Wednesday, July 15, 2020
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
AAP के मनोज त्यागी, विकास गोयल, प्रेम चौहान ने एमसीडी में संभाला नेता विपक्ष का कार्यभारअब 'दिल्ली कोरोना' एप पर दिल्ली के सभी अस्पतालों का अधिकृत हेल्पलाइन नंबर प्रदर्शितभगवा सोच को बाल मनों पर थोपने लगी मोदी सरकार, संसद तक विरोध करेंगे - भगवंत मानसीएम केजरीवाल के हस्तक्षेप का दिखने लगा परिणाम - मौत के आंकड़ों में आई गिरावटबिहार की जनता कोरोनावायरस से बचना चाह रही है, वहीं NDA सरकार बिहार में चुनाव चाह रही है: आपबिना मापदंड के लाखों उपभोक्ताओं के राशन कार्ड काटना गलत, AAP ने सौंपा मांग पत्र - मनजीत सिंह बिलासपुरकुवैत में 8लाख भारतीय कामगारों का रोजगार बचाने के लिए दखलअन्दाजी करें प्रधानमंत्री: भगवंत मानकोरोना काल में आर्थिक बदहाल प्राइवेट शिक्षकों को आर्थिक सहायता मुहैया कराए, बिहार सरकार: AAP
Delhi Election

योगेन्द्र यादव और प्रशांत भूषण को हटाने की वजह|

April 10, 2015 05:04 PM

दिल्ली के म‌ुख्यमंत्री और आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल पार्टी ने दो बड़े नेताओं को पार्टी के राष्ट्रीय कार्यकारिणी से निकालने को सही ठहराते हुए उसकी वजह बताई।

अरविंद ने बृहस्पतिवार को कहा कि योगेंद्र यादव और प्रशांत भूषण को पार्टी के उच्च पदों से इसलिए हटाया क्योंकि उनके अनुसार ये नेता अपनी मर्यादा लांघ चुके थे और पार्टी के खिलाफ षड्यंत्र रच रहे थे।

इसके साथ ही केजरीवाल ने अजीत झा और आनंद कुमार के खिलाफ अमार्यादित भाषा का उपयोग करने के लिए भी खेद जताया। उन्होंने कहा कि, 'मैं इंसान हूं और मैं गलतियां करता हूं। मैं गुस्से में था। इस तरह की भाषा का उपयोग नहीं करना चाहिए था।
 
अरविंद केजरीवाल ये सारी बातें आप नेता आशुतोष की ‌नई किताब 'द क्राउन प्रिंस, द ग्लेडिएटर एंड द होप' के लॉन्चिंग के वक्त बोल रहे थे। केजरीवाल ने इस बात से भी इंकार किया कि पार्टी में अलग विचार रखने वालों के लिए जगह नहीं है।

उन्होंने कहा कि यह कहना गलत होगा कि आशुतोष, मनीष और विश्वास हर बात पर राजी हो जाते हैं। वो सब अपना सब कुछ दांव पर लगाकर पार्टी में शामिल हुए हैं।

लेकिन हर चीज की एक हद होती है और सबकुछ एक सलीके से किया जाता है। चार ‌दिवारी के अंदर हम बहुत झगड़ते हैं पर बाहर हम एक टीम हैं। जब सीमाएं लांघी जाती हैं तो दुख होता है।

आप संयोजक केजरीवाल ने कहा कि वह पिछले साल राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में टूट गए थे क्योंकि षड्यंत्र रचे जा रहे थे और निजी हमले किए जा रहे थे। संभवतः भावनात्मक रूप से ये सब संभालना मेरे लिए मुश्किल हो रहा था। शायद इसलिए मैं भावनात्मक हो गया।

Have something to say? Post your comment
More Delhi Election News