Wednesday, July 15, 2020
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
AAP के मनोज त्यागी, विकास गोयल, प्रेम चौहान ने एमसीडी में संभाला नेता विपक्ष का कार्यभारअब 'दिल्ली कोरोना' एप पर दिल्ली के सभी अस्पतालों का अधिकृत हेल्पलाइन नंबर प्रदर्शितभगवा सोच को बाल मनों पर थोपने लगी मोदी सरकार, संसद तक विरोध करेंगे - भगवंत मानसीएम केजरीवाल के हस्तक्षेप का दिखने लगा परिणाम - मौत के आंकड़ों में आई गिरावटबिहार की जनता कोरोनावायरस से बचना चाह रही है, वहीं NDA सरकार बिहार में चुनाव चाह रही है: आपबिना मापदंड के लाखों उपभोक्ताओं के राशन कार्ड काटना गलत, AAP ने सौंपा मांग पत्र - मनजीत सिंह बिलासपुरकुवैत में 8लाख भारतीय कामगारों का रोजगार बचाने के लिए दखलअन्दाजी करें प्रधानमंत्री: भगवंत मानकोरोना काल में आर्थिक बदहाल प्राइवेट शिक्षकों को आर्थिक सहायता मुहैया कराए, बिहार सरकार: AAP
National

जनता और कारोबारियों पर ध्यान दें सीएम त्रिवेंद्र, व्यापारियों के लिए स्पष्ट नीति बनाएं: कलेर

April 27, 2020 11:32 PM

आम आदमी पार्टी के उत्तराखंड प्रदेश अध्यक्ष एसएस कलेर ने मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत द्वारा कोरोना लॉकडाउन अवधि के दौरान प्रदेश में व्यापारियों द्वारा दुकान व प्रतिष्ठानों को खोलने को लेकर स्पष्ट नीति तय करने की मांग की है, और उनके खुलने-बंद के लिए नित बदलते आदेशों की निंदा की है। उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से प्रदेश के नौ जनपदों में व्यापारियों को सुबह सात से शाम छह बजे तक दुकान और प्रतिष्ठान खोलने का फरमान जारी किया गया है, लेकिन मुख्यमंत्री रावत ने महज एक दिन बाद ही आदेश को वापस ले लिया गया, जिससे असमंजस के साथ विवाद की स्थिति बन रही है। ऐसे में आम आदमी पार्टी ने प्रदेश सरकार से अपील की है कि व्यापारियों के हित में स्पष्ट आदेश निर्गत किए जाएं।

प्रदेश अध्यक्ष कलेर ने प्रदेश सरकार की आलोचना करते हुए कहा कि गुरुद्वारों की ओर से दी जा रही लंगर सेवा को अधिकारियों के माध्यम से बंद कराने का प्रयास कर रहे हैं। सिर्फ अफसरों के माध्यम से चयनित संस्थाओं को ही राशन बांटने की अनुमति दी जा रही है। जबकि अन्य राजनीतिक दलों व सामाजिक कार्यकर्ताओं को कोरोना लॉक डाउन के दौरान जरूरतमंदों की मदद करने से रोका जा रहा है। और लॉकडाउन के बीच खटीमा समेत अन्य स्थानों पर खासकर रात्रि में धड़ल्ले से अवैध खनन का कार्य बड़ी जोर-शोर से किया जा रहा है, लॉकडाउन पीरियड में, और रात्रि में भी नदियों में खनन सामग्री लेकर ट्रकों की आवाजाही बेरोकटोक चल रही है। सरकार इस पर नियंत्रण में असफल साबित हुई है, इससे जहां एक ओर सरकार को राजस्व की हानि हो रही है, तो वहीं दूसरी ओर सरकार द्वारा लॉकडाउन के दौरान दिए जा रहे आदेशों की धज्जियां भी उड़ाई जा रही हैं। इसकी भी जांच करने की आवश्यकता है कि अवैध खनन का धंधा कैसे चल रहा है? कलेर ने प्रदेश सरकार से अनुरोध किया कि ड्रोन द्वारा रात-दिन निगरानी करवाकर दोषियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई किया जाए।

Have something to say? Post your comment
More National News
अवैध खनन के मामले सरकार के संरक्षण के बिना संभव नहीं कोई भी गैर-कानूनी धंधा आईएलबीएस के बाद अब एलएनजेपी अस्पताल में खुला दिल्ली का दूसरा प्लाज्मा बैंक
दिल्ली में शिक्षा क्रांति : चपरासी का बेटा भी लाया 12वीं में 98% अंक
12वीं के नतीजे ऐतिहासिक, सपने जैसी लगती है ये सफलता: मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल
AAP के मनोज त्यागी, विकास गोयल, प्रेम चौहान ने एमसीडी में संभाला नेता विपक्ष का कार्यभार
अब 'दिल्ली कोरोना' एप पर दिल्ली के सभी अस्पतालों का अधिकृत हेल्पलाइन नंबर प्रदर्शित
भगवा सोच को बाल मनों पर थोपने लगी मोदी सरकार, संसद तक विरोध करेंगे - भगवंत मान
सीएम केजरीवाल के हस्तक्षेप का दिखने लगा परिणाम - मौत के आंकड़ों में आई गिरावट
बिहार की जनता कोरोनावायरस से बचना चाह रही है, वहीं NDA सरकार बिहार में चुनाव चाह रही है: आप
किसानों को तबाह करने पर तुली कैप्टन सरकार - हरपाल सिंह चीमा