Wednesday, September 23, 2020
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
किसान विरोधी बिल के खिलाफ 25 सितम्बर को ‘भारत बंद’ में शामिल रहेगी ‘सीवाईएसएस’मोदी सरकार जनता की गाढ़ी कमाई से अखबारों में अंग्रेजी में विज्ञापन देकर अपना चेहरा चमका रही: राघव चड्ढाकिसानों के साथ भद्दा मजाक व फरेबी शरारत है गेहूं के दाम में मामूली वृद्धि - हरपाल सिंह चीमाकिसान बिल के विरोध में आम आदमी पार्टी के सदस्यों ने पटना में किया विरोध प्रदर्शनकिसान विरोधी बिल पास कर भाजपा का किसान हितैषी चेहरा हुआ नंगा : काका बराड़कृषि बिल पर केंद्र की मनमानी, किसानों के अस्तित्व को खतरा - ‘आप’लगातार बढ़ रहा AAP का कुनबा, विकासनगर के लक्ष्मीपुर क्षेत्र में ‘आप’ कार्यालय का शुभारम्भAAP की मजबूती और 2022 में सरकार बनाने के लिए दिन-रात एक कर देंगे - हरचन्द सिंह बरसट
National

लॉकडाउन पर राय: ट्रांसपोर्ट, माॅल-बाजार, रेस्त्रां खुले, स्कूल-कॉलेज गर्मी की छुट्टी तक बंद रहे

May 14, 2020 04:33 PM

नई दिल्ली: दिल्ली के लोगों ने लॉकडाउन-4 में दी जाने वाली ढील को लेकर सिर्फ 24घंटे के अंदर ही 5लाख से अधिक सुझाव दिए हैं। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि जनता ने सुझाव दिया है कि सोशल डिस्टेंसिंग का कड़ाई से पालन कराते हुए ट्रांसपोर्ट, इंडस्ट्री, माॅल, बाजार, रेस्त्रां, होम डिलीवरी को खोल देना चाहिए, लेकिन स्कूल-कॉलेज व शैक्षिक संस्थाएं गर्मी की छुट्टियों तक बंद रखने चाहिए। कंटेनमेंट जोन में किसी भी तरह की ढील नहीं दी जानी चाहिए। मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली की जनता से 17मई को खत्म हो रहे लॉकडाउन-3 के बाद किन क्षेत्रों में कितनी ढील दी जानी चाहिए, उस पर सुझाव मांगे गए थे। सिर्फ 24घंटे के अंदर ही पौने पांच लाख वाट्सएप मैसेज, 10700 ई-मेल और 39000 लोगों ने फोन करके अपना सुझाव दिया है। इसमें काफी सुझाव बहुत अच्छे और रचनात्मक हैं। आज शाम एलजी के साथ स्टेट डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी की होने वाली बैठक में लोगों से मिले सुझावों पर विचार किया जाएगा। इसके बाद आज ही दिल्ली के लोगों का प्रस्ताव बना कर केंद्र सरकार को सौंप दिया जाएगा। केंद्र सरकार से मिले निर्देश के मुताबिक 18मई(सोमवार) से सोशल डिस्टेंसिंग के साथ दिल्ली के अंदर अलग-अलग गतिविधियां शुरू की जाएंगी।

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने बृहस्पतिवार को डिजिटल प्रेस कांफ्रेंस कर कहा कि दो दिन पहले मैंने दिल्ली के लोगों से सुझाव मांगे थे कि 17मई को लाॅकडाउन खत्म हो रहा है। 17मई के बाद क्या लॉकडाउन खत्म कर देना चाहिए? क्या लॉकडाउन में कुछ ढील देनी चाहिए? अगर ढील देनी चाहिए, तो कितनी देनी चाहिए? मैने 12मई की शाम को सुझाव मांगा था और एक ही दिन का समय दिया गया था। वह इसलिए, क्योंकि सोमवार को प्रधानमंत्री जी ने देश के सभी मुख्यमंत्रियों के साथ बैठक की थी। उन्होंने सभी मुख्यमंत्रियों से कहा था कि आप 17मई के बाद अपने राज्य में कितनी ढीलाई चाहते हैं, इसके लिए आप अपने सुझाव 15मई तक हमें भेज दीजिए। आज 14 मई है और हम अपना प्रस्ताव आज ही शाम तक बना कर प्रधानमंत्री जी को भेजना चाहते हैं। सभी राज्य अपने-अपने प्रस्ताव भेजेंगे और फिर केंद्र सरकार निर्णय लेगी कि कहां-कहां, कितना- कितना लॉकडाउन करना है? दिल्ली के अंदर कितनी ढीलाई दी जानी चाहिए? इस पर मैने तय किया कि यह सुझाव किसी एसी कमरे में बैठकर तय नहीं होने चाहिए। जनता से पूछना चाहिए। एक्सपर्ट और डॉक्टर से पूछना चाहिए कि आगे क्या होना चाहिए। इसीलिए मैने जनता से सुझाव मांगे। दिल्ली की जनता को कल शाम 5बजे तक का समय था। इन 24 घंटे में पौने पांच लाख वाट्सएप मैसेज आए, 10700 ईमेल आए और 39000 लोगों ने फोन करके अपना सुझाव दिया। इस तरह हमारे पास 5लाख से अधिक सुझाव आए हैं। लोगों ने बहुत अच्छे और राचनात्मक सुझाव भेजे हैं।

