Monday, September 21, 2020
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
AAP की मजबूती और 2022 में सरकार बनाने के लिए दिन-रात एक कर देंगे - हरचन्द सिंह बरसट‘आप’ प्रदेश उपाध्यक्ष भानुप्रकाश ने स्वास्थ्य कर्मियों की हड़ताल को लेकर मंत्री टीएस पर किया पलटवारपटना में ‘आप’ ने आयोजित की मोहल्ला सभा, 2 सूत्री मांग पर कॉलोनी वासियों ने CM को भेजा प्रस्तावलोगों के सामूहिक प्रयासों से पिछले साल की तरह इस बार भी डेंगू को हराने में मदद मिलेगी: केजरीवाल‘आप’ ने तीन अहम नियुक्तियों का किया ऐलान, बरसट, नीना मित्तल और सुखी को मिली नई जिम्मेवारियांमोदी सरकार के हाथ में हैं शाही परिवार और बादलों की दुखती रग - हरपाल सिंह चीमाकिसानों के साथ कृषि बिल के नाम पर छलावा : ‘आप’दिल्ली सरकार ने ‘हर रविवार डेंगू पर वार’ अभियान में दिल्लीवासियों से सहयोग की अपील की
National

पंजाब: बहस करें कैप्टन अमरिन्दर, बता देंगे 5मिनटों में कैसे रद्द होंगे महंगे बिजली समझौते - अमन अरोड़ा

January 12, 2020 08:51 AM

चंडीगढ़(प्रेस विज्ञप्ति) - बिजली की महंगी दरों के मुद्दे पर आम आदमी पार्टी(आप) ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह को खुली बहस की चुनौती देते दावा किया है कि यदि मुख्यमंत्री कैप्टन इमानदारी के साथ समझना चाहें तो सिर्फ आधे घंटे में बता देंगे कि निजी थर्मल प्लांटों के साथ किए घातक समझौते 5 मिनट में कैसे रद्द हो जाएंगे। इसके साथ ही ‘आप’ ने आगामी विधानसभा सेशन में बिजली खरीद समझौते(पीपीएज़) को रद्द करने के लिए प्राईवेट मैंबर बिल के समर्थन की कांग्रेस समेत सभी गुटों से अपील की है, जिससे पंजाब और पंजाब के लोगों की ‘बिजली माफिया’ हाथों हो रही अंधी लूट रोकी जा सके।
कल शनिवार को चण्डीगढ़ में प्रैस कान्फ्रेंस करते पार्टी के आप पार्टी के सीनियर नेता और विधायक अमन अरोड़ा, कुलतार सिंह संधवां, मीत हेयर और जै किशन सिंह रोड़ी ने कहा कि बादलों के राज में किए गए समझौते(पीपीएज) में बहुत ही बड़ा घोटाला है। अकाली-भाजपा सरकार में पहले सुखबीर सिंह बादल तीनों प्राईवेट थर्मल प्लांटों के साथ मोटे कमीशन लेते थे, अब कैप्टन अमरिन्दर सिंह ले रहे है। यही कारण है कि कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने वायदा करके भी तीन सालों में न तो लुटेरा समझौतों को रद्द किया और न ही समीक्षा की।

कैप्टन चाहें तो 5मिनटों में रद्द हो सकते हैं घातक बिजली समझौते - अमन अरोड़ा

विधायक अमन अरोड़ा ने कैप्टन अमरिन्दर सिंह को खुली बहस की चुनौती दी और दावा किया कि निजी बिजली कंपनियां 5मिनटों में सरकार के पैरों में बैठ कर गिड़गिड़ाएंगी, कि ‘‘समझौते रद्द न करो, वह सभी घातक शर्तों को हटा कर बिजली सस्ती कर दो।’’अमन अरोड़ा ने कहा कि यदि कैप्टन अमरिन्दर सिंह पिछली सरकार के दौरान पानी के समझौता और इस सरकार में 2100 सेवा केंद्र चलाने के सालाना 220करोड़ लेने वाली बीएसएल कंपनी के साथ किये समझौता रद्द कर सकती है, तो बिजली कंपनी के पीपीएज़ क्यों नहीं रद्द हो सकते?

