Wednesday, November 21, 2018
Follow us on
Download Mobile App
BREAKING NEWS
सिग्नेचर ब्रिज यानि दिल्ली के नए हस्ताक्षरआप में शामिल हुए राजोरिया, मुरैना से मिला था बसपा का टिकट28 को होने वाली केजरीवाल की जयपुर जनसभा को मिली मंजूरीकिसान विरोधी भाजपा सरकार का चेहरा हुआ बेनकाब, राजस्थान में आप नेता एवं किसान महापंचायत के अध्यक्ष रामपाल जाट और सैकड़ो आप कार्यकर्ताओं को किया गिरफ्तारअनुमति के बिना जारी है रामपाल जाट का अनशन बौखलाई वसुंधरा सरकार, नहीं दे रही है अनुमतिबेइन्साफी का शिकार हैं आशा, आंगनवाड़ी, मिड -डे-मील और ईजीएस वर्कर -प्रो. बलजिन्दर कौरकर्मचारियों को नौकरी से निकालना खट्टर सरकार की तानाशाही : ओमनारायणराजस्थान की राजनीति में तूफान, प्रदेश के बड़े किसान नेता भाजपा छोड़ ’आप’ में शामिल
National

अनुमति के बिना जारी है रामपाल जाट का अनशन बौखलाई वसुंधरा सरकार, नहीं दे रही है अनुमति

October 23, 2018 08:23 PM
किसान नेता रामपाल जाट

अनुमति के बिना जारी है रामपाल जाट का अनशन बौखलाई वसुंधरा सरकार, नहीं दे रही है अनुमति

आम आदमी पार्टी की ओर से किसानों की मांग को लेकर धरना देने पहुंचे कार्यकर्ताओं और किसानों को पुलिस ने लिया हिरासत में।थाने पर पहुंचकर की जबरदस्त नारेबाजी

जयपुर। किसानों की विभिन्न मांगों को लेकर किसान नेता रामपाल जाट के नेतृत्व में 23 अक्टूबर से होने जा रहा अनिश्चतकालीन अनशन मंगलवार से शुरू हो गया। पुलिस प्रशासन ने उन्हें शहीद स्मारक पहुँचने से पहले रोटरी भवन पर रोक लिया, रामपाल जाट को रोके जाने की खबर सुनते ही बड़ी संख्या में आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता और किसान विधायकपुरी थाने पहुंचे और वहां जमकर नारेबाजी की। बाद में इन नेताओं को रामपाल जाट समेत हिरासत में ले लिया गया। उधर, जाट ने अपना अनशन जारी रखने का ऐलान किया है।
किसानों को खराब हुई फसल की बीमा राशि के भुगतान और समर्थन मूल्य पर फसल की खरीद शुरू करने समेत विभिन्न मुद्दों को लेकर आम आदमी पार्टी की चुनाव घोषणा पत्र समिति के चेयरमैन और किसान नेता रामपाल जाट ने करीब 100 किसानों के साथ गर्वनमेंट हॉस्टल स्थित शहीद स्मारक पर अनिश्चतकालीन अनशन और धरने की घोषणा की थी। दूसरी तरफ पुलिस प्रशासन ने इस धरने की मंजूरी यह कहते हुए नहीं दी कि इसमें बहुत ज्यादा भीड़ जुट सकती है।
आज सुबह 11 बजे प्रस्तावित धरना स्थल पर किसान और आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ता पार्टी के समन्वयक देवेंद्र शास्त्री के नेतृत्व में जुटने लगे तो वहां पहले से तैनात पुलिसकर्मियों ने उन्हें बैठने नहीं दिया।

किसानों को खराब हुई फसल की बीमा राशि के भुगतान और समर्थन मूल्य पर फसल की खरीद शुरू करने समेत विभिन्न मुद्दों को लेकर आम आदमी पार्टी की चुनाव घोषणा पत्र समिति के चेयरमैन और किसान नेता रामपाल जाट ने करीब 100 किसानों के साथ गर्वनमेंट हॉस्टल स्थित शहीद स्मारक पर अनिश्चतकालीन अनशन और धरने की घोषणा की थी। 

