Saturday, August 08, 2020
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
सीएम कैप्टन के तरनतारन दौरे पर विपक्ष का तीखा हमला, बहुत देर कर दी हजूर आते-आते - भगवंत मानदिल्ली में ईवी पाॅलिसी लागू, 2024 तक पंजीकृत होने वाले नए वाहनों में से 25% इलेक्ट्रिक के होंगे: सीएम अरविंद केजरीवालगांधी सेतु पर पैदल यात्रियों के लिए नए सीढ़ी निर्माण का आम आदमी पार्टी ने किया स्वागतदिल्ली सरकार के रोजगार पोर्टल पर 9लाख से अधिक नौकरियां, 8.64लाख लोगों ने किया आवेदन: गोपाल रायकेजरीवाल सरकार ने होटल व साप्ताहिक बाजार खोलने के लिए एलजी अनिल बैजल को दोबारा प्रस्ताव भेजाबच्ची के साथ हुई हैवानियत भरी घटना ने पूरी दिल्ली और पूरे समाज को झकझोर कर रख दिया है: राघव चड्ढादिल्ली सरकार के राजस्व कलेक्शन में सुधार के लिए डीडीसी करेगी विस्तृत अध्ययनदिल्ली सरकार की बसों में ई-टिकटिंग सिस्टम का 3दिवसीय ट्राॅयल आज से शुरू, 7अगस्त तक होगा ट्राॅयल
National

विधानसभा द्वारा केंद्र के अध्यादेश रद्द करने से क्यों भाग रहे हैं कैप्टन अमरिन्दर - भगवंत मान

July 23, 2020 11:59 PM

चण्डीगढ़: आम आदमी पार्टी पंजाब के प्रदेश अध्यक्ष और सांसद भगवंत मान ने केंद्र सरकार की ओर से खेती संशोधन के नाम पर लाए 2अध्यादेशों के बारे में जारी की नोटिफिकेशन को पूरी तरह रद्द करते मोदी सरकार के हिस्सेदार बादलों के साथ-साथ मुख्य मंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह की कार्यप्रणाली पर भी सवाल उठाए हैं।

पार्टी हैडक्वाटर से जारी बयान के द्वारा भगवंत मान ने कैप्टन अमरिन्दर सिंह को मुखातिब होते पूछा, ‘‘केंद्र के तीनों खेती विरोधी, किसान-खेत मजदूर और आढ़तिया-ट्रांसपोर्टरों समेत खुद पंजाब विरोधी अध्यादेशों को लेकर आपकी(मुख्यमंत्री) तरफ से बुलाई गई राजनैतिक दलों और किसान संगठनों के साथ सर्वदलीय बैठक में जब केंद्र की इस तानाशाही को पंजाब विधानसभा के विशेष सत्र के द्वारा रद्द करने का सर्वसम्मती से प्रस्ताव पास हो गया था तो आप अब तक विधान सभा का विशेष सत्र क्यूं नहीं बुलाया? इस कदम से भागा क्यूं जा रहा है? अगर कोरोना महामारी के दौरान मोदी और आपकी पंजाब सरकार की ओर से ओर 20 तरह के लोक विरोधी फैसले लिए जा सकते हैं तो विधान सभा के विशेष सत्र वाली कार्यवाही क्यूं टाली जा रही है? जबकि केंद्र के यह फैसले रद्द करना पंजाब और पंजाब की कृषि के लिए ‘करो या मरो’ जितनी महत्ता रखते हैं।’’

भगवंत मान ने सुझाव दिया बेशक 50 प्रतिशत विधायकों के साथ 2 दिन जिस्त-टांक(ऑड-ईवन) सिटिंग फार्मूले से ही सही परंतु केंद्र सरकार के अध्यादेशों के रूप में पंजाब के किसानों पर थोपी जा रही बर्बाद करने वाली तानाशाही को हर हाल विधानसभा के द्वारा रद्द किया जाए।

भगवंत मान ने बादल परिवार को आड़े हाथों लेते कहा कि मोदी ने अध्यादेशों के संदर्भ में नोटिफिकेशन जारी करके संघीय ढांचे का उल्लंघन और प्रदेश के अधिकार छीने हैं। प्रदेश के मंडीकरन ढांचे को तोड़कर न केवल आढ़तिया बल्कि पंजाब सरकार को इकट्ठी होती मंडी फीस भी लूट ली गई है। खुली मंडी के नाम पर किसानों को कॉर्पोरेट घराणों के रहमो कर्म(मरसी) पर छोड़ कर कम से कम समर्थन मूल्य को बे असर कर दिया है। मोदी द्वारा इतनी बर्बादी दीवार पर लिखी जा चुकी है आप(बादल) वह ‘कुर्बानी’ कब दोगे जिसका आप(बादल) 2पीढिय़ों से जिक्रकरते आए हो?’’

भगवंत मान ने कहा कि बादल परिवार को अब दो बेड़ी में सवारी नहीं होने देंगे। भगवंत मान ने कैप्टन सरकार की ओर से इन अध्यादेशों के विरुद्ध केंद्र की भाजपा-बादल सरकार विरुद्ध रोष प्रदर्शन कर रहे किसान संगठनों और ‘आप’ नेताओं पर दर्ज किए मामलों की निंदा करते हुए कैप्टन को सवाल किया कि रोष प्रदर्शन मोदी सरकार के विरुद्ध हो रहे हैं, आपको(पंजाब सरकार) को दर्द क्यूं हो रहा है?

Have something to say? Post your comment
More National News
सीएम कैप्टन के तरनतारन दौरे पर विपक्ष का तीखा हमला, बहुत देर कर दी हजूर आते-आते - भगवंत मान
दिल्ली सरकार ने टैक्स रिटर्न दाखिल नहीं करने पर 5584 कंपनियों को नोटिस भेजा
दिल्ली में ईवी पाॅलिसी लागू, 2024 तक पंजीकृत होने वाले नए वाहनों में से 25% इलेक्ट्रिक के होंगे: सीएम अरविंद केजरीवाल
गांधी सेतु पर पैदल यात्रियों के लिए नए सीढ़ी निर्माण का आम आदमी पार्टी ने किया स्वागत
दिल्ली सरकार के रोजगार पोर्टल पर 9लाख से अधिक नौकरियां, 8.64लाख लोगों ने किया आवेदन: गोपाल राय
केजरीवाल सरकार ने होटल व साप्ताहिक बाजार खोलने के लिए एलजी अनिल बैजल को दोबारा प्रस्ताव भेजा बच्ची के साथ हुई हैवानियत भरी घटना ने पूरी दिल्ली और पूरे समाज को झकझोर कर रख दिया है: राघव चड्ढा
पंजाब में ऑपरेशन न करने का फैसला लोक विरोधी, फैसला वापस ले कैप्टन सरकार: प्रिंसीपल बुद्ध राम
लोगों के साथ-साथ अपने सीनियर नेताओं का भी विश्वास खो चुके है अमरिन्दर सिंह सरकार - ‘आप’
दिल्ली सरकार के राजस्व कलेक्शन में सुधार के लिए डीडीसी करेगी विस्तृत अध्ययन