Monday, November 30, 2020
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
लाठी खाया अन्नदाता ही सरकार को चलता करेगा, किसान की हर मांग का समर्थन करती है ‘आप’: योगेश्वर शर्माकृषि मंत्री तोमर शीघ्र किसानों से संवाद करें, MSP अध्यादेश लाकर किसानों को विश्वास दिलाएं: सुशील गुप्ताकेजरीवाल सरकार ने स्टेडियमों को जेलों में तब्दील करने से इंकार कर दिल्ली पुलिस को दिया झटका: आपएमसीडी में प्राॅपर्टी टैक्स से संबंधित खातों का ब्यौरा नहीं होने से लूट का पता लगना मुश्किल कामभाजपा की भ्रष्टाचार स्कीमों का खुलासा करेगी AAP, शुरू किया ‘BJP - 181’ अभियान: सौरभ भरद्वाजयूरिया खाद सहकारी सभाओं द्वारा किसानों तक पहुंचाने का प्रबंध करे पंजाब सरकार - कुलतार संधवांहरियाणा-पंजाब सरकारों की आपराधिक लापरवाही की वजह से जलती है पराली, साफ हवा में सांस नहीं ले पा रहे: आतिशीनिकम्मी सरकार के कारण किसानों की खराब हुई फसल, की भरपाई करे कैप्टन सरकार: प्रिंसीपल बुद्ध राम
National

भाजपा अच्छी व सस्ती शिक्षा विरोधी पार्टी, पीटीएम का आयोजन अवश्य होगा - मनीष सिसोदिया

January 02, 2020 11:57 PM

नई दिल्ली - दिल्ली के शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने भाजपा नेता व केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन की ओर से मेगा पीटीएम रोके जाने की कोशिश पर कड़ा प्रहार किया है। मनीष सिसोदिया ने कहा कि मुझे शर्म आती है कि देश में ऐसे नेता भी है जो छात्रों के भविष्य के लेकर होने वाली बैठकों से भी चिढ़ते है और सरकारी स्कूलों में जो अद्भुत बदलाव हुए है, उनमें एक बड़ा योगदान पीटीएम मीटिंग्स का भी है। छात्रों के अभिभावकों एवं अध्यापकों की मांग पर पीटीएम बुलाई गई है। इसे रोकने के लिए उपराज्यपाल को पत्र लिखना यह बताता है कि भाजपा अच्छी व सस्ती शिक्षा की विरोधी पार्टी है। उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने छात्रों व अभिभावकों से अपील की है कि वह पीटीएम की बैठक में जरूर हिस्सा ले और उन्होंने यह भी कहा कि पीटीएम का आयोजन हर हाल में होगा।

मुझे शर्म आती है कि देश में ऐसे नेता भी हैं जो छात्रों के भविष्य के लेकर होने वाली बैठकों से भी चिढ़ते हैं - मनीष सिसोदिया

केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन द्वारा दिल्ली के उपराज्यपाल महोदय को चिट्ठी लिखकर 4 जनवरी को दिल्ली सरकार के स्कूलों में होने वाली पीटीएम मीटिंग को रद्द करने की मांग पर नाराजगी जताते हुए दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि मुझे शर्म आती है कि हमारे देश में ऐसे नेता भी हैं जो कि अध्यापकों और अभिभावकों के बीच, छात्रों के भविष्य के लेकर होने वाली बैठकों से भी चिढ़ते है। उन्होंने कहा कि यदि आपको राजनीति करनी है तो बेहतर शिक्षा के लिए करो। देश ने प्रचंड बहुमत के साथ केंद्र में आप की सरकार बनाई है, पूरे देश के सरकारी स्कूलों को बेहतर करो, देश के कई राज्यों में भाजपा की सरकार है उस राज्य के सरकारी स्कूलों को ठीक करो, एक स्वस्थ प्रतिस्पर्धा करो। केवल राजनीतिक लाभ के लिए दिल्ली के सरकारी स्कूलों में हो रहे अच्छे कामों को रोकने का षड्यंत्र रचना बड़े ही शर्म की बात है।

सरकारी स्कूलों में जो अद्भुत बदलाव हुए हैं, उनमें एक बड़ा योगदान पीटीएम मीटिंग्स का भी है - मनीष सिसोदिया 

