Tuesday, June 02, 2020
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
मनीष सिसोदिया ने ऑनलाइन और एसएमएस/आईवीआर आधारित शिक्षा की समीक्षा कीदिल्ली को 5000 करोड़ की मदद करे केंद्र सरकार, ताकि सैलरी का भुगतान हो सके: उपमुख्यमंत्रीसिंघी मछली और बगेरी के शौकीन है शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा, के नाम BJPअध्यक्ष बसूलता है रुपया: आपब्याज समेत भुगतान किया जाए, किसानों के गन्ने की अरबों रुपए की बकाया राशि: हरपाल सिंह चीमाकोरोना के मरीज बढ़ रहे, यह चिंता का विषय, लेकिन अभी घबराने जैसी कोई बात नहीं: अरविंद केजरीवालहोम आइसोलेशन में ठीक हुए मरीजों ने कहा, अभिभावक की तरह ख्याल रखती है दिल्ली सरकारकोरोना से डरें नहीं, खुद को बचाना जरूरी: मनीष सिसोदियापंजाब में कृषि क्षेत्र के ट्यूबवेलों पर बिल लागू करने की योजना का ‘आप’ ने किया सख्त विरोध
National

बर्दाश्त नहीं करेंगे बिजली बिलों में की नाजायज ठग्गी - ‘आप’

May 13, 2020 01:24 PM

चण्डीगढ़: आम आदमी पार्टी(आप) पंजाब ने पीएसपीसीएल(बिजली बोर्ड) की ओर से लॉकडाउन के दौरान भेजे गए बिजली बिलों का जोरदार विरोध करते हुए इसको गैर जिम्मेवारना और अंधी ठग्गी वाला कदम करार दिया है। ‘आप’ हैडक्वाटर से जारी बयान के द्वारा पार्टी की कोर समिति के चेयरमैन और विधायक प्रिंसीपल बुद्धराम, विपक्ष की उपनेता बीबी सरबजीत कौर माणूंके, विधायका रुपिन्दर कौर रूबी और व्यापार विंग की प्रधान मैडम नीना मित्तल ने पंजाब सरकार से मांग की है कि कोरोना महामारी और लॉकडाउन के कारण पैदा हुए वित्तीय संकट के मद्देनजर सरकार आम लोगों पर रहम करे और नाजायज तरीके से भेजे बिजली के बिल तुरंत वापस ले कर 2महीनों के बिलों की पूरी माफी का ऐलान करे।

प्रिंसीपल बुद्ध राम समेत ‘आप’ नेताओं ने घेरी सरकार और लॉकडाउन के दौरान भेजे बिजली बिल माफ करने की मांग की

प्रिंसीपल बुद्ध राम और सरबजीत कौर माणूंके ने कहा कि लॉकडाउन समय के दौरान बिना मीटर रीडिंग लिए जिस तरीके से बिजली के बिल आम लोगों, दुकानदारों और किराएदारों को भेजे गए हैं, वह पूरी तरह से नाजायज हैं। पिछले साल मार्च-अप्रैल के महीने के मौसम और तापमान समेत बिजली की खप्त की तुलना इस साल के मार्च-अप्रैल महीने के साथ नहीं की जा सकती। पिछले साल मार्च महीने ही भारी गर्मी पडऩे के कारण पंखे, कूलर और एसी दबा कर इस्तेमाल किए जाने लगे थे, परंतु इस साल मई के दूसरे हफ्ते तक भी बिजली की खप्त पिछले साल के मुकाबले काफी कम है, फिर पिछले साल की तुलना में बिल कैसे भेजे जा सकते हैं?

‘आप’ नेतागण रुपिन्दर कौर रूबी और नीना मित्तल ने सवाल उठाया कि 22अप्रैल से शुरू हुए लॉकडाउन के दौरान लाखों दुकानें, किराए के मकान आदि खुल ही नहीं सके। ताला लगे इन दुकानों और घरों को पिछले साल की तुलना में बिल भेजना कहां का इंसाफ है? ‘आप’ नेताओं ने यह भी सवाल उठाया कि क्या अगले महीने के लिए जब बिजली मीटरों की रीडिंग ली जाएगी तो स्लैब(यूनिट की सीमा) बढ़ने से भी खप्तकारों को फालतू चूना नहीं लगेगा?

 
Have something to say? Post your comment
More National News
दिल्ली बॉर्डर एक सप्ताह के लिए सील, आगे का फैसला जनता के सुझाव के आधार पर होगा - अरविंद केजरीवाल
मनीष सिसोदिया ने ऑनलाइन और एसएमएस/आईवीआर आधारित शिक्षा की समीक्षा की
दिल्ली को 5000 करोड़ की मदद करे केंद्र सरकार, ताकि सैलरी का भुगतान हो सके: उपमुख्यमंत्री
सिंघी मछली और बगेरी के शौकीन है शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा, के नाम BJPअध्यक्ष बसूलता है रुपया: आप
ब्याज समेत भुगतान किया जाए, किसानों के गन्ने की अरबों रुपए की बकाया राशि: हरपाल सिंह चीमा
कोरोना के मरीज बढ़ रहे, यह चिंता का विषय, लेकिन अभी घबराने जैसी कोई बात नहीं: अरविंद केजरीवाल
होम आइसोलेशन में ठीक हुए मरीजों ने कहा, अभिभावक की तरह ख्याल रखती है दिल्ली सरकार
कोरोना से डरें नहीं, खुद को बचाना जरूरी: मनीष सिसोदिया
पंजाब में कृषि क्षेत्र के ट्यूबवेलों पर बिल लागू करने की योजना का ‘आप’ ने किया सख्त विरोध
ट्रेनों में मौत के जिम्मेदारों पर एफआईआर एवं रेल मंत्री से इस्तीफे की मांग को लेकर AAP का विरोध प्रदर्शन