लोगों के सुझाव, सैलून, नाई की दुकान, स्पाॅ और होटल अभी बंद रखा जाए- अरविंद केजरीवाल

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि अधिकतर लोगों ने सुझाव दिया है कि स्कूल, कॉलेज और शैक्षिक संस्थाएं अभी नहीं खोलना चाहिए। गर्मी की छुट्टियों तक इसे बंद रखना चाहिए। इसके बाद खोलने पर विचार करना चाहिए। कुछ लोगों ने यह भी कहा है कि खुलने चाहिए। अधिकतर लोगों ने कहना था कि होटल अभी नहीं खुलना चाहिए, लेकिन रेस्त्रां खोल देना चाहिए। खाने की होम डिलीवरी और टेक-अवे को अनुमति दे दीजिए, ताकि लोग खरीद कर वहां से चले जाएं। वहीं, इस पर लगभग सभी लोगों की सहमति है कि अभी नाई की दुकान नहीं खुलनी चाहिए। वहां पर ज्यादा भीड़ होती है और कोरोना के ज्यादा फैलने का डर होता है। इसी तरह स्पाॅ, सैलून, सिनेमा हॉल और स्वीमिंग पूल भी अभी नहीं खुलने चाहिए। लोगों ने यह पूछा है कि सुबह 7बजे से शाम 7बजे तक घर से लोगों को बाहर नहीं निकलने पर लगी रोक का क्या मतलब है। शाम के वक्त लोग के बाहर निकलने से कोरोना का क्या लेना देना है। लोगों का कहना है कि इस पर समय की पाबंदी नहीं होनी चाहिए, लेकिन सभी का कहना है कि अभी बुजुर्गों को घर से नहीं निकलना चाहिए। जितने हार्ट, दमा, शुगर, गर्भवती महिलाएं, 10साल से कम उम्र के बच्चे और कैंसर के मरीज हैं, ऐसे लोगों के लिए कोरोना जानलेवा है और इन्हें घर से बाहर नहीं निकलना चाहिए। ऐसे लोगों पर ज्यादा से ज्यादा सख्ती होनी चाहिए। इस बात पर लगभग सभी की आम सहमति है कि जितना भी ढील दी जाए, उसमें सोशल डिस्टेंसिंग का सख्ती से पालना होना चाहिए और जो लोग भी मास्क नहीं पहनें, उन पर सख्त कार्रवाई होनी चाहिए। मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया जाना चाहिए। लोगों ने यह भी कहा कि सुबह पार्क में जाने की अनुमति देनी चाहिए, ताकि लोग वाॅक कर सकें। वॉक, योगाभ्यास और व्यायाम करने से हमारी रोग प्रतिरोधक क्षमता बढे़गी।

लोगों ने कहा, दिल्ली में रहने वाले मजदूरों को काम करने की अनुमति दी जाए - अरविंद केजरीवाल

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कई लोगों ने ट्रांसपोर्ट पर अपने सुझाव दिए हैं। कुछ का कहना है कि ऑटो और टैक्सी खुलने चाहिए। ऑटो और ई-रिक्शा में एक और टैक्सी में दो यात्री के बैठने की अनुमति होनी चाहिए। हर सवारी के बाद ऑटो को डिस-इंफेक्ट करना चाहिए। अधिकतर लोगों ने कहा कि सोशल डिस्टेंसिंग के साथ बसें खुलनी चाहिए। बसों में 20-25 से अधिक सवारियां नहीं होनी चाहिए। लोगों का कहना है कि पिछले सप्ताह लाॅकडाउन-3 के दौरान सरकारी कार्यालयों को खोलने की इजाजत दे दी गई, लेकिन लोग कैसे कार्यालय जाएंगे? सभी के पास निजी वाहन नहीं है। लोगों का कहना है कि कम सवारियों के साथ कुछ हद तक बसें चलाने की अनुमति देनी चाहिए। कुछ लोगों का कहना है कि मेट्रो को भी सीमित दायरे में खोलना चाहिए।

व्यापारियों का सुझाव, ऑड-ईवन से खुले बाजार, मॉल में सीमित दुकानें खुलें - अरविंद केजरीवाल