 इस दौरान वहां मौजूद आम आदमी पार्टी के कार्यकर्ताओं और किसानों ने जमकर नारे लगाए। उन्होंने हमारी फसल का पूरा मोल दो, किसान एकता जिंदाबाद, केजरीवाल जिंदाबाद, जो किसानों के काम करेगा वहीं देश पर राज करेगा, आम आदमी आ रहा है सिंहासन खाली करो जैसे नारे लगाए। मामला गरमाते देख पुलिस प्रशासन ने इन सभी को ​बस में बिठाकर अजमेर रोड कमला नेहरू नगर के पास ले जाकर छोड़ दिया।

अनशन जारी रहेगा चाहे कहीं भी रहूं— रामपाल जाट

आम आदमी पार्टी की चुनाव घोषणा पत्र समिति के चेयरमैन और किसान नेता रामपाल जाट ने कहा कि उनका अनशन मंगलवार से शुरू हो गया है। पुलिस उन्हें जेल में डाले या फिर कहीं ओर ले जाए, आंदोलन जारी रहेगा।
उन्होंने बताया कि भाजपा सरकार चुनाव आचार संहिता के नाम पर किसानों के साथ अन्याय कर रही है। प्रीमियम जमा होने के बाद भी किसान को उसकी खराब हुई फसल के नुकसान की भरपाई नहीं की जा रही है। यह एक रूटीन काम है। दूसरे सरकार ने समर्थन मूल्य की घोषणा कर दी लेकिन अभी खरीद ही शुरू नहीं की गई। आॅनलाइन रजिस्ट्रेशन का सिस्टम ठप है। ऐसे में किसान को समर्थन मूल्य से कम पर अपनी फसल बेचना पड़ रहा है जो नियमों को उल्लंघन है।

सरकार लोकतंत्र की हत्या कर रही है— देवेंद्र शास्त्री

आम आदमी पार्टी के प्रदेश समन्वयक देवेंद्र शास्त्री ने बताया कि राज्य सरकार राजनीतिक आधार पर पार्टी के साथ भेदभाव कर रही है। एक राजनीकि दल को शांतिपूर्वक ढंग से धरना—प्रदर्शन करने का संवैधानिक अधिकार है। अनिश्चतकालीन अनशन और धरने की मंजूरी के लिए नियमानुसार आवेदन कर दिया गया था। पुलिस प्रशासन पहले जगह तय करने को लेकर मंजूरी देने का मामला टालते रहे और बाद में यह कह कर मना कर दिया कि इस आंदोलन के दौरान भारी भीड़ जुटेगी। जबकि पार्टी पुलिस प्रशासन द्वारा सुझाए स्थनों पर भी धरना देने को तैयार है। उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस प्रशासन सरकार के इशारे पर काम कर रहा है। किसानों की समस्याओं को लेकर सरकार कटघरे में खड़ी है। ऐसे में आंदोलन होने से उसे विधानसभा चुनाव में और ज्यादा नुकसान होने का डर सता रहा है। चुनाव आचार संहित के बावजूद प्रशासन भाजपा के इशारे पर काम कर रहा है। इससे पहले दिल्ली के सीएम और पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक अरविंद केजरीवाल की सभा की मंजूरी को लेकर भी टालमटोल की गई।

Have something to say? Post your comment
More National News
भाजपा सांसद का सिग्नेचर ब्रिज उद्घाटन समारोह में हंगामा
सिग्नेचर ब्रिज यानि दिल्ली के नए हस्ताक्षर
आप में शामिल हुए राजोरिया, मुरैना से मिला था बसपा का टिकट
महिलाओं ने लोकसभा चुनावों में 'आप' को वोट देने का किया आह्वान
नगर-निगम के स्कूलों की बुरी हालत पर भाजपा को घेरा
28 को होने वाली केजरीवाल की जयपुर जनसभा को मिली मंजूरी
किसान विरोधी भाजपा सरकार का चेहरा हुआ बेनकाब, राजस्थान में आप नेता एवं किसान महापंचायत के अध्यक्ष रामपाल जाट और सैकड़ो आप कार्यकर्ताओं को किया गिरफ्तार
बेइन्साफी का शिकार हैं आशा, आंगनवाड़ी, मिड -डे-मील और ईजीएस वर्कर -प्रो. बलजिन्दर कौर
कर्मचारियों को नौकरी से निकालना खट्टर सरकार की तानाशाही : ओमनारायण
राजस्थान की राजनीति में तूफान, प्रदेश के बड़े किसान नेता भाजपा छोड़ ’आप’ में शामिल