Thursday, September 24, 2020
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
किसान विरोधी बिल के खिलाफ 25 सितम्बर को ‘भारत बंद’ में शामिल रहेगी ‘सीवाईएसएस’मोदी सरकार जनता की गाढ़ी कमाई से अखबारों में अंग्रेजी में विज्ञापन देकर अपना चेहरा चमका रही: राघव चड्ढाकिसानों के साथ भद्दा मजाक व फरेबी शरारत है गेहूं के दाम में मामूली वृद्धि - हरपाल सिंह चीमाकिसान बिल के विरोध में आम आदमी पार्टी के सदस्यों ने पटना में किया विरोध प्रदर्शनकिसान विरोधी बिल पास कर भाजपा का किसान हितैषी चेहरा हुआ नंगा : काका बराड़कृषि बिल पर केंद्र की मनमानी, किसानों के अस्तित्व को खतरा - ‘आप’लगातार बढ़ रहा AAP का कुनबा, विकासनगर के लक्ष्मीपुर क्षेत्र में ‘आप’ कार्यालय का शुभारम्भAAP की मजबूती और 2022 में सरकार बनाने के लिए दिन-रात एक कर देंगे - हरचन्द सिंह बरसट
National

बर्दाश्त नहीं करेंगे बिजली बिलों में की नाजायज ठग्गी - ‘आप’

May 13, 2020 01:24 PM

चण्डीगढ़: आम आदमी पार्टी(आप) पंजाब ने पीएसपीसीएल(बिजली बोर्ड) की ओर से लॉकडाउन के दौरान भेजे गए बिजली बिलों का जोरदार विरोध करते हुए इसको गैर जिम्मेवारना और अंधी ठग्गी वाला कदम करार दिया है। ‘आप’ हैडक्वाटर से जारी बयान के द्वारा पार्टी की कोर समिति के चेयरमैन और विधायक प्रिंसीपल बुद्धराम, विपक्ष की उपनेता बीबी सरबजीत कौर माणूंके, विधायका रुपिन्दर कौर रूबी और व्यापार विंग की प्रधान मैडम नीना मित्तल ने पंजाब सरकार से मांग की है कि कोरोना महामारी और लॉकडाउन के कारण पैदा हुए वित्तीय संकट के मद्देनजर सरकार आम लोगों पर रहम करे और नाजायज तरीके से भेजे बिजली के बिल तुरंत वापस ले कर 2महीनों के बिलों की पूरी माफी का ऐलान करे।

प्रिंसीपल बुद्ध राम समेत ‘आप’ नेताओं ने घेरी सरकार और लॉकडाउन के दौरान भेजे बिजली बिल माफ करने की मांग की

प्रिंसीपल बुद्ध राम और सरबजीत कौर माणूंके ने कहा कि लॉकडाउन समय के दौरान बिना मीटर रीडिंग लिए जिस तरीके से बिजली के बिल आम लोगों, दुकानदारों और किराएदारों को भेजे गए हैं, वह पूरी तरह से नाजायज हैं। पिछले साल मार्च-अप्रैल के महीने के मौसम और तापमान समेत बिजली की खप्त की तुलना इस साल के मार्च-अप्रैल महीने के साथ नहीं की जा सकती। पिछले साल मार्च महीने ही भारी गर्मी पडऩे के कारण पंखे, कूलर और एसी दबा कर इस्तेमाल किए जाने लगे थे, परंतु इस साल मई के दूसरे हफ्ते तक भी बिजली की खप्त पिछले साल के मुकाबले काफी कम है, फिर पिछले साल की तुलना में बिल कैसे भेजे जा सकते हैं?

‘आप’ नेतागण रुपिन्दर कौर रूबी और नीना मित्तल ने सवाल उठाया कि 22अप्रैल से शुरू हुए लॉकडाउन के दौरान लाखों दुकानें, किराए के मकान आदि खुल ही नहीं सके। ताला लगे इन दुकानों और घरों को पिछले साल की तुलना में बिल भेजना कहां का इंसाफ है? ‘आप’ नेताओं ने यह भी सवाल उठाया कि क्या अगले महीने के लिए जब बिजली मीटरों की रीडिंग ली जाएगी तो स्लैब(यूनिट की सीमा) बढ़ने से भी खप्तकारों को फालतू चूना नहीं लगेगा?

Have something to say? Post your comment
More National News
किसान विरोधी बिल के खिलाफ 25 सितम्बर को ‘भारत बंद’ में शामिल रहेगी ‘सीवाईएसएस’
मोदी सरकार जनता की गाढ़ी कमाई से अखबारों में अंग्रेजी में विज्ञापन देकर अपना चेहरा चमका रही: राघव चड्ढा
किसानों के साथ भद्दा मजाक व फरेबी शरारत है गेहूं के दाम में मामूली वृद्धि - हरपाल सिंह चीमा
किसान बिल के विरोध में आम आदमी पार्टी के सदस्यों ने पटना में किया विरोध प्रदर्शन
किसान विरोधी बिल पास कर भाजपा का किसान हितैषी चेहरा हुआ नंगा : काका बराड़
कृषि बिल पर केंद्र की मनमानी, किसानों के अस्तित्व को खतरा - ‘आप’
लगातार बढ़ रहा AAP का कुनबा, विकासनगर के लक्ष्मीपुर क्षेत्र में ‘आप’ कार्यालय का शुभारम्भ
AAP की मजबूती और 2022 में सरकार बनाने के लिए दिन-रात एक कर देंगे - हरचन्द सिंह बरसट
सांसद संजय सिंह पर राजद्रोह का मुकदमा दर्ज किए जाने पर cyss ने खोला यूपी योगी के खिलाफ मोर्चा
‘आप’ प्रदेश उपाध्यक्ष भानुप्रकाश ने स्वास्थ्य कर्मियों की हड़ताल को लेकर मंत्री टीएस पर किया पलटवार