Thursday, October 22, 2020
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
पंजाब को राजनैतिक सैर-सपाटे वाला स्थान न समझें राहुल गांधी - ‘आप’जिस बुनियाद पर खड़ा होगा आधुनिक BJP कार्यालय, उस जमीन की जांच होनी चाहिए - उमा सिसोदियाएमसीडी अपने अस्पतालों को केजरीवाल सरकार को न सौंपकर जनता के साथ धोखा कर रही है- दुर्गेश पाठकदिल्ली में वेतन को लेकर हिंदूराव अस्पताल के डॉक्टरों ने निकाला कैंडल मार्च, AAP भी हुई शामिलबेरोजगारी पर एक-दूसरे पर आरोप प्रत्यारोप से नहीं बच सकते भाजपा-कांग्रेसआम आदमी पार्टी की महिला विंग नवरात्रि के नौ दिन दिल्ली में चलाएगी “कोरोना जनजागरण अभियान”‘आप’ का सर्वे: उत्तराखंड के लोग हरकी पौड़ी का नाम देव धारा या एस्केप चैनल नहीं, बल्कि गंगा चाहते हैंभाजपा शासित एमसीडी में हेल्थ ट्रेड लाइसेंस के नाम पर हर वर्ष 350 करोड़ रुपए का भ्रष्टाचार
Punjabi News

निकम्मे CM को हटा नहीं सकते, खुद इस्तीफे देने की हिम्मत दिखाएं कांग्रेसी मंत्री-विधायक: आप

May 10, 2020 11:02 PM

चंडीगढ़: आम आदमी पार्टी(आप) पंजाब के सीनियर व विपक्ष के नेता हरपाल सिंह चीमा ने कांग्रेसी मंत्रियों और विधायकों को चुनौती दी है कि यदि उन में पंजाब के प्रति थोड़ा बहुत विवेक है तो वह या तो शासक और प्रशासनिक तौर पर बुरी तरह से निकम्मे हो चुके कैप्टन अमरिन्दर सिंह को मुख्यमंत्री की कुर्सी से एक तरफ कर दें या फिर खुद ऐसी कागजी वजीरियों, विधायकियों को ठोकर मारकर पंजाब के साथ खड़े होने की हिम्मत दिखाएं। पार्टी हैडक्वाटर से जारी बयान के द्वारा हरपाल सिंह चीमा ने बीते शनिवार को एक अहम बैठक के दौरान पंजाब के मंत्रियों और समूह आधिकारियों के दरमियान हुए घमासान पर तीखी प्रतिक्रिया जाहिर की है।

विपक्ष के नेता ने कहा कि एक बार फिर जनतक हुआ है कि पंजाब में सरकार नाम की कोई चीज नहीं है। कथित सरकार ‘फार्म हाऊस’ में बैठकर ‘बाबूशाही कैबिनेट’ के द्वारा शाही अंदाज में चलाई जा रही है और चुने हुए जनप्रतिनिधि बुरी तरह बेबस जता रहे हैं। ऐसे बेलगाम व्यवस्था में पंजाब की ओर बर्बादी रोकने के लिए यदि कांग्रेसी मंत्री या विधायक निर्णायक आवाज बुलंद करने की बजाए अपनी कुर्सियों को ही चिपके रहेंगे तो लोगों की कचहरी में ऐसे खुदगरज नेताओं से पाई-पाई का हिसाब लिया जाएगा।

मंत्री यह भी बताएं, यदि अफसरशाही पंजाब को लूट रही है तो इन चोरों का ‘अलीबाबा’ है कौन?

हरपाल सिंह चीमा ने कहा कि कठिन और चुनौती भरे समय में जनहित सरकार चलाना कैप्टन अमरिन्दर सिंह के बस की बात नहीं रही, उम्र और शाही आदतों ने मुख्यमंत्री को नाकाबिल बना दिया है। बाबूओं और जी-हजूरों की भ्रष्ट और माफिया प्रवृत्ति वाली कैप्टन की ‘किचन कैबिनेट’ अब न केवल पंजाब और पंजाबियों बल्कि खुद कैप्टन पर भी भारी पड़ चुकी है। संशोधन की हुई नई शराब नीति इस की ताजा मिसाल है, लॉकडाउन के मौजूदा हलात में पंजाब का शराब माफिया नई ऊंचाइयों को छू रहा है। यही वजह है कि पंजाब में हर साल शराब की खप्त बढ़ रही है, परंतु सरकारी खजाने को आमदनी कम हो रही है।

