर मोदी सरकार अपने विनाशकारी अध्यादेशों को लागू करने के लिए दिखा रहे हैं।

भगवंत मान ने कहा कि पीएयू की रिपोर्ट में एनसीएईआर-2019 के हवाले से बताया गया है कि एपीएमसीए भंग होने के उपरांत बिहार की मंडियों में प्राईवेट कंपनियों ने नया निवेश करने की बजाए अपने फायदे के लिए और छूट मांगनी शुरू कर दी। अनाज खरीदने के लिए बदल के तौर पर आगे लेकर आए प्राथमीक सहकारी समतियां भी बुरी तरह फ्लाप साबित हुई, नतीजे के तौर पर बिहार में अनाज खरीद मंडियों की संख्या घटती-घटती 2019-20 में केवल 1619 रह गई जो 4साल पहले 10000 के करीब था।

भगवंत मान ने बताया कि रिपोर्ट के अनुसार एपीएमसीए तोड़ने से पहले(2006) किसानों की 85 प्रतिशत आमदन कम हो कर 57 प्रतिशत रह गई और यह गिरावट जारी है।

भगवंत मान ने कहा कि इस सनसनीखेज रिपोर्ट ने आम आदमी पार्टी समेत अध्यादेशों का विरोध कर रही बाकी राजनैतिक गुटों, किसान-मजदूर जत्थेबंदियां और कृषि आर्थिक माहिरों के उन सभी शंके-संदेहों पर निश्चित रूप से मोहर लगा दी है कि यदि पंजाब सरकार की कमजोरी और बादल परिवार की गद्दारी के कारण पंजाब में मोदी सरकार के घातक कृषि अध्यादेश लागू हो जाते हैं तो पंजाब के किसानों और कृषि पर निर्भर बाकी सभी वर्ग आढतियां, मुनीम, लेबर -पल्लेदारों, छोटे दुकानदारों, खेती मजदूरों और ट्रांसपोर्टरों का बिहार के लोगों की अपेक्षा भी ज़्यादा बुरा हाल होगा, क्योंकि ऐसे घातक प्रबंध में फसलों का कम से कम समर्थन ऐलाने मूल्य(एम.एच.पी) बेमाना हो कर रह जाएगा और कॉर्पोरेट घराने और बड़े व्यापारी गन्ने-मक्का की तरह गेहूं और धान की फसलों के मनमाने कम दाम और लटका-लटका कर भुगतान किया करेंगे।

भगवंत मान ने कहा कि कैप्टन सरकार की तरफ से एपीएमसीए कानून भंग करना बड़ी गलती साबित होगा, हालांकि जिस समय पंजाब विधान सभा में एपीएमसीए भंग किया जा रहा था ‘आप’ विधायकों ने इस का जोरदार विरोध किया था।

Have something to say? Post your comment
More Punjabi News News
पंजाब में कृषि को जोंक की तरह चूस रहा है भ्रष्ट सरकारी तंत्र, जिप्सम घोटाले की हो न्यायिक जांच - AAP
आम घरों के बच्चों को साजिश के तहत शिक्षा से वंचित रख रही है कैप्टन अमरिन्दर सरकार - भगवंत मान
डीएसजीएमसी चुनाव की प्रक्रिया शुरू, मंत्री राजेंद्र गौतम ने सभी दलों के साथ की बैठक
बिना मापदंड के लाखों उपभोक्ताओं के राशन कार्ड काटना गलत, AAP ने सौंपा मांग पत्र - मनजीत सिंह बिलासपुर
अगर सीधी भर्ती ही करनी है, तो क्यों बांधे पीपीएससी व एसएसएस बोर्ड जैसे ‘सफेद हाथी’ - प्रिंसीपल बुद्ध राम
मोगा सेक्स स्कैंडल-3 की सीबीआई से जांच करवाएं सीएम कैप्टन अमरिन्दर - हरपाल सिंह चीमा
छोटे किसानों को मनरेगा का लाभ सुनिश्चित करे कैप्टन सरकार - आप
बादलों की तरह अब कैप्टन अमरिन्दर सिंह हैं पंजाब की बर्बादी की असली जड़ - हरपाल सिंह चीमा
निकम्मे CM को हटा नहीं सकते, खुद इस्तीफे देने की हिम्मत दिखाएं कांग्रेसी मंत्री-विधायक: आप
शराब की होम डिलीवरी, परन्तु बिजली के बिल लेने के लिए लोगों को कतारों में खड़े करने लगे है कैप्टन - भगवंत मान