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि कई मार्केट एसोसिएशन का सुझाव है कि मार्केट कॉम्प्लेक्स खुलने चाहिए। इनका कहना है कि भले ही इन्हें ऑड-ईवन करके खोला जाए। एक दिन आधी और दूसरे दिन आधी दुकानें खोल दी जाए। कई लोगों ने सुझाव दिया कि माॅल्स की एक तिहाई या आधी दुकानें खोल दें और शाॅपिंग माॅल्स भी धीरे-धीरे खुलने की तरफ बढ़ने चाहिए। हमारे पास कई इंस्ट्रीज एसोसिएशन के भी सुझाव आए हैं। कई का कहना है कि इंडस्ट्रीयल एरिया खुलने चाहिए। वैसे तो वर्तमान में इंस्ट्रीयल एरिया खोलने की अनुमति है। कंस्ट्रक्शन गतिविधियों में अभी फिलहाल जो अनुमति दी गई है, उसमें वहीं आसपास रहने वाले मजदूर को ही काम करने की अनुमति है। लोगों ने सुझाव दिया है कि मजदूर दिल्ली के अलग-अलग जगहों पर रहते हैं। इसलिए दिल्ली में रहने वाले मजूदरों को अनुमति हो, ऐसी व्यवस्था की जाए। लेकिन कंटेनमेंट ज़ोन के अंदर किसी भी तरह की गतिविधि की अनुमति नहीं होनी चाहिए।

सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करें और मास्क पहन कर घर से निकलें- अरविंद केजरीवाल

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि 24मार्च को लॉकडाउन लगा था। करीब डेढ़ महीना हो गया है। इस डेढ़ महीने के अंदर पूरा देश लगभग बंद था। पूरी दिल्ली लगभग बंद थी। सब बंद करना तो आसान था, लेकिन अर्थव्यवस्था को खोलने के लिए बहुत मेहनत करनी पड़ेगी। आने वाला समय और अधिक कठिनाई भरा है। आपके सुझावों के आधार पर आज शाम 4बजे एलजी अनिल बैजल साहब के साथ हमारी स्टेट डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी की बैठक है। आप लोगों ने जितने भी सुझाव भेजे हैं, बैठक में उसकी चर्चा की जाएगी। उसके बाद दिल्ली में कितनी ढिलाई दी जाए, हम अपना प्रस्ताव बनाकर केंद्र सरकार को भेजेंगे। केंद्र सरकार पूरे देश के बारे में निर्णय लेगी कि किस राज्य के अंदर कितनी ढिलाई देनी है। इस वक्त पूरे देश के अंदर डिजास्टर मैनेजमेंट एक्ट लागू हैं। जिसके अंदर केंद्र सरकार को काफी अधिकार है। वह राज्य सरकार को सीधे निर्देश देती है कि कौन से राज्य को क्या काम करना है। अगले दो-तीन दिन में केंद्र सरकार जो आदेश देगी, उसके आधार पर सोमवार से दिल्ली के अंदर अलग-अलग गतिविधियां शुरू होंगी। जो भी गतिविधियां शुरू हों, उसमें सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना है। हमेशा घर से मास्क पहन कर निकलना है। अपने बुजुर्गों, गर्भवती महिलाओं और गंभीर बीमारी से ग्रसित लोगों का खासतौर से ख्याल रखना है।

Have something to say? Post your comment
More National News
किसान विरोधी बिल के खिलाफ 25 सितम्बर को ‘भारत बंद’ में शामिल रहेगी ‘सीवाईएसएस’
मोदी सरकार जनता की गाढ़ी कमाई से अखबारों में अंग्रेजी में विज्ञापन देकर अपना चेहरा चमका रही: राघव चड्ढा
किसानों के साथ भद्दा मजाक व फरेबी शरारत है गेहूं के दाम में मामूली वृद्धि - हरपाल सिंह चीमा
किसान बिल के विरोध में आम आदमी पार्टी के सदस्यों ने पटना में किया विरोध प्रदर्शन
किसान विरोधी बिल पास कर भाजपा का किसान हितैषी चेहरा हुआ नंगा : काका बराड़
कृषि बिल पर केंद्र की मनमानी, किसानों के अस्तित्व को खतरा - ‘आप’
लगातार बढ़ रहा AAP का कुनबा, विकासनगर के लक्ष्मीपुर क्षेत्र में ‘आप’ कार्यालय का शुभारम्भ
AAP की मजबूती और 2022 में सरकार बनाने के लिए दिन-रात एक कर देंगे - हरचन्द सिंह बरसट
सांसद संजय सिंह पर राजद्रोह का मुकदमा दर्ज किए जाने पर cyss ने खोला यूपी योगी के खिलाफ मोर्चा
‘आप’ प्रदेश उपाध्यक्ष भानुप्रकाश ने स्वास्थ्य कर्मियों की हड़ताल को लेकर मंत्री टीएस पर किया पलटवार