Wednesday, April 08, 2020
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
राशन कार्ड के लिए आवेदन करने वालों को कल से स्कूलों में बांटा जाएगा राशन - अरविंद केजरीवालमुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए सभी विधायकों से की चर्चा, कोरोना के खिलाफ लड़ाई में सहयोग भी मांगा'कोरोना वायरस' पर राजनीति करने की बजाए केजरीवाल सरकार से सबक लें कैप्टन अमरिंदर - भगवंत मानजिनके पास राशन कार्ड नहीं है, वे "ई-डिस्ट्रिक्ट" वेबसाइट पर आवेदन कर दें, सरकार देगी मुफ्त राशन - अरविंद केजरीवाललॉक डाउन में बेसहारा गरीबों के सहारा बने आम आदमी पार्टी के विधायकमुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने दिल्ली छोड़कर जा रहे लोगों से अपील की कि "जो जहां है, वहीं रहे"ਕੋਰੋਨਾ ਵਾਇਰਸ ਨਾਲ 'ਗਰਾਊਂਡ ਜ਼ੀਰੋ' 'ਤੇ ਜੰਗ ਲੜਨ ਵਾਲਿਆਂ ਲਈ ਵਿਸ਼ੇਸ਼ ਐਲਾਨ ਕਰੇ ਕੈਪਟਨ ਸਰਕਾਰ - ਆਪकेजरीवाल सरकार ने जरूरी सेवा से जुड़े हज़ारों लोगों को जारी किया ई-पास, इसकी जमकर हुई सराहना
National

मनीष सिसोदिया का अमित शाह को निमंत्रण : पटपड़गंज में रोड शो कर लें, "मैं नया स्कूल दिखा दूंगा"

January 24, 2020 07:16 PM

नई दिल्ली(प्रेस विज्ञप्ति, 24जनवरी): केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह के दिल्ली में नए स्कूल का निर्माण नहीं कराने के आरोप पर आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता और उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने प्रतिक्रिया दी है। उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने गृहमंत्री अमित शाह को पटपड़गंज विधानसभा में रोड शो करने का निमंत्रण दिया है और उन्होंने कहा कि "गृहमंत्री अमित शाह पटपड़गंज में कोई भी जनसभा या रोड शो रख लें, मैं उनको यहां दिल्ली सरकार द्वारा बनाया गया ऐसा स्कूल दिखाउंगा, जो भाजपा शासित किसी भी राज्य के मुख्यमंत्री ने अपने राज्य में न तो देखा होगा और न तो बनवाया होगा"। यदि वह मेरे विधानसभा क्षेत्र में नहीं आना चाहते हैं, तो वह दिल्ली का कोई भी क्षेत्र बता दें। मैं उन्हें उस क्षेत्र में दिल्ली सरकार द्वारा बनाए गए स्कूलों का दौरा कराऊंगा। अरविंद केजरीवाल सरकार में न केवल नए स्कूलों का निर्माण हुआ है, बल्कि दिल्ली के पुराने स्कूलों की भी कायापलट हुई है।मनीष सिसोदिया ने यह भी कहा कि 2014 और 2019 के चुनावों में दिल्ली की जनता ने भाजपा को 7 के 7 सांसद जीता कर दिए हैं। यदि पिछले 6 सालों में भाजपा के सातों सांसदों ने कोई काम किया होता, तो गृहमंत्री अमित शाह जी को इस प्रकार के जुमले बोलने की जरूरत ही नहीं पड़ती।

'आप' पार्टी मुख्यालय में हुई प्रेस वार्ता को संबोधित करते हुए दिल्ली के उपमुख्यमंत्री एवं आम आदमी पार्टी के वरिष्ठ नेता मनीष सिसोदिया ने बृहस्पतिवार को दिल्ली में गृहमंत्री अमित शाह जी द्वारा एक जनसभा में दिए गए भाषण पर प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा कि यह अच्छी बात है कि अब केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह जी अपने भाषणों में दिल्ली पर बात कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि पार्टी बनाते समय हमने कहा था कि हम राजनीति बदलने आए हैं और यह बदलती राजनीति का बहुत बड़ा प्रमाण है कि आज गृहमंत्री अमित शाह जी दिल्ली में हुए कामों पर चर्चा कर रहे हैं।

अब अमित शाह जी ने भी माना कि दिल्ली की सरकार ने काम किया - मनीष सिसोदिया

मनीष सिसोदिया ने कहा कि पूर्व में अमित शाह जी ने अपने एक भाषण में कहा था कि मैं दूरबीन लेकर ढूंढ रहा हूं, परंतु दिल्ली सरकार द्वारा लगाए गए सीसीटीवी कैमरा कहीं नजर नहीं आ रहे। जिस जगह पर अमित शाह जी ने यह भाषण दिया था, उन्हीं गलियों में लगे सीसीटीवी कैमरे के वीडियो मैंने मीडिया के माध्यम से अमित शाह जी और दिल्ली की जनता को दिखाए थे। बृहस्पतिवार के भाषण में अमित शाह जी ने अपनी दूरबीन उतारी और पहली बार उन्होंने माना कि दिल्ली की सरकार ने दिल्ली में कुछ काम किया है। अमित शाह जी ने माना है कि दिल्ली में कुछ कैमरे लगे हैं। मनीष सिसोदिया ने कहा कि गृह मंत्री जी के पास तमाम विभाग हैं, जो उनको दिल्ली के विकास से जुड़ी खबरें पहुंचाते होंगे। परंतु फिर भी उनकी जानकारी के लिए मैं बता देना चाहता हूं कि दिल्ली में कुछ नहीं, बल्कि 1.5लाख कैमरे लगाने का वादा किया था। उसकी जगह पर 2 लाख कैमरे लगाए जा चुके हैं और 1 लाख अतिरिक्त कैमरे लगाने का काम चल रहा है।

