Tuesday, September 21, 2021
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
केजरीवाल सरकार छात्रों में विकसित करेगी उद्यमी बनने के गुण, सरकारी स्कूलों में मंगलवार को लॉन्च किया जाएगा बिजनेस ब्लास्टर्स प्रोग्रामदिल्ली और गोवा के ऊर्जा मंत्री में बिजली पर बेहतरीन बहस, भाजपा ने स्वीकार किया कि AAP की पॉलिसी सही है‘आप’ ने पर्यावरणविद स्व. सुंदरलाल बहुगुणा पर हुई ओंछी टिप्पणी के विरोध में भाजपा कार्यालय का किया घेराव प्रदर्शन दिल्ली के सिर पर मंडरा रहे जल संकट के लिए हरियाणा की खट्टर सरकार पूरी तरह से जिम्मेदार- राघव चड्ढाभाजपा शासित हरियाणा सरकार ने 24 घंटे में यदि दिल्ली के हक का पूरा पानी नहीं दिया तो भाजपा के दिल्ली अध्यक्ष आदेश गुप्ता के पानी कनेक्शन को काट दिया जाएगा- सौरभ भारद्वाज दिल्ली महिला आयोग बेहतरीन काम कर रहा है, वर्तमान आयोग के एक और कार्यकाल को मंजूरी दी गई है- अरविंद केजरीवालजिम्मेदार और संवेदनशील सरकार होने के नाते हमारा फर्ज है, हम कोरोना से जान गंवाने वाले लोगों के परिवारों की मदद करें - अरविंद केजरीवालडीएसईयू के 13 कैम्पसों में 15 डिप्लोमा,18 स्नातक और 2 पोस्ट-ग्रेजुएशन कोर्स के लिए किया जा सकेगा आवेदन
National

राजस्थान में गरीबों को मुफ्त राशन के नाम पर धोखा दे रही है प्रदेश की गहलोत सरकार - महेंद्र मीना

June 02, 2020 11:37 AM

राजगढ़(अलवर): आम आदमी पार्टी राजस्थान के प्रदेश प्रवक्ता व अलवर जिला अध्यक्ष महेंद्र मीना ने प्रदेश सरकार पर निशान साधते हुए कहा कि राजस्थान सरकार गरीबों के साथ धोखाधड़ी कर रही है। कोरोना काल से लड़ने के लिए प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भर अभियान के तहत गरीबों को 3 महीने(जून से अगस्त) तक मिलने वाला राशन मुफ्त देने की बात कही थी, जिसे राजस्थान सरकार के खाद्य मंत्री ने 31 मई के आदेश में दरकिनार करते हुए गेहूं पहले की तरह ₹1 व ₹2 प्रति किलो देने का आदेश जारी कर दिया है, जो पूरी तरह गरीब विरोधी है लॉकडाउन में छूट देते ही प्रशासन ने बंद किया गरीबों का निवाला, राशन की दुकान पर गेहूं लेने खड़ी महिलाओं ने बताया कि आज भी वहीं स्थिति है, जो पिछले महीने थी।

वही महेंद्र मीना ने कहा कि कोरोना महामारी से परेशान जनता को लॉकडाउन में छूट देने के साथ ही सरकार ने गरीबों का मुफ़्त राशन बंद कर दिया है। डेढ़ महीने से गरीबों को दिया जा रहा भोजन लॉकडाउन-4.0 में कम किया गया, और अनलॉक-1.0 आते ही नाममात्र का रह गया अब स्थिति यह है कि रोजाना बाटे जा रहे खाने के पैकेट अब केवल 15 फीसदी ही वितरित किए जा रहे हैं। ड्राइ राशन किट तो लगभग बंद ही कर दिए गए है, जबकि कच्ची बस्तियों व ग्रामीण क्षेत्रों में हालात विकट हैं। लोगों का कहना है कि अभी तो रोजगार ही नहीं मिला, और जिन्होंने नौकरी पर जाना शुरू किया है, उन्हें भी 15 दिन या 1 महीने बाद ही कुछ राशि मिलेगी। ऐसे में कैसे गुजारा होगा, जबसे लॉकडाउन खोलने की प्रक्रिया शुरू हुई है, तब से भामाशाह से मिलने वाली सहायता में भी कमी आई है।

अगर सरकार भी ऐसे हालातों में अपने हाथ खींच लेती है, तो जनता की कौन सुनेगा? महेंद्र मीना ने कहा कि आम आदमी पार्टी ने राजस्थान सरकार के खाद्य मंत्री को ईमेल द्वारा ज्ञापन देकर गरीब विरोधी आदेश को वापिस लेने के लिए अपील की है कि खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति विभाग द्वारा 31 मई के आदेश को जनहित में तुरन्त प्रभाव से वापिस लेकर गरीबों के लिए कोरोना महामारी के दौर में साथ दें, अन्यथा आम आदमी पार्टी जनहित में गरीबों के लिए सरकार के खिलाफ आंदोलन करेगी।

Have something to say? Post your comment
More National News