मनीष सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली के सरकारी स्कूलों में जो अद्भुत बदलाव हुए है, उनमें एक बड़ा योगदान पीटीएम मीटिंग्स का भी है। हाल ही में हुए प्री बोर्ड परीक्षा के नतीजों का हवाला देते हुए, मनीष सिसोदिया ने कहा कि दिल्ली के 65000 अध्यापक 10वीं और 12वीं कक्षा में पढ़ने वाले लगभग 6लाख छात्रों के साथ दिन रात मेहनत कर रहे है। अध्यापकों का मानना है कि यदि अभिभावकों के साथ बैठकर छात्रों के विषय में एक चर्चा की जाए और अभिभावकों का सहयोग भी मिले, तो आने वाले बोर्ड परीक्षा के नतीजों को और भी बेहतर किया जा सकता है। मैं केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन जी और भारतीय जनता पार्टी से पूछना चाहता हूं कि उन्हें इस कार्य से आपत्ति क्यों है?, बोर्ड की परीक्षा में मात्र 45दिन रह गए है। अध्यापक गण चाहते हैं कि अभिभावकों के साथ मिलकर बच्चों के बेहतर भविष्य का एक खाका तैयार किया जाए।

अभिभावकों एवं अध्यापकों की मांग पर बुलाई गई पीटीएम होकर रहेगी - मनीष सिसोदिया 

मनीष सिसोदिया ने कहा कि अध्यापक अपने सभी छात्रों के विषय में भली-भांति जानते हैं कि कौन सा विद्यार्थी किस विषय में कमजोर है और उस पर किस दिशा में काम करने की जरूरत है। इन्हीं सब बातों को लेकर अध्यापक, छात्रों के अभिभावकों के साथ बैठक करना चाहते हैं, ताकि बच्चों के भविष्य को उज्जवल बनाया जा सके। परंतु भाजपा नहीं चाहती कि दिल्ली में रहने वाली गरीब जनता के बच्चों का भविष्य उज्जवल हो। केंद्रीय मंत्री हर्षवर्धन को चेतावनी देते हुए मनीष सिसोदिया ने कहा, कि यदि आपको लगता है कि इस प्रकार की ओछी हरकतों से आप पीटीएम बैठक को रुकवा दोगे, तो यह आपका वहम है। यह मीटिंग दिल्ली सरकार के स्कूलों में पढ़ाने वाले अभिभावकों एवं अध्यापकों की मांग पर बुलाई गई है। इस बैठक का जिम्मा दिल्ली सरकार के शिक्षा विभाग के अधीन है और यह बैठक होकर रहेगी।
भाजपा का मतलब है शिक्षा की दुश्मन पार्टी - मनीष सिसोदिया 
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल जी द्वारा दिल्ली के सरकारी स्कूलों में महिला सम्मान में शुरू की गई मुहिम का हवाला देते हुए मनीष सिसोदिया ने कहा, कि मुख्यमंत्री जी ने छात्रों को शपथ दिलाई थी कि वह महिलाओं का सम्मान करेंगे, किसी भी लड़की के साथ अभद्र व्यवहार नहीं करेंगे। छात्राओं को भी शपथ दिलाी गई थी कि वह भी अपने घर में जाकर अपने भाइयों से इस मुद्दे पर बात करें। अध्यापक चाहते हैं कि छात्रों के माता-पिता से मिलकर इस मुद्दे पर बात की जाए कि उन्होंने अपने बच्चों को इस बारे में कोई शिक्षा दी या नहीं दी, अध्यापक चाहते हैं कि स्कूलों में चलाए जा रहे हैप्पीनेस करिकुलम पर चर्चा की जाए, एण्टरप्रिन्योरशीप करिकुलम पर चर्चा की जाए। परंतु भारतीय जनता पार्टी और उनके नेताओं को लगता है कि महिला सम्मान का मुद्दा, छात्रों के भविष्य का मुद्दा अहम नहीं है। मनीष सिसोदिया ने कहा कि यह सभी मुद्दे मीडिया के माध्यम से मैं जनता के समक्ष रख रहा हूं, क्योंकि मैं चाहता हूं दिल्ली की जनता को पता चलना चाहिए कि भाजपा का मतलब है शिक्षा की दुश्मन पार्टी। भारतीय जनता पार्टी का असली चरित्र दिल्ली और देश की जनता के सामने आना चाहिए।
मेगा पीटीएम से छात्रों के अध्यापकों का भी मनोबल बढ़ा - मनीष सिसोदिया 
मनीष सिसोदिया ने कहा कि 2016 में हमने पहली मेगा पीटीएम का आयोजन किया था। पीटीएम बैठक का आयोजन करते समय सभी अध्यापकों के और शिक्षा विभाग के लोगों के मन में एक शंका थी, कि छात्र और अभिभावक इस बैठक में आएंगे या नहीं। परंतु छात्रों के माता-पिता इतनी बड़ी संख्या में उस मेगा पीटीएम बैठक में शामिल हुए, जो की उम्मीद से परे था। अभिभावकों की इस रूचि को देखकर छात्रों के अध्यापकों का भी मनोबल बढ़ा और एक महत्वपूर्ण बात की जानकारी भी हासिल हुई कि अध्यापकों के साथ साथ अभिभावक भी अपने बच्चों के बेहतर भविष्य को लेकर बेहद चिंतित हैं। एक बच्ची का उदाहरण देते हुए मनीष सिसोदिया ने बताया कि उस बच्ची की माता जी बच्ची को पढ़ाई के बजाय घर के काम पर ज्यादा ध्यान देने के लिए कहती थी, परंतु जब मेगा पीटीएम के माध्यम से उन्हें पता चला कि उनकी बच्ची पढ़ने में बहुत तेज है, तो अब वह अपनी बच्ची को पढ़ाई पर अधिक ध्यान देने के लिए कहती हैं। वह चाहती हैं कि उनकी बच्ची पढ़ लिखकर एक कामयाब इंसान बने, इस देश का नाम रोशन करें।
छात्रों व अभिभावकों से अपील पीटीएम की बैठक में जरूर हिस्सा ले - मनीष सिसोदिया
मीडिया के माध्यम से उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने दिल्ली सरकार के स्कूलों में पढ़ने वाले छात्रों के अभिभावकों से अपील की पीटीएम की बैठक बहुत अहम है। सुबह की शिफ्ट के छात्रों के अभिभावकों की बैठक 8:30बजे से शुरू होगी और दोपहर की शिफ्ट के छात्रों के अभिभावकों की बैठक 2बजे से शुरू होगी, सभी अभिभावक बैठक में जरूर हिस्सा ले। पीटीएम बैठक कोई रंगारंग कार्यक्रम नहीं है। यह बच्चों के भविष्य से जुड़ी हुई एक अहम बैठक है। अधिक से अधिक संख्या में सभी अभिभ

