Wednesday, September 23, 2020
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
किसान विरोधी बिल के खिलाफ 25 सितम्बर को ‘भारत बंद’ में शामिल रहेगी ‘सीवाईएसएस’मोदी सरकार जनता की गाढ़ी कमाई से अखबारों में अंग्रेजी में विज्ञापन देकर अपना चेहरा चमका रही: राघव चड्ढाकिसानों के साथ भद्दा मजाक व फरेबी शरारत है गेहूं के दाम में मामूली वृद्धि - हरपाल सिंह चीमाकिसान बिल के विरोध में आम आदमी पार्टी के सदस्यों ने पटना में किया विरोध प्रदर्शनकिसान विरोधी बिल पास कर भाजपा का किसान हितैषी चेहरा हुआ नंगा : काका बराड़कृषि बिल पर केंद्र की मनमानी, किसानों के अस्तित्व को खतरा - ‘आप’लगातार बढ़ रहा AAP का कुनबा, विकासनगर के लक्ष्मीपुर क्षेत्र में ‘आप’ कार्यालय का शुभारम्भAAP की मजबूती और 2022 में सरकार बनाने के लिए दिन-रात एक कर देंगे - हरचन्द सिंह बरसट
National

बिहार में प्रति वर्ष आने वाले बाढ़ के रोकथाम का स्थाई निदान ढूंढ़े सरकार - AAP

July 30, 2020 11:36 PM

पटना: आम आदमी पार्टी ने बिहार में प्रति वर्ष आने वाले बाढ़ और इसके कारण जान माल की भीषण नुकसान पर गहरी चिंता जताई है। पार्टी की प्रदेश प्रवक्ता गुल्फिशा युसुफ ने बिहार में प्रतिवर्ष बाढ़ की रोकथाम का स्थाई निदान ढूंढ़कर इसका स्थाई निदान निकालने की मांग मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से की है।

पार्टी की प्रदेश प्रवक्ता गुल्फिशा युसुफ ने अफसोस जाहिर करते हुए कहा है कि- बिहार पिछले पंद्रह सालों से  इंजीनियर मुख्यमंत्री श्री नीतीश कुमार के हाथ में है, बावजूद इसके बिहार में बाढ़ की विभीषिका की रोकथाम का स्थाई निदान नहीं निकल पाना आश्चर्य की बात है। बिहार में अगर जनता आम आदमी पार्टी की सरकार आती है तो हम दो वर्षों के भीतर बाढ़ की समस्या  स्थाई निराकरण करेगे।"

उन्होंने बिहार सरकार का ध्यनाकृष्ठ कराते हुए कहा कि आज बिहार की करीब दस लाख की आबादी बाढ़ से प्रभावित है। बाढ़ पीड़ित  बचाने के लिए घर का सामान और मवेशी छोड़ नेशनल हाईवे और दूसरे ऊंचाई वाले स्थानों पर शरण ले रहे हैं। बिहार सरकार की ओर से दो चार पीछे इनके लिए राहत के रूप में छह हजार की सहायता राशि देने की घोषणा की गई है जो की काफी कम है। सरकार इस राशि को दुगुना कर कम से कम बारह हजार करे।इस मंहगाई के जमाने में पूर्व में घोषित सहायता राशि काफी कम है।आज बिहार के 12जिले बाढ़ प्रभावित हैं। बाढ़ से  अबतक 21लोगों की मौत हो चुकी है।इस बात से कतई इनकार नहीं कर सकते कि अगर बाढ़ भ्रस्ट अफसरों की अनदेखी का भी परिणाम हो सकता है। ₹263.47-crore की लागत से बना गोपालगंज में गंडक नदी पर सतरघाट पुल का बिहार के सीएम नीतीश कुमार द्वारा उद्घाटन के एक महीने बाद ढह जाना इसका ताजा उदाहरण है। इसकी सीबीआई जांच होनी चाहिए थी, दोषी विभाग और मंत्री को बचाने के उद्देश्य से अब तक बिहार सरकार ने इसकी अनुशंसा नहीं की है।

पूर्वी चंपारण में सोमवती नदी पर बना पुल भी बाढ़ के पानी का दवाब झेल नहीं सका और देखते देखते बह गया। नहरों की कटाई, बांध निर्माण आदि में भ्रटाचार जगजाहिर है जो बाढ़ की विभीषिका को बढ़ाने में सहायक है। नीतीश सरकार को जवाब देना चाहिए कीकटिहार, पूर्णिया, पूर्वी चंपारण, दरभंगा, मधुबनी, भागलपुर, सीतामढ़ी, गोपालगंज , समस्तीपुर, मोतिहारी जैसे जिलों के लोग लगभग प्रतेक वर्ष चार माह बेबस, लचर और अपनी बर्बादी झेलने की मजबूर है। प्रति वर्ष करोड़ों रुपए की क्षति से राज्य की अर्थ व्यवस्था को भी गहरा झ्टका लग रहा है। आखिर इसका जिम्मेवार कौन है ???

Have something to say? Post your comment
More National News
किसान विरोधी बिल के खिलाफ 25 सितम्बर को ‘भारत बंद’ में शामिल रहेगी ‘सीवाईएसएस’
मोदी सरकार जनता की गाढ़ी कमाई से अखबारों में अंग्रेजी में विज्ञापन देकर अपना चेहरा चमका रही: राघव चड्ढा
किसानों के साथ भद्दा मजाक व फरेबी शरारत है गेहूं के दाम में मामूली वृद्धि - हरपाल सिंह चीमा
किसान बिल के विरोध में आम आदमी पार्टी के सदस्यों ने पटना में किया विरोध प्रदर्शन
किसान विरोधी बिल पास कर भाजपा का किसान हितैषी चेहरा हुआ नंगा : काका बराड़
कृषि बिल पर केंद्र की मनमानी, किसानों के अस्तित्व को खतरा - ‘आप’
लगातार बढ़ रहा AAP का कुनबा, विकासनगर के लक्ष्मीपुर क्षेत्र में ‘आप’ कार्यालय का शुभारम्भ
AAP की मजबूती और 2022 में सरकार बनाने के लिए दिन-रात एक कर देंगे - हरचन्द सिंह बरसट
सांसद संजय सिंह पर राजद्रोह का मुकदमा दर्ज किए जाने पर cyss ने खोला यूपी योगी के खिलाफ मोर्चा
‘आप’ प्रदेश उपाध्यक्ष भानुप्रकाश ने स्वास्थ्य कर्मियों की हड़ताल को लेकर मंत्री टीएस पर किया पलटवार