मंत्री रंधावा की चिट्टी ने फिर साबित कर दिया कि सुखबीर की तरह कैप्टन अमरिंदर भी बिजली माफिया के साथ मिले - मीत हेयर

अमन अरोड़ा ने समझौते की लूट से पर्दा उठाते हुए बताया कि चीनी कंपनी सैपको ने बराबर के बजट और एक ही तकनीक के साथ तलवंडी साबो और गुजरात में शासन थर्मल प्लांट लगाए। शासन को सिर्फ 17पैसे फिक्सड चार्ज देता है, और तलवंडी साबो को 8गुणा अधिक 1रुपए42पैसे प्रति यूनिट भुगतान करता है, यही कारण है कि आज पंजाब के खप्तकार को कई गुणा ज़्यादा 9रुपए प्रति यूनिट से अधिक मूल्य पर बिजली खरीदनी पड़ रही है। अमन अरोड़ा ने यही राजपुरा और गुजरात के मुद्रा पोर्ट थर्मल प्लांटों की तुलना करके साबित किया कि समझौतों में दलाली(मोटा कमीशन) खाया गया और खाया जा रहा है। उन्होंने गोइन्दवाल थर्मल प्लांट के समझौतो में भी बड़ा फर्जीवाड़ा बताया कि सुपर तकनीक की जगह सब स्टैंडर्ड तकनीक वाला यह थर्मल प्लांट मुकाबलेबाजी वाली बोली की जगह मनमानियां और घातक शर्तों वाले एमओयू (समझौते) के अंतर्गत लगा है, जिस का समझौता सिर्फ 5मिनटों में रद्द हो सकता है, परंतु यदि कैप्टन अमरिन्दर सिंह चाहें तो।

विधानसभा सेशन में समझौते रद्द करने के लिए प्रस्ताव लाएगी ‘आप’, बहस करें कैप्टन, बता देंगे 5 मिनटों में कैसे रद्द होंगे महंगे बिजली समझौते - अमन अरोड़ा

अमन अरोड़ा ने कहा कि आगामी सैशन में बिजली समझौते रद्द करने के लिए एक प्रस्ताव ला रहे हैं, यह मुख्यमंत्री, मंत्री और कांग्रेसियों समेत सभी गुटों के विधायकों की परख की घड़ी होगा, कि वह लोगों के हक में यह प्रस्ताव पास करवाते हैं या फिर बिजली माफिया के हित में खड़े हो कर इसका विरोध करते हैं। पूर्व बिजली मंत्री, राणा गुरजीत सिंह और गुरप्रीत सिंह कांगड़ की तरफ से बिना बिजली खरीदे वार्षिक हजारों करोड़ के फालतू बोझ संबंधी इकबाल करने उपरांत अब रंधावा की चिट्टी ने साबित कर दिया है कि मुख्य मंत्री जानबुझ कर बिजली समझौते रद्द नहीं करना चाहते। मीत हेयर ने कहा कि सभी तथ्यों-सबूत के बावजूद अगर कैप्टन समझौते रद्द नहीं करते तो स्पष्ट है कि सुखबीर बादल की तरह कैप्टन को मोटा हिस्सा जा रहा है, जिस कारण लोगों को सब से महंगी बिजली खरीदनी पड़ रही है।

इस मौके कुलतार सिंह संधवां ने बिजली में लूट-दर-लूट का आरोप लगाते हुए कहा कि घरों में लगते बिजली के मीटर पंजाब के मौसम मुताबिक न होने के कारण लोगों को भारी चूना लग रहा है। इस मौके जै किशन सिंह रोड़ी ने कहा कि अरविन्द केजरीवाल ने सत्ता संभालते ही आडिट करवा कर बिजली कंपनियों की लूट रोकी थी और वही बिजली कंपनियां बिजली सस्ती देने लग गई। उन्होंने कहा कि 2022 में ‘आप’ की सरकार बनने पर बिजली समझौते रद्द करके लोगों को दिल्ली की तरह सस्ती बिजली दी जाएगी। इस मौके पार्टी के प्रवक्ता नील गर्ग, दिनेश चड्ढा, कुलजिन्दर सिंह ढींडसा, इकबाल सिंह और स्टेट मीडिया हैड मनजीत सिंह सिद्धू भी मौजूद थे।

Have something to say? Post your comment
More National News
dehradun
uk
AAP की मजबूती और 2022 में सरकार बनाने के लिए दिन-रात एक कर देंगे - हरचन्द सिंह बरसट
सांसद संजय सिंह पर राजद्रोह का मुकदमा दर्ज किए जाने पर cyss ने खोला यूपी योगी के खिलाफ मोर्चा
‘आप’ प्रदेश उपाध्यक्ष भानुप्रकाश ने स्वास्थ्य कर्मियों की हड़ताल को लेकर मंत्री टीएस पर किया पलटवार
पटना में ‘आप’ ने आयोजित की मोहल्ला सभा, 2 सूत्री मांग पर कॉलोनी वासियों ने CM को भेजा प्रस्ताव
लोगों के सामूहिक प्रयासों से पिछले साल की तरह इस बार भी डेंगू को हराने में मदद मिलेगी: केजरीवाल
‘आप’ ने तीन अहम नियुक्तियों का किया ऐलान, बरसट, नीना मित्तल और सुखी को मिली नई जिम्मेवारियां
मोदी सरकार के हाथ में हैं शाही परिवार और बादलों की दुखती रग - हरपाल सिंह चीमा
किसानों के साथ कृषि बिल के नाम पर छलावा : ‘आप’