Have something to say? Post your comment
More National News
पीएम नरेंद्र मोदी और सीएम कैप्टन अमरिंदर के बीच सांठगांठ, देश का किसान ठगा जा रहा है- राघव चड्ढा आजादी के बाद देश को पहला ऐसा गृहमंत्री मिला है, जो देश को गंभीर हालात में छोड़कर हैदराबाद में नगर निगम चुनाव का प्रचार कर रहे है- सौरभ भारद्वाज देश के किसान अपनी फसल की कीमत मांग रहे और भाजपा सरकार उनके साथ आतंकवादियों जैसा व्यवहार कर रही: संजय सिंह गृहमंत्री शाह के पास हैदराबाद में चुनाव प्रचार करने का समय है, लेकिन किसानों से बात करने का नहीं अड़ियल रवैया छोड़ किसानों की इच्छा अनुसार प्रदर्शन करने का स्थान दे मोदी सरकार: आप
धरना स्थान पर सभी जरूरी वस्तुओं का प्रबंध करके किसानों की हर संभव मदद करेगी केजरीवाल सरकार
दिल्लीवालों को कोरोना वैक्सीन लगाने के लिए हमारे पास पर्याप्त साधन मौजूद: सत्येंद्र जैन
उपमुख्यमंत्री सिसोदिया ने सरकारी स्कूल में विश्वस्तरीय एस्ट्रोटर्फ हॉकी मैदान का उद्घाटन किया, ओलंपिक पदक विजेता सुशील कुमार भी शामिल
लाठी खाया अन्नदाता ही सरकार को चलता करेगा, किसान की हर मांग का समर्थन करती है ‘आप’: योगेश्वर शर्मा
कृषि मंत्री तोमर शीघ्र किसानों से संवाद करें, MSP अध्यादेश लाकर किसानों को विश्वास दिलाएं: सुशील गुप्ता