गृहमंत्री के मोबाइल की बैट्री खत्म हो जाएगी, तो देश कैसे चलेगा - मनीष सिसोदिया

गृहमंत्री अमित शाह द्वारा दिए गए एक अन्य बयान कि दिल्ली में एक भी स्कूल का निर्माण नहीं हुआ है, उस पर प्रतिक्रिया देते हुए मनीष सिसोदिया ने कहा कि मैं गृह मंत्री जी को अपनी विधानसभा पटपड़गंज में आमंत्रित करता हूं। वह अपनी कोई जनसभा या रोड शो मेरी विधानसभा में रखें। मैं उनको पटपड़गंज में बना दिल्ली सरकार का एक ऐसा स्कूल दिखाऊंगा, जो भाजपा के किसी भी राज्य के किसी भी मुख्यमंत्री ने अपने राज्य में ऐसा स्कूल आज तक न देखा होगा और न बनवाया होगा। इस स्कूल का नाम ही स्कूल ऑफ एक्सीलेंस है।

दिल्ली में भाजपा के सातों सांसदों ने कोई काम किया होता, तो गृहमंत्री जी को इस प्रकार के जुमले बोलने की जरूरत नहीं पड़ती - मनीष सिसोदिया

मनीष सिसोदिया ने कहा कि यदि गृहमंत्री जी मेरी विधानसभा में नहीं आना चाहते हैं, तो वह दिल्ली का कोई भी क्षेत्र बता दें। मैं उन्हें उस क्षेत्र में दिल्ली सरकार द्वारा बनाए गए स्कूलों का दौरा कराऊंगा। न केवल नए स्कूलों का निर्माण हुआ है, बल्कि दिल्ली के पुराने स्कूलों की भी कायापलट हुई है। चुटकी लेते हुए मनीष सिसोदिया ने कहा कि मुझे लगता है कि शायद गृहमंत्री जी दिल्ली सरकार के स्कूलों को भी दूरबीन लेकर ढूंढ रहे हैं। कल गृहमंत्री अमित शाह जी ने अपने भाषण में यह भी कहा कि मैं दिल्ली में फ्री वाईफाई ढूंढता रह गया। मोबाइल की बैटरी खत्म हो गई, परंतु फ्री वाईफाई नहीं मिला। मनीष सिसोदिया ने इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि यह बेहद ही गंभीर है कि यदि देश के गृहमंत्री के ही मोबाइल की बैटरी खत्म हो जाएगी, तो देश कैसे चलेगा। उन्होंने कहा कि अरविंद केजरीवाल जी ने दिल्ली में 200 यूनिट मुफ्त बिजली योजना लागू की हुई है। आप अपने मोबाइल की बैटरी चार्ज करके रखा करें।

 
Have something to say? Post your comment
More National News
सांसद संजय सिंह ने की अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के बयान की निंदा, बोले - 'ट्रंप की धमकी मोदी जी को नहीं, 135करोड़ भारतीयों को है'
राशन कार्ड के लिए आवेदन करने वालों को कल से स्कूलों में बांटा जाएगा राशन - अरविंद केजरीवाल
बेलगाम हुए शराब और केबल माफिया पर क्यों नहीं लगाम कस रही कैप्टन सरकार - हरपाल सिंह चीमा
थालियां बजाने और मोमबत्तियां जलाने जैसे जुमलों की बजाए लोगों की मुश्किलों के हल के लिए गंभीर हो सरकार - कुलतार संधवां
गुरुद्वारा मजनूं का टीला पर एफआईआर दर्ज करने में केजरीवाल सरकार का रत्तीभर भी सम्बन्ध नहीं - भगवंत मान
कोरोना से लड़ने के लिए वित्तीय सहायता न देकर दिल्ली के साथ राजनीति कर रही केंद्र सरकार - मनीष सिसोदिया
दिल्ली सरकार की कोशिश कोरोना न फैले, इससे मौतें न हो, मैं खुद एक-एक मरीज पर नजर रख रहा हूँ- अरविंद केजरीवाल
कोरोना ग्रस्त मृतकों के सुरक्षित और सम्मानजनक अंतिम संस्कार के लिए ऑर्डिनेंस जारी करे कैप्टन अमरिंदर सरकार - आप
मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए सभी विधायकों से की चर्चा, कोरोना के खिलाफ लड़ाई में सहयोग भी मांगा
लॉकडाउन के बीच दिल्ली सरकार द्वारा ऑनलाइन शिक्षण गतिविधियों की हुई शुरुआत