Tuesday, June 02, 2020
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
मनीष सिसोदिया ने ऑनलाइन और एसएमएस/आईवीआर आधारित शिक्षा की समीक्षा कीदिल्ली को 5000 करोड़ की मदद करे केंद्र सरकार, ताकि सैलरी का भुगतान हो सके: उपमुख्यमंत्रीसिंघी मछली और बगेरी के शौकीन है शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा, के नाम BJPअध्यक्ष बसूलता है रुपया: आपब्याज समेत भुगतान किया जाए, किसानों के गन्ने की अरबों रुपए की बकाया राशि: हरपाल सिंह चीमाकोरोना के मरीज बढ़ रहे, यह चिंता का विषय, लेकिन अभी घबराने जैसी कोई बात नहीं: अरविंद केजरीवालहोम आइसोलेशन में ठीक हुए मरीजों ने कहा, अभिभावक की तरह ख्याल रखती है दिल्ली सरकारकोरोना से डरें नहीं, खुद को बचाना जरूरी: मनीष सिसोदियापंजाब में कृषि क्षेत्र के ट्यूबवेलों पर बिल लागू करने की योजना का ‘आप’ ने किया सख्त विरोध
National

बसों में नियमों की अनुपालना न हुई तो सब नपेंगे, 20+यात्रियों के बैठने पर बस नहीं चलाने के आदेश

May 20, 2020 11:07 PM

आप की क्रांति ब्यूरो। दिल्ली सरकार आम जनता की सहूलितों के प्रति जितनी सजग और संवेदनशील है, उससे कई अधिक कठोर नियमों की अनुपालन को लेकर है। दिल्ली में शुरू की गई परिवहन सेवा में वाहन चालकों को सरकार के आदेशों का कड़ाई से पालन करना होगा। आदेशों का पालन न करने अथवा कोताही बरतने पर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने कहा कि बसों में 20 से अधिक यात्री नहीं बैठ सकेंगे। यदि 20 से अधिक यात्री जबरन बैठ जाते हैं, तो चालक बस वहीं खड़ी कर देगा। चालक, परिचालक और मार्शल अतिरिक्त सवारी से नीचे उतरने के लिए अनुरोध करेंगे और फिर भी वे बस से नहीं उतरते हैं, तो पुलिस की मदद ली जाएगी। यदि बस में 20 से अधिक यात्रियों के बैठने की शिकायत मिलती है तो चालक, परिचालक और मार्शल के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। परिवहन मंत्री ने उम्मीद जताई कि धीरे-धीरे सड़क पर डीटीसी और क्लस्टर की सभी बसें उतर जाएंगी। कल करीब 3400 बसें सड़कों पर उतारी गई थीं। अगले एक-दो दिन में परिवहन सेवा समान्य होने की उम्मीद है।

गत रोज दिल्ली सरकार नें सड़कों पर करीब 3400 बसें उतारी थी, अगले एक-दो दिन में देश की राजधानी में परिवहन सेवा समान्य होने की उम्मीद

परिवहन मंत्री ने कहा कि देश के अलग-अलग प्रदेशों के रहने वाले प्रवासी मजदूर, जो अपने मूल प्रदेश जा रहे हैं, उनको रेलवे स्टेशनों तक पहुंचाने के लिए आज भी डीटीसी की काफी बसें लगी हुई हैं। कल करीब 1 हजार बसें प्रवासियों को रेलवे स्टेशनों तक छोड़ने में लगी हुई थी। आज भी करीब 1200 बसें रेवेन्यू विभाग ने अधिग्रहित की हैं। इसके अलावा 400-500बसों को पुलिस विभाग अलग-अलग जगहों के लिए अधिग्रहित करता है। यदि हम हायर की गई स्पेशल बसों को मिला कर देखें, तो कल करीब 3400 बसें सड़कों पर थी। मुझे लगता है कि ट्रेन का तीन-चार दिन और शेड्यूल है। इसके बाद बसों की संख्या बढ़ेगी। वहीं, क्लस्टर की बसें काफी हद तक बढ़ कर सड़क पर उतरी हैं। हरियाणा और यूपी के अलग-अलग जगहों पर ड्राइवर और कंडक्टर फंसे हुए थे, उन्होंने कल के मुकाबले आज अधिक संख्या में उपस्थिति दर्ज कराई है। मुझे उम्मीद है कि एक-दो दिन में काफी हद तक स्थिति समान्य हो जाएगी। प्रतिदिन बसों से सफर करने वाली सवारियों के लिए कल करीब 2000बसें थीं और 1400 बसें स्पेशल हायर की थीं।