हरपाल सिंह चीमा ने पंजाब के मंत्रियों को मुखातिब होते कहा कि अफसरशाही से गर्मा-गर्मी होने के बाद जो मंत्री अफसरशाही पर पंजाब को लूटने के बेबाक आरोप लगा रहे हैं, वह यह भी बताएं कि पंजाब और पंजाबियों को लूटने वाले चोरों का ‘अलीबाबा’ कौन है, क्योंकि राजनैतिक सरंक्षण के बिना कोई भी ऐसी हिमाकत नहीं कर सकता।

हरपाल सिंह चीमा ने कैबिनेट मंत्री मनप्रीत सिंह बादल, सुखजिन्दर सिंह रंधावा और चरनजीत सिंह चन्नी को कहा कि वह तमाशबीनों के तौर पर सिर्फ वॉकआऊट या बयानबाजी करके ही अपनी पंजाब और पंजाबियों के प्रति जिम्मेदारी से मुक्त नहीं हो सकते। जनतक तौर पर अब पत्ते खुल चुके हैं, इस लिए या तो वह पंजाब के साथ खड़े हो कर पंजाबियों के हित बचाने के लिए आगे आएं या फिर ‘चोरों’ के साथ मिल कर ‘अलीबाबा’ की कुर्सी बचाए रखें।

मनप्रीत बादल, सुक्खी रंधावा समेत आशु और राजा वडि़ंग पर भी कसे तंज, मामला मंत्रियों व अफसरों के बीच हुई गर्मा-गर्मी का

चीमा ने मंत्री भारत भूषण आशु और मुख्य मंत्री के सलाहकार(कैबिनेट रुतबा) अमरिन्दर सिंह राजा वडि़ंग को तंज कसा कि सरकार की लोक विरोधी और गलत नीतियों के विरुद्ध यदि उनकी आदरणीय धर्म-पत्नियां बोल सकतीं हैं तो वह क्यों नहीं बोल सकते। चीमा ने वित्त मंत्री मनप्रीत सिंह बादल को घेरते कहा कि 2017 में कांग्रेस सरकार की पहली कैबिनेट बैठक के दौरान जब तत्कालीन मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू ने दिल्ली की अरविन्द केजरीवाल सरकार और आम आदमी पार्टी पंजाब के चुनाव मैनीफैस्टो के मुताबिक पंजाब में सरकारी शराब निगम गठित करने का प्रस्ताव लाए थे, तो उनके मूंहों पर ताले क्यों लग गए थे? चीमा मुताबिक यदि उस समय वित्त मंत्री और बाकी मंत्रियों ने शराब निगम के हक में स्टैंड लिया होता तो शराब नीति के बारे में इन मंत्रीयों को अफसरों के हाथों बेइज़्जत हो कर बैठक से वॉकआऊट करने की नौबत न आती।

Have something to say? Post your comment
More Punjabi News News
तानाशाह मोदी के काले कानूनों के विरुद्ध कारगर हथियार साबित होंगे ग्राम सभाओं के प्रस्ताव - ‘आप’
बिहार के खेती बाजार पर PAU की सनसनीखेज रिपोर्ट के बारे में स्पष्टीकरण दें कैप्टन व बादल: भगवंत मान
पंजाब में कृषि को जोंक की तरह चूस रहा है भ्रष्ट सरकारी तंत्र, जिप्सम घोटाले की हो न्यायिक जांच - AAP
आम घरों के बच्चों को साजिश के तहत शिक्षा से वंचित रख रही है कैप्टन अमरिन्दर सरकार - भगवंत मान
डीएसजीएमसी चुनाव की प्रक्रिया शुरू, मंत्री राजेंद्र गौतम ने सभी दलों के साथ की बैठक
बिना मापदंड के लाखों उपभोक्ताओं के राशन कार्ड काटना गलत, AAP ने सौंपा मांग पत्र - मनजीत सिंह बिलासपुर
अगर सीधी भर्ती ही करनी है, तो क्यों बांधे पीपीएससी व एसएसएस बोर्ड जैसे ‘सफेद हाथी’ - प्रिंसीपल बुद्ध राम
मोगा सेक्स स्कैंडल-3 की सीबीआई से जांच करवाएं सीएम कैप्टन अमरिन्दर - हरपाल सिंह चीमा
छोटे किसानों को मनरेगा का लाभ सुनिश्चित करे कैप्टन सरकार - आप
बादलों की तरह अब कैप्टन अमरिन्दर सिंह हैं पंजाब की बर्बादी की असली जड़ - हरपाल सिंह चीमा