Friday, January 24, 2020
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
केंद्र की भाजपा सरकार की सहमति से डीडीए ने गरीबों को फ्लैट देने के नाम पर किया घोटाला - संजय सिंहबहस करें कैप्टन, बता देंगे 5 मिनटों में कैसे रद्द होंगे महंगे बिजली समझौते - अमन अरोड़ाभाजपा ने डाला महंगी शिक्षा का बोझ, सीबीएसई स्कूल में 10वीं और 12वीं के फीस बढ़ी - मनीष सिसोदियादिल्ली में पूर्व सैनिकों ने अरविंद केजरीवाल को दिया समर्थन5 साल दिन रात काम करती रही आप सरकार, भाजपा और मीडिया की तंद्रा अब भंग हुईआम आदमी पार्टी का 2020 विधानसभा चुनाव स्लोगन “अच्छे बीते 5 साल, लगे रहो केजरीवाल” लांचभाजपा सांसद विजय गोयल ने किया दिल्ली की जनता का अपमान: संजय सिंहहार की हताशा में भाजपा दिल्ली में गंदी राजनीति पर उतारू, हिंसा की विस्तृत जांच हो, दोषियों को मिले सजा - गोपाल राय
National

बादल-कैप्टन की गहरी दोस्ती पर कैप्टन की क्लीन-चिट्ट ने लगाई पक्की मोहर -भगवंत मान

September 25, 2019 11:36 AM

आम आदमी पार्टी (आप) के राज्य प्रधान और मैंबर पार्लियामेंट भगवंत मान ने मुख्य मंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह की ओर से श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी और बहबल कलां-कोटकपूरा गोलीकांड मामले में तत्कालीन मुख्य मंत्री प्रकाश सिंह बादल को स्पष्ट शब्दों में क्लीन-चिट्ट दिए जाने पर सख्त ऐतराज जताया है। भगवंत मान ने कहा कि विशेष जांच टीम (सिट) की जांच पूरी होने से पहले ही बादल को क्लीन-चिट्ट दिए जाने से दोनों परिवारों की 'गहरी दोस्ती' एक बार फिर जनतक हो गई है।पार्टी हैडक्वाटर द्वारा जारी बयान में भगवंत मान ने कहा, '' बादल-कैप्टन में जो गहरी दोस्ती है वह अब पूरी तरह से जनतक हो गई है। हम (आप) तो शुरू से ही कहते आ रहे है कि दोनों (बादल-कैप्टन) आपस में मिले हुए हैं व पूरी तरह से एकजुट हैं। यदि किसी के मन में थोड़ा बहुत संदेह था, तो कैप्टन की इस क्लीन-चिट्ट ने सभी संदेह दूर कर दिए। सडक़ से ले कर विधान सभा और संसद तक आम आदमी पार्टी बादल-कैप्टन की गहरी दोस्ती के बारे में जो खुलासे करती रही है, कैप्टन ने उस पर खुद ही मोहर लगा दी है।'' 

भगवंत मान ने सवाल उठाया कि मुख्य मंत्री जांच पूरी होने से पहले किसी को भी क्लीन-चिट्ट कैसे दे सकते हैं?मान के मुताबिक, ''वास्तव में कैप्टन अमरिन्दर सिंह अपनी सिट से जो नतीजा लेना चाहते हैं, वह पहले ही जुबान पर आ गया कि बादलों का बेअदबी मामलों में कोई हाथ नहीं।''     

भगवंत मान ने आरोप लगाया कि कैप्टन का बादल को कालीन-चिट्ट देने वाला बयान सिट की जांच को सीधे तौर पर प्रभावित करता है। सिट के लिए साफ-साफ संदेश है कि बादलों को क्लीन-चिट्ट दे दी जाए।

जितनी देर कैप्टन-बादल सत्ता में रहेंगे नंबर एक राज्य नहीं बन सकता पंजाब-आप

     

भगवंत मान ने यह भी पूछा कि जांच समयबद्ध क्यों नहीं की जा रही। उन आरोप लगाया कि मामले को ज्यादा से ज्यादा समय तक लटका कर कैप्टन न केवल बादलों को बेअदबी कांड से बचा रहे हैं, बल्कि बादलों की राजनैतिक तौर पर खो चुके छवि को फिर बरकरार करना चाहते हैं, उप-चुनाव से ठीक पहले ऐसे बयान का एक मकसद यह भी है।     

मान ने कहा कि ऐसा करके कैप्टन अमरिन्दर सिंह ने इंसाफ के लिए तड़प रही समूची संगत के हृदय एक बार से छलनी कर दिया हैं।     

भगवंत मान ने कैप्टन की तरफ से पंजाब को एक नंबर राज्य बनाने तक राजनीति न छोडऩे के दावे पर तंज कसते कहा, ''कैप्टन साहिब जब तक पंजाब की सत्ता पर आप काबिज रहोगे तब तक पंजाब खुशहाली के मामले में कभी भी नंबर एक राज्य नहीं बन सकता।''भगवंत मान के अनुसार पंजाब का भविष्य कैप्टन और बादल परिवारों से मुक्त सत्ता में है। आम आदमी पार्टी इसका इकलौता बदल है।

Have something to say? Post your comment
More National News
मनीष सिसोदिया का अमित शाह को निमंत्रण : पटपड़गंज में रोड शो कर लें, "मैं नया स्कूल दिखा दूंगा"
निर्भया के दोषियों को फांसी में विलंब के लिए सीधे तौर पर भाजपा जिम्मेदार - संजय सिंह
दो दिन के लिए दिल्ली पुलिस देकर देखें, हम दिलाएंगे निर्भया के दोषियों को फांसी - मनीष सिसोदिया
चुनाव की वजह से रुकना नहीं चाहिए दिल्ली का विकास, आम बजट में दिल्ली के लिए खूब घोषणाएं करे केंद्र सरकार - अरविंद केजरीवाल
भाजपा को वोट देना मतलब 'आप' सरकार की ओर से शुरू की गई मुफ्त योजनाओं को खत्म करना - मनीष सिसोदिया
केंद्र की भाजपा सरकार की सहमति से डीडीए ने गरीबों को फ्लैट देने के नाम पर किया घोटाला - संजय सिंह
दो हजार कार्यकर्ता संभालेंगे दिल्ली चुनाव का मोर्चा, तीसरी बार बनेगी “आप” की सरकार: नवीन जयहिन्द
सब्सिडी का लाभ ले रहे लोगों को बिकाऊ कहना दिल्ली का अपमान, चुनाव में जनता देगी जवाब: मनीष सिसोदिया
बहस करें कैप्टन, बता देंगे 5 मिनटों में कैसे रद्द होंगे महंगे बिजली समझौते - अमन अरोड़ा
फर्जी रजिस्ट्री देकर भाजपा ने दिल्ली के 40लाख लोगों को दिया धोखा - मनीष सिसोदिया