तय संख्या से अधिक यात्री बस में बैठने की जिद करें तो चालक, परिचालक या मार्शलों को पुलिस बुलाने के आदेश

परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने कहा कि सोशल डिस्टेंसिंग को लेकर दिल्ली सरकार पूरी तरह से गंभीर है। हमारी पूरी कोशिश है कि बसों में सिर्फ 20 यात्री ही रहें। बस चालक, परिचालक और मार्शल को कड़े निर्देश हैं कि यदि 20 से अधिक यात्री बस में आ जाते हैं, तो वे बस नहीं चलाएंगे। इससे पहले वे यात्री से अनुरोध करेंगे कि वे बस से नीचे उतर जाएं। यदि नहीं नीचे उतरते हैं, तो 100 नंबर पर काॅल कर पुलिस को बुलाने का निर्देश दिया गया है। जब तक वे नहीं उतरते हैं, तब तक बस नहीं चलाएंगे। परिवहन मंत्री ने कहा कि यदि शिकायत मिलती है कि बस में 20 से अधिक सवारी बैठाई जा रही है, तो चालक, परिचालक और मार्शल के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी। परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने कहा कि दिल्ली सरकार बार-बार निर्देश दे रही है कि कार में दो सवारी और बाइक पर सिर्फ एक व्यक्ति चल सकता है। मुझे लगता है कि इसमें लोगों का भी सहयोग बहुत जरूरी है। फिर भी यदि लोग सरकार के आदेशों का पालन नहीं करते हैं, तो सभी के स्वास्थ्य की सुरक्षा को देखते हुए कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

परिवहन मंत्री गहलोत ने नई एसओपी को लाए जाने पर कहा कि सरकार का जो डिजाॅस्टर का आदेश है, उसको विस्तार दिया गया है। उन्होंने कहा कि हमने थर्मल स्कैनिंग के लिए थर्मल गन्स का ऑर्डर दे दिया है, उसे प्राप्त करने में तीन-चार दिन लगेंगे। हालांकि हमारे पास पहले से ही कुछ गन्स हैं। जिन टर्निमल या बस स्टाप पर अधिक व्यस्तता रहती है, उनमें से कुछ स्थानों पर थर्मल स्कैनिंग शुरू कर दी गई है। उन्होंने कहा कि दिल्ली वासियों को पता है कि अलग-अलग स्थानों पर पका हुआ खाना और राशन बांटा जा रहा है या फिर प्रवासियों के लिए बनाए गए राहत केंद्र हैं, उन सभी स्थानों पर सिविल डिफेंस के वालेंटियर अहम भूमिका निभा रहे हैं। वहीं, क्लस्टर और डीटीसी की बसों में लगाए गए अधिकांश मार्शल रेवेन्यू विभाग में अधिग्रहित किए गए हैं। चूंकि अब हमारी बसें चल रही हैं, इसलिए रेवेन्यू विभाग से वापस देने के लिए कहा गया है। इसके अलावा कुछ और मार्शल को भर्ती करने की जरूरत पड़ती है, तो हम भर्ती करेंगे।

 
Have something to say? Post your comment
More National News
दिल्ली बॉर्डर एक सप्ताह के लिए सील, आगे का फैसला जनता के सुझाव के आधार पर होगा - अरविंद केजरीवाल
मनीष सिसोदिया ने ऑनलाइन और एसएमएस/आईवीआर आधारित शिक्षा की समीक्षा की
दिल्ली को 5000 करोड़ की मदद करे केंद्र सरकार, ताकि सैलरी का भुगतान हो सके: उपमुख्यमंत्री
सिंघी मछली और बगेरी के शौकीन है शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा, के नाम BJPअध्यक्ष बसूलता है रुपया: आप
ब्याज समेत भुगतान किया जाए, किसानों के गन्ने की अरबों रुपए की बकाया राशि: हरपाल सिंह चीमा
कोरोना के मरीज बढ़ रहे, यह चिंता का विषय, लेकिन अभी घबराने जैसी कोई बात नहीं: अरविंद केजरीवाल
होम आइसोलेशन में ठीक हुए मरीजों ने कहा, अभिभावक की तरह ख्याल रखती है दिल्ली सरकार
कोरोना से डरें नहीं, खुद को बचाना जरूरी: मनीष सिसोदिया
पंजाब में कृषि क्षेत्र के ट्यूबवेलों पर बिल लागू करने की योजना का ‘आप’ ने किया सख्त विरोध
ट्रेनों में मौत के जिम्मेदारों पर एफआईआर एवं रेल मंत्री से इस्तीफे की मांग को लेकर AAP का विरोध प्रदर्शन